कश्मीर मुद्दे पर केन्द्र को हुर्रियत के साथ बातचीत करनी चाहिए : अब्दुल्ला

Samachar Jagat | Friday, 11 Jan 2019 02:34:42 PM
Center should talk to Hurriyat on Kashmir issue: Abdullah

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

कोलकाता। नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि कश्मीर में सिर्फ बातचीत के जरिए दीर्घकालिक शांति हासिल की जा सकती है और केन्द्र को हुर्रियत  नेताओं के साथ बातचीत करनी चाहिए। तालिबान के साथ बिना शर्त बातचीत करने के सेना प्रमुख बिपिन रावत के बयान का हवाला देते हुए जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने गुरुवार को कहा कि यदि सेना ऐसी सलाह दे सकती है तो केन्द्र को भी कश्मीर मुद्दा सुलझाने के लिए हुर्रियत  से बातचीत करनी चाहिए।


सेन्टर फॉर पीस एंड प्रोग्रेस की ओर से आयोजित ‘जम्मू-कश्मीर, आगे की राह’ चर्चा पर बोलते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि हुर्रियत नेताओं के पास भारतीय पासपोर्ट हैं और अतीत में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहार वाजपेयी ने उनके साथ बातचीत की है। उन्होंने कहा, ‘‘सेना और बल प्रयोग कभी भी कश्मीर संकट का समाधान नहीं हो सकता है और स्थाई शांति सिर्फ बातचीत से हासिल हो सकती है। 

लोकसभा चुनाव के बाद कश्मीर मुद्दे पर बातचीत शुरू होने की आशा जताते हुए अब्दुल्ला ने कहा कि प्रत्येक चुनाव ने देश को जोडऩे के बजाए उसे विभाजित किया है। उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली और कश्मीर के बीच अविश्वास है और देश में घृणा का माहौल पैदा किया गया है। रावत ने बुधवार को कहा था कि ऐसे वक्त में जब अमेरिका और रूस तालिबान से बातचीत कर रहे हैं, आतंकवादी संगठनों के साथ बातचीत की जानी चाहिए लेकिन बिना किसी पूर्व शर्त के।

इस चर्चा में सेना के पूर्व प्रमुख शंकर रॉय चौधरी ने 2009 सिविल सेवा परीक्षा के टॉपर आईएएस अधिकारी शाह फैसल के इस्ती$फे का मुद्दा उठाया। चौधरी ने कहा, ‘‘उनके इस्ती$फे की बात सुनकर हमें धक्का लगा। उन्हें इस्तीफा नहीं देना चाहिए था। उन्होंने कहा, ‘‘पिछले कुछ वर्षों में कश्मीर से एक अच्छी बात सामने आयी है कि युवा बड़ी संख्या में सेना में भर्ती हो रहे हैं और सरकारी नौकरियों में जा रहे हैं। एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.