रूस की एस-400 मिसाइल को लेकर भारत-अमेरिका के संबंध

Samachar Jagat | Thursday, 20 Jun 2019 03:30:05 PM
Indo-US relations on Russia's S-400 missile

ट्रम्प प्रशासन ने कहा है कि अमेरिका भारत की रक्षा जरूरतों को आधुनिक प्रौद्योगियों और साजो सामान के साथ पूरा करने में मदद के लिए तैयार है। इसी के साथ उसने आगाह किया कि भारत का रूस से लंबी दूर का ‘‘एस-400 मिसाइल रक्षा तंत्र’’ खरीदने से सहयोग पर असर पड़ सकता है। ट्रम्प प्रशासन का यह बयान अमेरिकी विदेश मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकाीर द्वारा कुछ सप्ताह पहले दी गई ऐसी ही एक चेतावनी के बाद आया है। अधिकारी ने कहा था कि भारत के रूस से मिसाइल तंत्र खरीद से भारत-अमेरिका रक्षा संबंध पर ‘गंभीर-निहितार्थ’ होंगे।

विदेश मंत्रालय की विशेष अधिकारी एलिस जी वेल्स ने एशिया, प्रशांत एवं परमाणु अप्रसार के लिए विदेश मामलों में सदन की उपसमिति को बताया कि अमेरिका अब किसी अन्य देश के मुकाबले भारत के साथ सबसे अधिक सैन्य अभ्यास करता है। एक ओर जहां अमेरिका ने रूस से ‘‘एस-400 मिसाइल रक्षा तंत्र’’ खरीदने से सहयोग पर असर पड़ने की बात कही है, वहीं भारत का कहना है कि भारत अमेरिकी दबाव में रूस से एस-400 समझौता रद्द नहीं करेगा। देश की सुरक्षा जरूरतों और रूस से अरसे पुराने संबंधों के मद्देनजर भारत एयरडिफेंस मिसाइल खरीद मामले में अमेरिकी आपत्ति के बावजूद उसे समझाने का प्रयास करेगा। जापान के ओसाका में जी-20 सम्मेलन के दौरान 28-29 जून को मोदी-ट्रंप के बीच मुलाकात होनी है। इसके पहले ही अमेरिकी विदेश मंत्री पोंपियो भारत की यात्रा पर आने वाले है।

 उनकी यात्रा के दौरान रूस से रक्षा समझौते का मुद्दा उठ सकता है। सूत्रों ने बताया कि भारत रूस के साथ स्वतंत्र रक्षा संबंधों को अमेरिका के साथ अपने बढ़ते सामरिक संबंधों में रोड़ा नहीं मानता। प्रयास लगातार कर रहा है कि दोनों देशों के बीच रक्षा व रणनीतिक संबंध बहुत मजबूत दिशा में है। बहुध्रुवीय कूटनीतिक संबंधों की दुनिया में एक देश का दूसरे देश से संबंध किसी अन्य देश के लिए बाधक नहीं हो सकता। सूत्रों ने कहा कि भारत अमेरिका के साथ अपना रक्षा व्यापार लगातार बढ़ा रहा है। कई नई खरीद परियोजनाओं पर बात चल रही है। रक्षा व्यापार 18 अरब डालर तक पहुंच चुका है। इस साल के अंत में दोनों देशों का सबसे बड़ा सैन्य अभ्यास भी प्रस्तावित है। जिसमें तीनों सेनाएं हिस्सा लेंगी। भारत का मानना है कि रूस के साथ पहले से तय किए गए सौदों को रद्द करना किसी के हित में नहीं है। भारत अभी भी रूस के साजो सामान पर बड़ी मात्रा में निर्भर है।

अमेरिका चाहता है कि भारत उसके साथ रणनीतिक संबंधों के विस्तार के चलते रूस से अपने सामरिक सहयोग को सीमित करे। लेकिन यह अचानक नहीं हो सकता। जानकारों का कहना है कि रूस के साथ रक्षा व्यापार पहले की तुलना में कम हुआ है और अमेरिका के साथ कई गुना बढ़ा है। लेकिन अमेरिका का मानना है कि अगर भारत रूस से एस-400 जैसी अत्याधुनिक एयर डिफेंस मिसाइल खरीदता है तो उसकी अमेरिका से स्वाभाविक खरीद क्षमता का असर पड़ेगा। यहां यह उल्लेखनीय है कि एस-400 रूस का सबसे आधुनिक मिसाइल रक्षा तंत्र है। 

पिछले साल रूस के साथ इस समझौते पर दस्तखत हुए थे। इसे अमेरिका के थाड सिस्टम से भी बेहतर माना जाता है। यह परमाणु क्षमता वाली 36 मिसाइलों को एक साथ नष्ट कर सकता है। यह चार सौ किलोमीटर की दूरी तक और 30 किलोमीटर की ऊंचाई तक किसी भी मिसाइल का एयरक्राफ्ट को मार गिराने में सक्षम है। भारत के लिए यह समझौता मील का पत्थर माना जा रहा है। पड़ोसी देशों से खतरों के मद्देनजर भारत के लिए यह समझौता काफी अहम है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.