अयोध्या में झगड़ा राममन्दिर का नहीं राम जन्म स्थान का: इन्द्रेश कुमार

Samachar Jagat | Sunday, 15 Apr 2018 05:51:16 PM
ayodhya Ram mandir latest news
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जयपुर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ( आरएसएस) के राष्ट्रीय संयोजक इन्द्रेश कुमार ने कहा कि ढाई दशक से अधिक वक्त से न्यायालय में अयोध्या के राम जन्म भूमि और विवादीत ढांचे के संबंध में चल रहा झगड़ा मंदिर का नही बल्कि राम जन्म स्थान को लेकर है।

किशोरी से रेप के मामलों में मौत की सजा का प्रावधान करने के लिए विधेयक लाया जाए: फारूक अब्दुल्ला

इन्द्रेश कुमार ने रविवार को यहां राम जन्म भूमि अयोध्या का सच विषय पर आयोजित संगोष्ठी में कहा कि भगवान राम का जन्म स्थान एक ही है और वह आयोध्या में है जो हिन्दुओं की आस्था का केन्द्र है।

उन्होंने कहा कि जिस प्रकार ईसाइ धर्मावलम्बियों का पावन स्थान वेटेंकन और मुसलमानों का मक्का मदीना है उसी तरह हिन्दुओं का पावन स्थान भगवान राम का जन्म स्थान अयोध्या है।

उन्होंने कहा कि लम्बे समय से चल रहे इस विवाद का हल अभी तक नही निकला है जबकि न्यायालय के 2 फैसले राम जन्मभूमि के पक्ष में आ चुके है। उन्होंने कहा कि अब तक किसी प्रकार का कोई साक्ष्य विवादित ढांचे के पक्ष में नहीं मिला है।

बल्कि खुदाई में रामजन्म स्थान के लाखों वर्ष पुराने प्रमाण मिले है। उन्होंने कहा कि विवादित ढांचे का निर्माण बाबर ने अपने नाम पर रखा जो कि इस्लाम के अनुसार भी मान्य नहीं है, क्योंकि इस्लाम में व्यक्ति के नाम पर धार्मिक स्थान का नाम नहीं रखा जा सकता है।

न ही किसी अन्य धर्म के पूजा स्थल को तोड़ कर बनाया जा सकता है। उन्होंने मुस्लिम समुदाय की दयनीय स्थिति का जिक्र करते हुये कहा कि अब तक भारत में अनेक मुस्लिम आक्रांता आए और चले गए किन्तु किसी ने भी मुसलमानों के लिए अच्छी शिक्षा, स्वास्थ और रोजगार की व्यवस्था नहीं की, मुसलमानों को हमेशा अनपढ़, बेरोजगार और बीमार रखा। यही कारण है कि मुसलमानों को सभी जगह लोग पराए नजर आए अपने नहीं और उन्होनें आतंक की शरण ली।

भूमि विवाद के चलते युवक की लाठी से पीटकर की हत्या

उन्होनें देश में बेटियों पर हो रहे अत्याचारो का जिक्र करते हुए  कहा कि जब मां के कदमों में जन्नत होती है, तो बेटी बोझ कैसे हो सकती है। मां भी तो कभी बेटी होगी। उन्होंने कहा कि गीता और कुरान में मां को पूज्यनीय बताया है। यह धरती भी हम सब की मां है। हम इसकी तरक्की के लिए प्रयत्न करें। मां और मातृभूमि खरीदी और बेची नहीं जाती, इसके लिए बलिदान किया जाता है।

गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए सासंद मदनलाल सैनी ने देश के मुसलमानों को मुख्य धारा में लाने में इंन्द्रेश कुमार के प्रयासों की सराहना करते हुये कहा कि देश में राष्ट्रभक्ति की भावना हिलारे ले रही है।

गोष्ठी के विशिष्ट अतिथि कारी आलीम मौलाना ने कहा कि किसी भी धर्म में कौमी एकता पर काम करने की पाबंदी नहीं है, किन्तु हमारे धर्म गुरू बिकाऊ हो गये है। उन्होंने कहा कि कौमी एकता में हर कौम बराबर है कोई धर्म हमें अलग-अलग रहने को नही कहता। एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.