राम मंदिर निर्माण समेत अपनी मांगों को लेकर तोगडिय़ा का अनिश्चितकालीन उपवास शुरू

Samachar Jagat | Tuesday, 17 Apr 2018 03:17:40 PM
 Togadia indefinite fast begins
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

अहमदाबाद। विहिप के पूर्व नेता प्रवीण तोगडिय़ा ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण सहित अपनी मांगों को लेकर मंगलवार को यहां अनिश्चितकालीन उपवास शुरू किया। हिंदूवादी नेता ने पालदी इलाके में प्रदेश विहिप मुख्यालय के बाहर दोपहर 12 बजे के बाद कुछ हिंदू संतों और समर्थकों के साथ उपवास शुरू किया।

40 वर्ष तक अपने ज्ञान से देश में रोशनी फैलाई थी राधाकृष्णन ने

उन्होंने संगठन के अहम चुनाव में अपने प्रत्याशी राघव रेड्डी के हार जाने के बाद गत सप्ताह विहिप के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया था। तोगडिय़ा ने पहले कहा था कि उनकी भूख हड़ताल का मकसद हिंदुओं का कल्याण करना और उनकी मांगों की तरफ ध्यान आकर्षित करना होगा।

इन मांगों में अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण , गो वध पर राष्ट्रव्यापी प्रतिबंध , समान नागरिक संहित लागू करना और विस्थापित कश्मीरी पंडितों का पुन : स्थापन शामिल हैं। सर्जन से तेजतर्रार नेता बने तोगडिय़ा ने विहिप छोडऩे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोला था।

इससे पहले तोगडिय़ा को जीएमडीसी मैदान पर उपवास पर बैठना था लेकिन पुलिस ने अनुमति देने से इनकार कर दिया जिसके बाद विहिप मुख्यालय के बाहर उपवास शुरू किया गया। विहिप के पूर्व नगर अध्यक्ष राजू पटेल ने कहा कि पुलिस ने हमें जीएमडीसी मैदान पर बैठने की अनुमति देने से मना कर दिया इसलिए हमें आयोजन स्थल बदलना पड़ा।

हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल वीएस कोकजे गत शनिवार को तोगडिय़ा के प्रत्याशी रेड्डी को हराकर विहिप के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष बने थे जिसके बाद तोगडिय़ा ने दक्षिणपंथी संगठन से इस्तीफा दे दिया था। गुजरात से ताल्लुक रखने वाले और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता के तौर पर शुरुआत करने वाले मोदी और तोगडिय़ा के बीच पिछले दशक में खाई गहरी हुई है।

उन्नाव प्रकरण : बढ़ सकती हैं सेंगर की मुसीबत, CBI कस रहा है शिकंजा

कुछ समय पहले तोगडिय़ा ने एक सनसनीखेज दावा किया था कि राजस्थान पुलिस की टीम यहां उन्हें  अगवा करने आई थी और उन्हें डर है कि उन्हें फर्जी मुठभेड़ में मारा जा सकता है। मोदी के प्रधानमंत्री बनने से पहले उनके और गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल के बीच प्रदेश बीजेपी के भीतर लंबे समय तक चले टकराव के दौरान ऐसा माना जाता है कि तोगडिय़ा ने पटेल का समर्थन किया था।

पूर्व विहिप नेता पटेल समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। तोगडिय़ा ने हाल ही में पाटीदार कोटा आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल से मुलाकात की थी जिन्होंने 2017 के गुजरात विधानसभा चुनावों में बीजेपी के खिलाफ प्रचार किया था। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.