कैंसर बायोमार्कर्स के लिए भारतीय मूल के अमेरिकी वैज्ञानिक को मिला 65 लाख डॉलर का पुरस्कार

Samachar Jagat | Thursday, 13 Sep 2018 08:56:01 AM
Indian-American Scientist Receives 65 Million Dollar Award for Cancer Biomarkers

वाशिंगटन। भारतीय मूल के एक अमेरिकी वैज्ञानिक को कैंसर बायोमार्कर्स की पहचान के लिए पुरस्कार में 65 लाख अमेरिकी डॉलर दिया गया है। कैंसर बायोमार्कर की पहचान से कैंसर के उपचार और इस घातक बीमारी के लिए नयी लक्षित थेरेपी के विकास में मदद मिलेगी। यूएस नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट ने अरुल चिन्नैयन को यह पुरस्कार दिया है। चिन्नैयन मिशिगन विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर हैं। मिशिगन विश्वविद्यालय ने एक बयान में कहा कि चिन्नैयन को नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट से आउटस्टैंडिंग इन्वेस्टीगेटर अवार्ड मिला है।

अब आलीशान क्रूज पर सवार होकर गंगा घाटों और भव्य गंगा आरती का नजारा ले सकेंगे वाराणसी आने वाले पर्यटक

यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन मेडिकल स्कूल में पैथोलॉजी के प्रोफ़ेसर चिन्नैयन ने कहा, इस अनुदान से हमें नए बायोमार्कर की पहचान और कैंसर की वृद्धि में उनकी जैविक भूमिका में समझने में मदद मिलेगी। कैंसर के जानकार चिन्नैयन ने 2010 में मिशिगन ऑकोलाजी सिक्वेंसिग ( एमआई - ओएनसीओएसईक्यू ) कार्यक्रम शुरू किया। बायोमार्कर या बायोलॉजिकल मार्कर एक प्रकार का संकेतक है जो जैविक स्थिति या हालात की जानकारी देता है।

गौरतलब है कि कैंसर जैसी घातक बीमारी की रोकथाम के लिए वैज्ञानिक लगातार रिसर्च कर रहे हैं। हालहि में वैज्ञानिकों ने एक नई विधि विकसित की जो शरीर के एक अंग से दूसरे अंग में कैंसर कोशिकाओं के प्रसार का पता लगाने की क्षमता को बढ़ा सकती है। कैंसर कोशिकाओं के दूसरे अंगों तक पहुंचने से रोग शरीर में फैल जाता है और 90 फीसदी मामलों में कैंसर के कारण मौत हो जाती है। कैंसर के प्रसार के वाहक का पता लगाने से नए उपचार विकसित किए जा सकते हैं जिससे शरीर में कैंसर फैलने की प्रक्रिया को रोका जा सके।

( इस खबर में कुछ अंश एजेंसी से लिया गया है )

इजरायल पर्यटन के लिए तीन साल में पांच शीर्ष बाजारों में शामिल हो सकता है भारत

देश में विलुप्त हुए चीता को मध्यप्रदेश की नौरादेही वन्यजीव अभयारण्य में बसाने की कवायद फिर शुरू



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.