राफेल सौदा: अंबानी के नोटिस पर कांग्रेस का पलटवार, कहा - हम डरने वाले नहीं, चुप नहीं बैठेंगे

Samachar Jagat | Thursday, 23 Aug 2018 10:12:22 AM
Raphael Deals: Congress reversed on Ambani's notice   Said - we are not afraid, not sitting quiet

नई दिल्ली / चंडीगढ़। अरबों डॉलर के राफेल करार से अनुचित फायदा पाने को लेकर आरोपों का सामना कर रहे अनिल अंबानी की अगुवाई वाले रिलायंस समूह ने कांग्रेस के कई नेताओं को कानूनी नोटिस भेजकर उनसे कहा है कि वे ऐसे आरोप लगाने से बाज आएं। बहरहाल, कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि अंबानी की कंपनी की तरफ से भेजा गया नोटिस ''भाजपा और कॉरपोरेट जगत के बीच गठजोड़’’ का सबूत है। 

फ्लिपकार्ट ने लॉन्च की 2GUD वेबसाइट, सस्ते दाम पर पुराने सामानों को नया बनाकर देगी कंपनी 

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि वे ऐसे नोटिस से डरने या चुप होने वाले नहीं हैं।  गौरतलब है कि रिलायंस समूह ने कांग्रेस के कई प्रवक्ताओं और नेताओं को नोटिस भेजा है। यह नोटिस ऐसे समय में भेजे गए हैं जब कांग्रेस ने राफ़ेल करार के मुद्दे पर करीब महीना भर तक अभियान चलाने का फैसला किया है। इस अभियान के तहत कांग्रेस के शीर्ष नेता 25 अगस्त से छह सितंबर तक देश भर में संवाददाता  सम्मेलन और प्रदर्शन करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार को निशाना बनाएंगे। पार्टी ने सात सितंबर से जिला एवं राज्य स्तर पर विरोध प्रदर्शन की भी योजना बनाई है।

जल्द ही देश में लगने लगेंगे पोर्टेबल पेट्रोल पंप 

रिलायंस समूह ने करार से जुड़े आरोप नकारे हैं। इस करार के तहत फ्रांस की दशॉ कंपनी लड़ाकू विमानों की आपूर्ति करेगी। उसने अनिल अंबानी की अगुवाई वाले रिलायंस समूह की एक कंपनी के साथ संयुक्त उपक्रम भी किया है ताकि अनुबंध की 'ऑफसेट’ जरूरतें पूरी की जा सकें। 

अंबानी ने राफ़ेल करार के मुद्दे पर हाल में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पत्र लिखकर कहा था कि इस मामले में ''दुर्भावनापूर्ण निहित स्वार्थों और कॉरपोरेट प्रतिद्वंद्वियों’’ द्बारा उनकी पार्टी को ''गलत सूचना दी जा रही है, गलत दिशा में ले जाया जा रहा है और गुमराह किया जा रहा है।’’ 

राफ़ेल के मुद्दे पर पिछली संप्रग सरकार द्बारा की गई बातचीत में तय हुई कीमत से कहीं ज्यादा कीमत पर करार पर दस्तखत करने को लेकर राहुल मोदी सरकार पर लगातार हमले बोल रहे हैं। उनका आरोप है कि मोदी सरकार ने ''एक कारोबारी’’ को फायदा पहुंचाने के लिए यह करार किया। चंडीगढ़ में पत्रकारों से बातचीत में कांग्रेस सांसद सुनील जाखड़ ने कहा कि उन्हें नोटिस मिला है जिसमें कहा गया है कि वह राफ़ेल करार के मुद्दे पर ''आरोप लगाने’’ से बाज आएं।

बहरहाल, जाखड़ ने इस बात पर जोर दिया कि राफ़ेल का मामला कांग्रेस के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा एक गंभीर मुद्दा है। उन्होंने आरोप लगाया कि कानूनी नोटिस ''भाजपा और कॉरपोरेट जगत के बीच गठजोड़’’ का नतीजा है।  कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष एवं लोकसभा सदस्य जाखड़ ने कहा, ''मैं दोहराता हूं, हवाई जहाज बनाने का मेरा कौशल (जैसा कि लोकसभा में दिखाया था) आपसे बेहतर है।’’ 
जाखड़ ने रिलायंस की ओर से भेजे गए कानूनी नोटिस से कागज का विमान बनाकर उसकी तस्वीर ट्विटर पर डाली। 

उन्होंने कहा, ''यह लोकतंत्र के लिए एक काला दिन है। किसी उद्योगपति की ओर से किसी जनप्रतिनिधि को कानूनी नोटिस भेजना एक गंभीर मुद्दा है।’’  कांग्रेस नेताओं ने बताया कि रिलायंस की कंपनियों की तरफ से मुंबई के वकीलों द्बारा रणदीप सुरजेवाला, अशोक चव्हाण, अभिषेक मनु सिघवी और सुनील जाखड़ सहित कई अन्य नेताओं को नोटिस जारी किया गया है। नोटिस में कहा गया है कि वे ''सरकार से सरकार के बीच हुए अनुबंध में फ्रांस से भारत द्वारा 36 राफ़ेल लड़ाकू विमान की खरीद के करार के बारे में प्रेस और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में अभद्र और मानहानिकारक बयान दे रहे हैं।’’

वेनेजुएला ने बोलिवर का 96 प्रतिशत अवमूल्यन किया: केंद्रीय बैंक

नोटिस के बारे में पूछे जाने पर कांग्रेस प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि उन्हें दो ऐसे नोटिस मिले हैं। उन्होंने कहा कि एक तो पहले ही मिला था जबकि दूसरा कल मिला है जिसमें दावा किया गया है कि उन्होंने कंपनी को 50,000 करोड़ रुपए तक का नुकसान पहुंचाया है। 
गोहिल ने कहा, ''मुझे पहले एक नोटिस मिला था और मैंने यह कहते हुए जवाब दिया था कि जो कुछ भी कहा गया वह सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध दस्तावेजों के आधार पर कहा गया है। नोटिस दिखाते हैं कि प्रधानमंत्री चितित हैं।’’ कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि उन्हें भी एक नोटिस थमाया गया है। उन्होंने कहा, '' हम तब तक चुप नहीं बैठेंगे जब तक हमें घोटाले पर हमारे जवाब नहीं मिल जाते।’’ एजेंसी
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.