23 मई : बस एक क्लिक में पढ़िए, दिनभर की 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Thursday, 23 May 2019 04:55:33 PM
23 May top 10 news

फिर एक बार बीजेपी सरकार, पूरे देश में प्रचंड मोदी लहर

Once again, the BJP government

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में लगातार दूसरी बार प्रचंड मोदी लहर पर सवार भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) रिकॉर्ड सीटों के साथ फिर से केंद्र की सत्ता पर काबिज होने जा रही है। निर्वाचन आयोग की ओर से बृहस्पतिवार को जारी मतगणना की ताजा जानकारी के अनुसार भाजपा ने जहां एक सीट अपनी झोली में डाल ली है, वहीं 299 सीटों पर आगे चल रही है। उधर, कांग्रेस 50 सीटों पर आगे है। आयोग ने 542 सीटों के रुझान/परिणाम जारी किए हैं।

कर्नाटक की हावेरी सीट पर भाजपा के उदासी एस सी ने एक लाख 40 हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज की है। ये चुनाव 68 वर्षीय मोदी को दशक के सबसे लोकप्रिय नेता के तौर पर स्थापित कर रहे हैं, निर्वाचन आयोग द्बारा जारी मतगणना के आंकड़े दिखाते हैं कि भाजपा अपने 2014 के प्रदर्शन से भी बेहतर करने जा रही है। वाराणसी से चुनाव लड़ रहे मोदी अपने निकटतम प्रतिद्बंद्बी से करीब डेढ़ लाख वोटों से आगे चल रहे थे जबकि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह गांधीनगर में अपने करीबी उम्मीदवार से चार लाख से ज्यादा मतों से आगे चल रहे थे।

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आम चुनावों में यह ऐतिहासिक जीत मोदीजी के दूरदर्शी नेतृत्व, अमित शाह के जोश और जमीनी स्तर पर लाखों भाजपा कार्यकर्ताओं के कठिन परिश्रम का नतीजा है। चुनाव रुझानों का बाजार ने भी स्वागत किया है। बीएसई के सेंसेक्स ने पहली बार 40 हजार की ऊंचाई को छुआ, वहीं एनएसई के निफ्टी ने 12 हजार के स्तर को पार किया। अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया भी 14 पैसे मजबूत होकर 69.51 पैसे पर रहा।

अगर मौजूदा रुझान अंतिम परिणामों में परिवर्तित हुए तो भाजपा 2014 के अपने प्रदर्शन में सुधार कर ज्यादा सीटें जीतती दिख रही है। 2014 में भाजपा ने लोकसभा की 543 सीटों में से 282 सीटें जीती थीं जबकि इस बार वह अपने दम पर 3०० सीटों के करीब पहुंचती दिख रही है। भाजपा नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) 2०14 की 336 सीटों के मुकाबले 344 सीटों पर काबिज होता दिख रहा है। 

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बधाई दी। सुषमा ने ट्वीट किया,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी - भारतीय जनता पार्टी को इतनी बड़ी विजय दिलाने के लिए आपका बहुत बहुत अभिनन्दन । मैं देशवासियों के प्रति हृदय से कृतज्ञता व्यक्त करती हूँ। मतगणना के रुझानों के आधार पर चुनाव परिणामों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता, उनकी सरकार के पिछले पांच साल के कार्यों और चुनाव प्रचार अभियान का नतीजा माना जा रहा है।

चुनाव प्रचार राष्ट्रीय सुरक्षा, राष्ट्रवाद और हिदुत्व के इर्द-गिर्द रहा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगातार कांग्रेस पार्टी पर वंशवादी राजनीति को लेकर निशाना साधा। विपक्ष ने भाजपा पर ध्रुवीकरण और बांटने वाली राजनीति के आरोप लगाते हुए हमला बोला। मतगणना के रुझानों के अनुसार, मोदी लहर के साथ-साथ पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की चुनावी रणनीति ने भौगोलिक और जातीय, उम्र, लिग जैसे समीकरणों को मात देते हुए विपक्ष का सफाया किया है।

राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण राज्य उत्तर प्रदेश में जहां समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) गठबंधन को एक कड़ी टक्कर के तौर पर पेश किया जा रहा था, वहां 80 लोकसभा सीटों में से 59 पर भाजपा आगे चल रही है जबकि सपा 6 सीटों पर और बसपा 12 सीटों पर बढ़त बनाये हुए है। हालांकि, पिछले लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 71 सीटों पर जीत दर्ज की थी। भाजपा का यह प्रदर्शन कई एग्जिट पोल में व्यक्त किये गए पूर्वानुमानों से कहीं बेहतर हैं।

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस एक सीट पर आगे चल रही है। उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भाजपा उम्मीदवार स्मृति ईरानी से करीब 9000 मतों से पीछे चल रहे हैं। हालांकि, केरल की वायनाड सीट पर राहुल गांधी एक लाख मतों से बढ़त बनाये हुए हैं। कांग्रेस के प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने संवाददाताओं से कहा कि रुझानों में जो दिख रहा है उससे हम निराश हैं। यह हमारी उम्मीद के मुताबिक नहीं है।

लेकिन जब तक मतगणना संपन्न नहीं हो जाती तब तक किसी निष्कर्ष पर पहुंचना ठीक नहीं होगा। उन्होंने कहा कि अगर वे (रुझान) बरकरार रहते हैं तो कांग्रेस को आत्मावलोकन करने की जरूरत होगी कि उसका प्रचार अभियान क्यों लोगों के दिलों में पैठ बनाने में विफल रहा। मोदी लहर ने हिदी पट्टी और गुजरात में ही परचम नहीं लहराया है बल्कि पश्चिम बंगाल, ओडिशा, महाराष्ट्र और कर्नाटक में भी पार्टी को शानदार बढ़त दिलाई है।

सिर्फ केरल, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश ही अछूते दिखाई दिये हैं। यहां तक की तेलंगाना में भी भाजपा चार सीटों पर बढ़त बनाये हुए हैं। तेलंगाना राष्ट्र समिति नौ, कांग्रेस तीन सीटों पर आगे है, जबकि एक सीट पर एआईएमआईएम बढ़त बनाए हुए है।
आंध्र प्रदेश ने हालांकि लोकसभा के साथ हुए विधानसभा चुनावों में चंद्रबाबू नायडू की सत्तारुढ़ तेलुगू देशम पार्टी को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया और उसकी जगह जगन मोहन रेड्डी की वाईएसआर कांग्रेस पर अपना भरोसा व्यक्त किया है।

मतगणना के रुझानों के मुताबिक हिंदी भाषी राज्यों में भी भाजपा ने चौंकाया है। इनमें वे राज्य भी शामिल हैं जिनमें कांग्रेस ने हाल ही में विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी। मध्य प्रदेश में भाजपा 29 में से 28 लोकसभा सीटों पर आगे चल रही है। राजस्थान में भाजपा नीत राजग सभी 25 सीटों पर बढ़त बनाये हुए है।

छत्तीसगढ़ में भी भाजपा नौ सीटों पर आगे है, जबकि कांग्रेस दो सीट पर बढ़त बनाये हुए है। हरियाणा की 10 लोकसभा सीटों में से भाजपा नौ पर आगे है। भाजपा के अमित मालवीय ने कहा कि जमीन पर जनता ने विपक्ष की उस दलील को स्वीकार नहीं किया कि लोग खतरे में हैं। लोग अच्छा कर रहे हैं और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में अगली सरकार की तरफ देख रहे हैं।

हमें यह स्वीकार करना होगा कि मोदी सरकार को विरासत में बेहद कमजोर अर्थव्यवस्था मिली थी और उन्होंने शानदार काम किया। ओडिशा की 21 लोकसभा सीटों में से भाजपा सात सीटों पर जबकि बीजू जनता दल 14 सीटों पर बढ़त बनाये हुए है। 2014 में बीजद ने 20 सीटें जीती थीं जबकि भाजपा ने एक पर जीत दर्ज की थी। ओडिशा में लोकसभा के साथ ही विधानसभा चुनाव हुए हैं, जिनमें बीजद के सत्ता में वापसी की उम्मीद है, जिससे साफ है कि मतदाताओं ने समझदारी पूर्वक केंद्र और राज्य में यथास्थिति बरकरार रखने के लिये मतदान किया है।

बिहार की 40 लोकसभा सीटों में से भाजपा 16, जनता दल (यू) 15, लोजपा 6, कांग्रेस 1 और राजद दो सीटों पर आगे है। पश्चिम बंगाल की 42 लोकसभा सीटों में से 21 पर तृणमूल कांग्रेस बढ़त बनाये हुए है जबकि भाजपा 19 पर आगे है, वहीं कांग्रेस एक सीट पर आगे है। राज्य में वामदलों का सूपड़ा साफ हो गया है। तमिलनाडु की 38 में से द्रमुक 23 सीटों पर आगे है जबकि अन्नाद्रमुक केवल दो सीटों पर बढ़त बनाये हुए है। राज्य की वेल्लूर सीट पर धन बल के अत्यधिक इस्तेमाल की वजह से मतदान रद्द कर दिया गया था। केरल की 20 लोकसभा सीटों में से यूडीएफ 18 सीटों पर आगे है। 

मतगणना के रूझानों में बढ़त के साथ-साथ देशभर में भाजपा के दफ्तरों पर उत्सव का माहौल हो गया। ढोल-नगाड़ों के साथ नाचते-गाते कार्यकर्ताओं ने अपनी खुशी का इजहार शुरू कर दिया है। मतगणना के रुझान एग्जिट पोल के पूर्वानुमानों से काफी मिलते जुलते हैं जिनमें राजग को दूसरी बार केंद्र में सत्ता पर काबिज होते दिखाया गया था। वर्ष 2014 में भाजपा ने 282 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि कांग्रेस अपने सर्वकालिक न्यूनतम आंकड़े 44 सीटों पर सिमट गयी थी। कांग्रेस ने 2009 में 206 सीटें जीती थी। 

आयोग ने देश में 4000 से अधिक मतगणना केन्द्र बनाये हैं। मतगणना केन्द्रों से प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र के निर्वाचन अधिकारी ऑनलाइन सिस्टम के जरिये मतगणना के रुझानों को अपडेट करेंगे। इस बीच चुनाव आयोग ने चुनाव परिणाम घोषित होने में देर होने की आशंका से बचने के लिये इस बार डाक मतपत्रों और ईवीएम के मतों की गिनती एक साथ कराने का फैसला किया। उल्लेखनीय है कि इस चुनाव में पंजीकृत 90.99 करोड़ मतदाताओं में से करीब 67.11 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है।

भारतीय संसदीय चुनाव में यह अब तक का सर्वाधिक मतदान प्रतिशत है। लोकसभा चुनाव में पहली बार इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के परिणामों का मिलान पेपर ट्रेल मशीनों से निकलने वाली पर्चियों से किया जाएगा। यह मिलान प्रति विधानसभा क्षेत्र में पांच मतदान केंद्रों में होगा। मतगणना से एक दिन पहले केंद्रीय गृह मंत्रालय ने हिंसा की आशंका के मद्देनजर बुधवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अलर्ट कर दिया। मंत्रालय ने नतीजों के बाद हिंसा की आशंका को देखते हुए यह कदम उठाया। 

लोकसभा चुनाव रिजल्ट: रुझानों की फिल्म में ये कलाकार हुए हिट, तो ये रहे फ्लॉप

Lok Sabha Election Result

लखनऊ। रुपहले पर्दे पर अपने जौहर दिखाने वाले ज्यादातर फिल्मी कलाकार उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनाव मतगणना के अब तक मिले रुझानों में हिट होते नहीं दिख रहे हैं। हालांकि पिक्चर अभी बाकी है। उत्तर प्रदेश की मथुरा सीट से चुनाव लड़ रही हेमा मालिनी और गोरखपुर से प्रत्याशी भोजपुरी सुपरस्टार रवि किशन को छोड़कर फिल्मी दुनिया से आए उम्मीदवारों के लिये अच्छे संकेत नहीं दिख रहे हैं।

मथुरा सीट से लगातार दूसरी बार जीत की कोशिश कर रही ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी की यह मुराद पूरी होती दिख रही है। अंतिम समाचार मिलने तक वह अपने निकटतम प्रतिद्बंद्बी रालोद के कुंवर नरेन्द्र सिह पर एक लाख 85 हजार से ज्यादा मतों की बढ़त बना चुकी हैं। भोजपुरी स्टार रवि किशन भी संसद जाते दिख रहे हैं।

वह गोरखपुर सीट से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर अपने निकटतम सपा-बसपा-रालोद गठबंधन प्रतिद्बंद्बी रामभुआल निषाद से दो लाख 70 हजार से ज्यादा मतों से आगे निकल चुके हैं। हालांकि, सिने स्टार्स के खाते में फिलहाल यही खुशी दिख रही है। आजमगढ़ से भाजपा प्रत्याशी भोजपुरी स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से करीब एक लाख सात हजार मतों से पीछे चल रहे हैं।

वहीं, रामपुर से भाजपा प्रत्याशी अभिनेत्री जया प्रदा गठबंधन प्रत्याशी आजम खां से एक लाख से ज्यादा मतों से पीछे हैं। इसके अलावा फतेहपुर सीकरी सीट पर सिने अभिनेता और उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजबब्बर एक लाख 51 हजार मतों से पीछे चल रहे हैं। वहीं, फिल्म अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी लखनऊ से सपा प्रत्याशी पूनम सिन्हा केन्द्रीय गृह मंत्री भाजपा प्रत्याशी राजनाथ सिंह से हार गई। इनमें से ज्यादातर सीटों पर हार-जीत की घोषणा महज औपचारिकता नजर आ रही है।

लोकसभा चुनाव नतीजे: मोदीमय हुआ बनारस, हर जगह सिर्फ जीत के अंतर को लेकर चर्चा

Lok Sabha election results 2019

वाराणसी। लोकसभा चुनाव की मतगणना के दिन यहां पान की दुकानों पर सिर्फ बनारसी पान नहीं बिक रहे हैं बल्कि यहां अमिताभ बच्चन अभिनीत फिल्म डॉन का गाना खइके पान बनारस वाला की धुन हर जगह सुनाई पड़ रही है। इस दौरान राजनीति की चर्चा भी जोरों पर है।

पान की दुकानों पर केवल इस बात की चर्चा नहीं है कि इस लोकसभा सीट पर कौन जीतेगा बल्कि वाराणसी से सांसद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कितने वोटों से जीतेंगे, इस बात की ज्यादा चर्चा हो रही है। मोदी ने 2014 के आम चुनाव में यहां से आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविद केजरीवाल को तीन लाख 37 हजार मतों से हराया था।

उन्हें कुल पांच लाख 16 हजार 593 वोट मिले थे। मोदी की रिकॉर्ड मतों से जीत का इंतजार करते हुए, बैजू भइया तांबुल भंडार में हर कोई टीवी पर टकटकी लगाए है, वहीं बलदेव टी स्टाल के मालिक बलदेव भाई अपनी चाय की दुकान ही बंद कर घर पर चुनावी माहौल का आनंद ले रहे हैं। वाराणसी में भाजपा प्रत्याशी नरेंद्र मोदी का मुकाबला सपा की शालिनी यादव और कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय से है।

महमूरगंज स्थित बलदेव टी स्टाल पर चाय पीने नियमित आने वाले रंजीत ठाकुर ने कहा कि बलदेव मोदी के जबरदस्त प्रशंसक हैं और आज उन्होंने चुनावी नतीजे देखने के लिए अपनी दुकान ही बंद कर रखी है। ठाकुर ने कहा कि मोदी के मुकाबले बनारस में कहीं कोई खड़ा नहीं दिखता। बनारस को छोड़ दें तो अन्य जगहों पर भी मोदी के नाम पर वोट पड़े हैं और लगता है कि इस बार जाति की राजनीति खत्म होने के कगार पर है।

सिगरा रोड स्थित बैजू भइया तांबुल भंडार पर पान खाने पहुंचे मनोज मिश्रा ने कहा कि हमें लगता है कि इस चुनाव में मोदी 9 लाख से ज्यादा मतों से जीतेंगे। यहां तो मोदी के अलावा कोई सीन में है ही नहीं। मिश्रा ने कहा इस बार लोगों ने विकास के नाम पर वोट किया है न कि जाति के नाम पर। विपक्ष द्बारा ईवीएम में गड़बड़ी के आरोपों पर उन्होंने कहा कि ईवीएम में गड़बड़ी करना आसान नहीं है।

पांच लोगों के हस्ताक्षर होते हैं.. पार्टी के लोग पहरेदारी करते हैं.. इतनी सुरक्षा के बावजूद ईवीएम में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए इन नेताओं को शर्म नहीं आती। जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रजानाथ मिश्रा ने पीटीआई भाषा से कहा, ''चुनाव का जो रुख दिख रहा है, उससे जनता के मूड का पता चलता है। हमें लगता है कि हमारे चुनाव प्रबंधन में कमी रही.. दिल्ली और लखनऊ के बीच समन्वय ठीक नहीं रहा। हमने जो स्टार प्रचारक मांगे हमें नहीं दिए गए। यह कोई छोटी बात नहीं है कि पांच साल हमने कांग्रेस को सड़क पर जिदा रखा।

महागठबंधन पर उन्होंने कहा कि सपा-बसपा ने भाजपा को जिताने के लिए यह गठबंधन किया था। ये दोनों ही पार्टियां उत्तर प्रदेश तक सीमित हैं, जबकि यह देश का चुनाव है। अगर वे सही में गंभीर होते तो देशभर की पार्टियों से महागठबंधन करते। वाराणसी में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान अंतिम चरण में 19 मई को हुआ था।

मोदी के रोड शो के दौरान मंदिरों के इस शहर में हजारों की भीड़ सड़कों पर उमड़ पड़ी थी और उसने मोदी, मोदी तथा मैं भी चौकीदार के नारे लगाए थे। अमित शाह, पीयूष गोयल, सुषमा स्वराज और योगी आदित्यनाथ ने भी प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र में चुनाव प्रचार किया था।

विपक्षी दलों की तरफ से प्रियंका गांधी के अलावा राहुल गांधी, अखिलेश यादव और मायावती ने भी रोड शो किए थे। मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ रहीं सपा-बसपा गठबंधन की शालिनी यादव पूर्व केंद्रीय मंत्री श्यामलाल यादव की बेटी हैं। पहले इस सीट से प्रियंका गांधी के भी चुनाव लड़ने के कयास लगाए गए थे।

फिर राजस्थान में 25 की 25 बीजेपी की! भाजपा रिकॉर्ड जीत की ओर

Rajasthan BJP to win record

जयपुर। तमाम अटकलों और परंपराओं को ध्वस्त करते हुए भारतीय जनता पार्टी राजस्थान में लोकसभा चुनाव में रिकार्ड जीत दर्ज करने की ओर बढ़ रही है। मतगणना के दोपहर तक के रूझानों के अनुसार भाजपा की अगुवाई वाला राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन (राजग) राज्य की सभी 25 सीटों पर बड़ी बढ़त बनाए हुए हैं।

दोपहर एक बजे तक राज्य में किसी भी सीट पर परिणाम घोषित नहीं किया गया है। अगर राजग गठबंधन और भाजपा रूझानों के अनुसार जीत दर्ज करता है तो यह अपने आप में रिकार्ड होगा क्योंकि राज्य में किसी भी पार्टी या गठबंधन ने लगातार दो चुनाव में इस तरह की जीत दर्ज नहीं की है। 2014 के चुनाव में भाजपा ने राज्य की सभी 25 सीटें जीती थीं।

इस बार भाजपा ने नागौर लोकसभा सीट गठबंधन के तहत राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी को दी। इस सीट पर राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के हनुमान बेनीवाल आगे चल रहे हैं। राज्य में आमतौर पर उसी पार्टी को लोकसभा चुनाव में बढ़ मिलती रही है जिसकी राज्य में सरकार हो लेकिन इस बार यह परंपरा टूटती नजर आ रही है।

राज्य की सभी सीटों पर भाजपा के प्रत्याशी एक लाख या इससे अधिक मतों से ज्यादा के अंतर से आगे चल रहे हैं। भीलवाड़ा सीट पर भाजपा के सुभाष बहेड़िया 4,45,082 मत से आगे हैं। वहीं पाली में पीपी चौधरी 3,00,982, चित्तौड़गढ़ में देवजी पटेल 3,12,151 व राजसमंद में दीयाकुमारी 3,01,872 मतों के अंतर से आगे चल रही हैं। इसी तरह अजमेर, अलवर, बाड़मेर, गंगानगर, जयपुर ग्रामीण व झालावाड बारां सीट पर भाजपा प्रत्याशी दो लाख या इससे अधिक मतों से आगे चल रहे हैं।

केरल में अगले चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करेंगे: भाजपा

Will perform better in next elections in Kerala: BJP

नयी दिल्ली। लोकसभा चुनाव की मतगणना में बृहस्पतिवार को भाजपा भले ही बड़ी जीत की ओर अग्रसर है लेकिन केरल में पार्टी का खराब प्रदर्शन देखते हुए पार्टी नेताओं ने भरोसा जताया है कि वे अगले चुनाव में इस दक्षिणी राज्य में बेहतर प्रदर्शन के अपने प्रयासों को दोगुना करेंगे। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता जी वी एल नरसिम्हा राव ने मीडिया से कहा कि भाजपा अगले चुनाव में केरल में उसी प्रकार अच्छा प्रदर्शन करेगी, जैसा कि उसने इस बार पश्चिम बंगाल और ओडिशा में किया है।

रुझान के अनुसार केरल की 20 सीटों में से कांग्रेस 15 सीटों पर आगे चल रही है। माकपा एक, आईयूएमएल तीन, केरल कांग्रेस (एम) एक और आरएसपी एक सीट पर आगे है। पश्चिम बंगाल की 42 में से 24 सीटों पर तृणमूल कांग्रेस और 17 सीटों पर भाजपा की बढ़त बनी हुई है। ओडिशा की 21 में से सात सीटों पर भाजपा आगे चल रही है। 

भाजपा प्रवक्ता अमित मालवीय ने कहा जमीनी स्तर पर लोग विपक्ष की इस बात से इत्तेफाक नहीं रखते कि लोग डरे हुए हैं। लोग अगली सरकार नरेंद्र मोदी की देखना चाहते हैं। हमें यह समझना होगा कि मोदी सरकार को बहुत कमजोर अर्थव्यवस्था मिली थी और उन्होंने शानदार काम किया है। 

अफगानिस्तान में सात आतंकवादी ढेर, तीन घायल

7 terrorists stack in Afghanistan, three wounded

तालुकान। अफगानिस्तान के उत्तरी प्रांत ताखर के ख्वाजा गर जिले में तालिबानी आतंकवादियों ने गुरुवार सुबह एक पुलिस चौकी पर हमला कर दिया और पुलिसकर्मियों की जवाबी कार्रवाई में सात आतंकवादी मारे गये और तीन अन्य घायल हो गये। जिले के गवर्नर मोहम्मद उमर ने बताया कि आतंकवादियों के एक समूह ने स्थानीय समयानुसार सुबह करीब सात बजे स्थानीय थाने पर हमला कर दिया। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में सात आतंकवादी मारे गये और तीन अन्य घायल हो गये। मुठभेड़ के दौरान तीन पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। उमर ने बताया कि हमले के बाद जिंदा बचे आतंकवादी भाग खड़े हुए हालांकि स्थानीय लोगों का कहना है कि छिटपुट लड़ाई जारी है। तालिबान ने अब तक इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है। 

आलिया की स्टूडेंट से अभी तक की जर्नी बहुत खूबसूरत है, वे टैलेंट का भंडार हैं : सलमान

Salman Khan considers Aliya as a repository of talent

मुंबई। बॉलीवुड के दबंग स्टार सलमान खान,आलिया भट्ट को टैलेंट का भंडार मानते हैं। सलमान खान और आलिया भट्ट जल्द ही संजय लीला भंसाली की फिल्म इंशा अल्लाह में एक साथ नजर आने वाले हैं। सलमान आलिया के साथ काम करने के लिए काफी एक्साइटेड हैं। सलमान ने आलिया को टैलेंट का भंडार बताया है। सलमान ने कहा, ''आलिया की स्टूडेंट से अभी तक की जर्नी बहुत खूबसूरत है। आलिया के सिवा उनसे उनकी ग्रोथ का क्रेडिट कोई नहीं ले सकता है। जो भी बोले हमने उसको बनाया है, उस पर यकीन नहीं किया जा सकता, ये आलिया का टैलेंट है।

सलमान ने कहा, 'टैलेंट का गोडाउन, टैलेंट के बंडल से मिलने वाला है लेकिन असल में यहां कोई टैलेंट नहीं है। आलिया भट्ट भी सलमान के साथ काम करने के लिए काफी एक्साइटेड है। आलिया भट्ट ने कुछ समय पहले अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा था, पहली बार जब में संजय लीला भंसाली के ऑफिस गई थी, तब मैं नौ साल की थी, मैं काफी नर्वस हूं और आशा करती हूं मैं उनकी अगली फिल्म का हिस्सा बनूंगी, लंबे समय से इसका इंतजार है।

आलिया ने एक दूसरे ट्वीट में लिखा था, ''दोनों कहते हैं खुली आंखों से सपने देखो और मैने ऐसा किया, संजय सर और सलमान खान एक साथ मैजिकल होते हैं, इंशाअल्लाह फिल्म की खूबसूरत जर्नी में दोनों को जॉइन करने का मैं इंतजार नहीं कर पा रही हूं।

फीफा ने 2022 विश्व कप में 48 टीमों को शामिल करने की योजना को रद्द किया

FIFA canceled plans to include 48 teams in 2022 World Cup

लुसाने। फीफा ने कतर में 2022 में होने वाले विश्व कप में 48 टीमों को शामिल करने के प्रस्ताव को रद्द कर दिया है जिससे इस फुटबाल की वैश्विक संस्था के अध्यक्ष जियानी इन्फेंटिनो को झटका लगा है। इस खाड़ी देश में 2022 के टूर्नामेंट अब पहले की तरह 32 देश ही भाग लेंगे।

फीफा ने कहा कि उसने इस योजना को विस्तार से देखने और व्यापक परामर्श प्रक्रिया के बाद रद्द कर दिया। फीफा ने एक बयान में कहा, टूर्नामेंट को अब इसके मूल रूप से यानी 32 टीमों के साथ खेला जाएगा और पांच जून को फीफा की अगली कांग्रेस में कोई प्रस्ताव प्रस्तुत नहीं किया जाएगा। इन्फेंटिनो इस टूर्नामेंट का विस्तार कर इसमें 48 टीमों को शामिल करना चाहते थे लेकिन कतर के पड़ोसी देशों द्वारा प्रतिबंध लगने के कारण उनकी योजना खटाई में पड़ गयी। 

इंग्लैंड के पास विश्व कप जीतने का सबसे सुनहरा मौका : वान

England has the golden chance to win the World Cup: Wan

लंदन। पूर्व कप्तान माइकल वान ने कहा कि फार्म में चल रही इंग्लैंड के पास विश्व कप में खिताब नहीं जीत पाने का कलंक धोने का सुनहरा मौका है और वे अपनी मेजबानी में हो रहे इस टूर्नामेंट को खास बनायेंगे। वान ने कहा मैं जब से देख रहा हूं, इंग्लैंड के पास विश्व कप जीतने का यह सबसे सुनहरा मौका है। मैं 1992 में कालेज में था जब मैने फाइनल देखा था। उन्होंने कहा दो साल पहले टीम चैम्पियंस ट्राफी के सेमीफाइनल में पहुंची लेकिन आगे नहीं बढ सकी। अबकी बार सेमीफाइनल में पहुंचने पर उन्हें चतुराई से खेलना होगा।

उन्होंने इंग्लैंड की 15 सदस्यीय विश्व कप टीम को सर्वश्रेष्ठ बताया। वान ने बीबीसी स्पोर्ट्स से कहा यह इंग्लैंड की सर्वश्रेष्ठ टीम है। यह खिताब की प्रबल दावेदार होगी। इंग्लैंड 1979, 1987, 1992 में फाइनल में पहुंचा लेकिन एक बार भी जीत नहीं सका। 

40 हजार का आंकड़ा पार कर 299 अंक की गिरावट लेकर बंद हुआ सेंसेक्स

Sensex crosses 40 thousand mark Closes down by 299 points

मुंबई। घरेलू शेयर बाजार में आज सुबह कारोबार की शुरूआत अच्छी बढ़त के साथ हरे निशान पर हुई और मतगणना के बीच दोपहर तक सेंसेक्स ने पहली बार 40 हजार का आंकड़ा पार किया लेकिन कारोबार की समाप्ति तक ये बढ़त बरकरार रखने में नाकामयाब हुआ और बाजार गिरावट के साथ लाल निशान पर पहुंचकर बंद हुआ। गिरावट के इस माहौल में कारोबार की समाप्ति पर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 298.82 अंक यानि 0.76 प्रतिशत की गिरावट के साथ 38,811.39 के स्तर पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) के पचास शेयरों वाले निफ्टी में भी कारोबार की समाप्ति पर गिरावट देखने को मिली और ये 80.85 अंक यानि 0.69 प्रतिशत की गिरावट के साथ 11,657.05 के स्तर पर बंद हुआ। 

गौरतलब है कि कल के कारोबार के दौरान शेयर बाजार सुबह बढ़त के साथ हरे निशान पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर भी ये बढ़त के साथ ही हरे निशान पर बंद हुआ। कारोबार की शुरूआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज ( बीएसई ) का तीस शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 98.31 अंक यानि 0.25 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 39,068.11 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 140.41 अंक यानि 0.36 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 39,110.21 के स्तर पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ( एनएसई ) का पचास शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी कारोबार की शुरूआत में 20.45 अंक यानि 0.17 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11,729.55 के स्तर पर खुला और कारोबार की समाप्ति पर ये 28.80 अंक यानि 0.25 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 11,737.90 के स्तर पर बंद हुआ।



 
loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.