अचानक बढ़ी गर्मी: लू का अलर्ट जारी

Samachar Jagat | Friday, 05 Apr 2019 04:36:02 PM
Suddenly the heat: Lu's alert continues

मार्च के अंत में देश के कई हिस्सों में अचानक मौसम ने करवट ली है और तापमान में तेजी से इजाफा हुआ है। दस दिन पहले तक उत्तर भारत में ठंड महसूस की जा रही थी और अब तेजी से बढ़ रहे तापमान पर लोग हैरान है। मंगलवार को मौसम विभाग ने चेतावनी भी जारी की है। विभाग की इस चेतावनी में प्रदेश के अधिकांश शहरों में तापमान 39 से लेकर 42 डिग्री के बीच रहने की संभावना जताई है। हालांकि दो दिन पहले तक मौसम में हुए बदलाव ने जरूर लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत दी। मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में गर्मी बढ़ने की बात कही है। देश के कई राज्यों में रविवार को न्यूनतम तापमान में सामान्य से 5 डिग्री अधिक का इजाफा दर्ज किया गया। बदलते मौसम के बीच राजस्थान में मौसम विभाग ने आधे प्रदेश में लू का अलर्ट जारी किया है।

पश्चिमी राजस्थान और मध्य राजस्थान के जिले प्रभावित होने की बात कही है। इसमें जैसलमेर, जालौर, जोधपुर, बीकानेर, बाड़मेर के अलावा पाली, नागौर, भीलवाड़ा, चूरू व सीकर प्रमुख है। मौसम विभाग की ओर से मंगलवार को जारी किए गए आंकड़ों को देखें तो सोमवार के मुकाबले गर्मी का असर थोड़ा ज्यादा रहा। जबकि रविवार को प्रदेश के 10 शहरों में पारा 40 डिग्री से अधिक दर्ज किया गया। मौसम विभाग के अनुसार पश्चिमी राजस्थान के साथ पूर्वी उत्तर प्रदेश, पश्चिमी मध्यप्रदेश, सौराष्ट्र, कच्छ के कई हिस्सों में लगातार दूसरे दिन तापमान में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की गई।

 मार्च के अंतिम दिन रविवार को अचानक गर्मी बढ़ी और जून जैसी लू चलने लगी। ग्रीष्म ऋतु के पहले महीने मार्च में ही पूरा मध्यप्रदेश प्रचंड गर्मी की चपेट मेें आ गया है। सभी जगह लू चल रही है। दिन का तापमान 40 डिग्री सेल्सियस से ऊपर चला गया है वहीं रात का तापमान भी 30 डिग्री से ऊपर ही रहता है। देश में सबसे ज्यादा तापमान मध्यप्रदेश के खरगोन में 44.5 डिग्री दर्ज किया गया है। महाराष्ट्र के पुणे में मार्च के महीने में 127 साल में दूसरी बार पारा इतना ऊपर गया है। दिल्ली में भी गर्मी ने 8 साल का रिकार्ड तोड़ दिया है। दिल्ली मेें बीते शनिवार को आठ वर्षों मेें सबसे अधिक गर्म दिन दर्ज किया गया। गुजरात और राजस्थान की तरफ से आ रही गर्म हवाओं ने मध्यप्रदेश में मौसम को तेज कर दिया है।

गुजरात में समुद्री हवाएं राजस्थान के मरूस्थली क्षेत्रों के ऊपर से गुजरते समय बहुत तेज लू (हीट वेव) में तब्दील हो जाती है। जिसके कारण मध्यप्रदेश के शहडोल, खजुराहो, दमोह, होशंगाबाद, बेतूल, खंडवा, शाजापुर, गुना और धार बहुत ही गर्म जिले हैं। मध्यप्रदेश के चारों महानगर भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जबलपुर गर्मी से अस्त-व्यस्त हो रहे हैं। यह आशंका व्यक्त की जा रही है कि आने वाले दिनों में चुनाव प्रचार और तेज करना राजनीतिक दलों की मजबूरी होगी, लेकिन इस तेज गर्मी में प्रचार सुनाने वालों को प्रचार सुनने वाले लोग ही नहीं मिलेंगे।

यह आशंका भी निर्मूल नहीं है कि चुनाव के चक्कर में बहुत से प्रचारक लू लगने के शिकार हो जाएंगे। राजस्थान के मध्यप्रदेश से सटे जिले कोटा, बूंदी के साथ ही चित्तौड़गढ़ में लू का असर दिख रहा है। मौसम विभाग के अनुसार नव संवत्सर से राजस्थान में गर्मी का प्रकोप बढ़ेगा। 5 और 6 अप्रैल को प्रदेश में लू का प्रकोप कहीं तेज और कहीं कम रहेगा। पश्चिमी राजस्थान में लू चलने की संभावना है।

मौसम विभाग के प्रवक्ता के अनुसार 5 अप्रैल को उत्तर-पूर्वी राजस्थान के अलवर, भरतपुर, दौसा, धौलपुर, झुंझुनूं में धूलमरी आंधी के साथ बूंदाबांदी हो सकती है। बाकी प्रदेश में लू का असर बना रहेगा। अजमेर, जयपुर, सवाईमाधोपुर, टोंक, कोटा, बूंदी में लू का असर बना रहेगा। यह जलवायु परिवर्तन का ही असर है कि मौसम का मिजाज दिन प्रतिदिन अजीबोगरीब होता जा रहा है। फरवरी और मार्च के मध्य तक उत्तरी हिमालयी राज्यों में तेज हिमपात की खबरें आ रही थी कि मार्च के अंतिम दिन मौसम ने अचानक पलटी मारी और तापमान में 5 डिग्री तक बढ़ोतरी हो गई। गर्मी के जैसे तेवर है उससे जल संकट गहराने की संभावना है।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.