पहले शल्य चिकित्सक के रूप में धन्वन्तरि को मान्यता मिली थी: योगी

Samachar Jagat | Monday, 05 Nov 2018 10:40:05 AM
Dhanvantri was first recognized as a surgeon: Yogi

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि देश में ज्ञान-विज्ञान का भण्डार है, जो हमें विरासत में मिला और आयुर्वेद में दुनिया के पहले शल्य चिकित्सक के रूप में धन्वन्तरि को मान्यता मिली थी। योगी ने रविवार को यहां आयोजित धन्वन्तरि जयंती महोत्सव को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश में ज्ञान-विज्ञान का भण्डार है, जो हमें विरासत में मिला है।

अगर देश के चिकित्सक ठान लें, तो यहां की चिकित्सा पद्धति पर भरोसा बढ़ेगा। साथ ही,भारत को मेडिकल टूरिज्म का हब बनाया जा सकता है। इसके लिए चिकित्सकों को स्वयं को समझना और तैयार करना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि धन्वन्तरि जयंती पर सबको संकल्प लेना चाहिए कि गांव में जाकर जड़ी-बूटियों के बारे में जानकारी प्राप्त करना है।

इसके लिए इच्छा शक्ति होनी चाहिए और आयुर्वेद के प्रति सम्मान का भाव होना चाहिए। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद को आगे बढ़ाने के लिए परिश्रम करना होगा, जिससे लोगों का आयुर्वेद के प्रति विश्वास और बढ़ेगा और लोग आरोग्य होंगे। उन्होंने कहा कि हमें गांव-गांव जाकर आयुर्वेद के विधियों का संग्रह करके उसको वृहद रूप देने का कार्य करना होगा।

इसके बाद योगी ने गोरक्षनाथ मंदिर परिसर में स्थित भीम सरोवर पर एसोसिएशन ऑफ इण्डिया भाई के बैनर द्बारा आयोजित कार्यक्रम एक दिया शहीदों के नाम के अवसर पर कहा कि यह देश के शहीदों को उनकी शहादत के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करने का एक माध्यम है।

जिन्होंने भारत माता के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया। इस मौके पर छोटे-छोटे बच्चों एवं कलाकारों के द्बारा देश भक्ति पूर्ण सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया। इन कार्यक्रमों में जनप्रतिनिधिगण समेत शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.