गणेश चतुर्थी स्पेशल : ये हैं भगवान गणेश के तीन प्रसिद्ध मंदिर

Samachar Jagat | Thursday, 13 Sep 2018 08:10:01 AM
Ganesh Chaturthi Special: These are the three famous temples of Lord Ganesha

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क। पूरे देश में भगवान गणेश के ऐसे अनेक मंदिर हैं जो बहुत प्रसिद्ध हैं, गणेश चतुर्थी के अवसर पर हम आपको यहां भारत के पांच प्रमुख गणेश मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, ये मंदिर गणेश भक्तों की आस्था का प्रमुख केंद्र हैं, आइए आपको बताते हैं इन मंदिरों के बारे में....

सिद्घिविनायक मंदिर :-

सिद्घिविनायक गणेश सिद्धि देने वाले बलशाली देवता के रुप में प्रसिद्ध हैं। अष्टविनायक गणेश में श्री सिद्धि विनायक मंदिर उत्तरामुखी होकर ऊंची पहाड़ी पर स्थित है। गणेश जी की जिन प्रतिमाओं की सूड़ दांईं तरफ मुड़ी होती है, वे सिद्धपीठ से जुड़ी होती हैं और उनके मंदिर सिद्धि विनायक मंदिर कहलाते हैं। सिद्धि विनायक मंदिर भारत के रईस मंदिरों में से एक माना जाता है। ये मंदिर सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी काफी विख्यात है। 

पहाडों पर रोमाटिंक बारिश का लुत्फ उठाना चाहते है तो जाएं बारिश की राजधानी और बादलों के देश चेरापूंजी

रणथंभौर गणेश मंदिर :-

करीब 1000 साल पुराने रणथंभौर गणेश मंदिर में तीन नेत्र वाले गणेश जी विराजमान हैं। यहां विराजमान गणपति का रंग नारंगी है और उनके साथ उनका वाहन मूशक भी यहां विराजमान है। बप्पा के इस अद्भुत रूप के दर्शनों के लिए दूर-दूर से भक्त यहां आते हैं। 

अब आलीशान क्रूज पर सवार होकर गंगा घाटों और भव्य गंगा आरती का नजारा ले सकेंगे वाराणसी आने वाले पर्यटक

उच्ची पिल्लयार मंदिर :-

तमिलनाडु राज्य के त्रिची शहर के मध्य पहाड़ के शिखर पर स्थित उच्ची पिल्लयार मंदिर को चैल राजाओं ने चट्टानों को काटकर बनवाया था। पहाड़ के शिखर पर विराजमान होने के कारण गणेश जी को उच्ची पिल्लैयार कहते हैं। इस मंदिर में हमेशा गणपति के भक्तों की भीड़ लगी रहती है।

इजरायल पर्यटन के लिए तीन साल में पांच शीर्ष बाजारों में शामिल हो सकता है भारत

देश में विलुप्त हुए चीता को मध्यप्रदेश की नौरादेही वन्यजीव अभयारण्य में बसाने की कवायद फिर शुरू

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.