मुंबई से राहत सामग्री लेकर तटरक्षक बल का पोत रवाना

Samachar Jagat | Sunday, 19 Aug 2018 05:10:14 PM
Coast Guard's Ship departure with relief material from Mumbai

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

मुंबई/पणजी/श्रीनगर। केरल में बाढ़ पीडि़तों के लिए 65 टन राहत सामग्री लेकर भारतीय तट रक्षक बल का एक पोत आज सुबह यहां से रवाना हुआ। तट रक्षक बल के पश्चिमी क्षेत्र के प्रवक्ता ने बताया कि 'संकल्प' नाम के पोत पर लोगों की ओर से विभिन्न गैर सरकारी संगठनों को दिया गया सामान है। इसके अलावा महाराष्ट्र सरकार की ओर से भी उपलब्ध कराई सामग्री शामिल है।

गंगा में विलीन हुए पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी, अस्थियां विसर्जित करते हुए भावुक हुई बेटी

उन्होंने बताया कि इसके कल सुबह तक कोच्चि बंदरगाह पहुंचने की उम्मीद है। प्रवक्ता ने बताया कि 50 टन राहत सामग्री लेकर एक और पोत न्यू मंगलुरु बंदरगाह से कोच्चि के लिए आज रवाना होना है। उन्होंने बताया कि करीब सात टन खाद्य सामग्री न्यू मंगलुरु से कोझीकोड और कोच्चि भेजी जा चुकी है जबकि विशाखापत्तनम और चेन्नई से तट रक्षक के विमानों से करीब पांच टन सामग्री भेजी गई है।

अधिकारी ने बताया, '' हमें कुछ संकटग्रस्त सूचनाओं का कम वक्त में भी निदान करना है। आज सुबह, अलुवा आपदा नियंत्रण कक्ष ने तत्काल दवाइयों और 2000 लोगों के तैयार खाने की मांग की। हमने 500 किलोग्राम सामग्री लेकर दो चेतक विमानों को भेजा।" आज तक तट रक्षक की 36 बचाव टीमें, 38 रबड़ नौकाओं और 21 मशीनीकृत नौकाओं से तकरीबन 3000 लोगों को बचाया जा चुका है। इस बीच, गोवा के जल संसाधन मंत्री विनोद पालेकर ने आज कि वह कि केरल में राहत कार्य के लिए अपनी एक महीने की तनख्वाह दान देंगे।

वैश्विक आर्थिक प्रगति का स्रोत बन गयी है भारतीय अर्थव्यवस्था: भाजपा

उधर जम्मू कश्मीर सरकार ने बाढ़ से तबाह हुए केरल में राहत कार्यों के लिए दो करोड़ रुपये की सहायता देने का आज ऐलान किया। श्रीनगर में राजभवन के एक प्रवक्ता ने बताया कि जम्मू कश्मीर के राज्यपाल एन एन वोहरा ने केरल में दशकों में आई भीषण बाढ़ में सैकड़ों लोगों की जान जाने और सार्वजनिक और निजी संपत्तियों के नुकसान पर केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन को 'दुख और हमदर्दी' जताई। केरल में पिछले 10 दिनों में मृतकों की संख्या 197 पहुंच गई है। दक्षिणी राज्य में छह लाख से अधिक लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं।- एजेंसी

आयुष्मान भारत योजना: केंद्र के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने पर विचार कर रही है दिल्ली सरकार

बाढ़ प्रभावित केरल में हजारों लोगों को अब भी सुरक्षित निकाले जाने का इंतजार

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.