अठाइस देशों के शीर्ष संस्थान भारत में करेंगे शोध

Samachar Jagat | Monday, 10 Dec 2018 05:06:54 PM
Top eight nations to study in India

एमआईटी, कैंब्रिज विश्वविद्यालय और होवर्ड विश्वविद्यालय जैसे दुनियाभर के 25 देशों के विश्वविद्यालय अगले साल से अपने सहयोगी भारतीय उच्च शिक्षा संस्थान के साथ मिलकर शोध करेंगे। दरअसल अकादमिक और शोध सहभागिता को बढ़ावा देने के लिए शुरू की गई स्पार्क योजना के तहत 502 विदेशी विश्वविद्यालय 346 भारतीय उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ मिलकर अब तक 12 सौ से अधिक आवेदन कर चुके हैं। आवेदन की अंतिम तिथि 7 दिसंबर थी। स्पार्क के तहत वही विदेशी संस्थान आवेदन कर सकते हैं, जिनकी क्यूएस रैंकिंग 500 के अंदर हो या विषय आधारित रैंकिंग में 200 के अंदर जिनका स्थान हो। भारतीय संस्थाओं के लिए एनआईआरएफ रैंकिंग 100 के अंदर रहने की शर्त है। 

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अनुसार आवेदन की अंतिम तारीख पहले 30 नवंबर तय थी। हालांकि कई संस्थाओं के अनुरोध मिलने के बाद इसे 7 दिसंबर तक बढ़ाया गया। मंत्रालय के अनुसार 3 दिसंबर तक मंत्रालय को 753 आवेदन मिल चुके थे, जबकि 464 आवेदन प्रक्रिया में है। इनमें सबसे अधिक आवेदन 208 अमेरिकी उच्च शिक्षा संस्थानों से आए हैं। जिनमें एमआईटी और होवर्ड जैसे विश्व के शीर्ष उच्च शिक्षा संस्थान शामिल है। 


ब्रिटेन से 117 आवेदन आए हैं, जिनमें कैंबिज विश्वविद्यालय एवं लंदन विश्वविद्यालय शामिल है। जर्मनी, फ्रांस, आस्ट्रेलिया, कनाडा, इजरायल से भी भारी संख्या में आवेदन आए है। भारतीय संस्थानों में आईआईएससी, सभी आईआईएसईआर, सभी आईआईटी, सभी एनआईटी और एम्स समेत कुछ सरकार एवं निजी उच्च शिक्षा संस्थान शामिल है। मानव संसाधान मंत्रालय के अनुसार इस आवेदनों को छांटने के लिए विशेषज्ञों के समूह के पास भेजा जाएगा। इसके बाद आवेदनों पर उच्च शिक्षा सचिव आर सुब्रमण्यम की अध्यक्षता वाला उच्च अधिकार प्राप्त समूह विचार करेगा। पूरी प्रक्रिया दो महीनों में पूरी कर ली जाएगी। शिक्षाविदों का मानना है दुनिया के शीर्ष संस्थानों के साथ मिलकर शोध करने से भारतीय संस्थानों में शोध की नई संस्कृति विकसित होगी।

इससे भारत के उच्च शिक्षा संस्थाओं की अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में बड़ा उछाल देखने को मिलेगा। यहां यह बता दें कि एक भी भारतीय उच्च शिक्षा संस्थान क्यूएस रैंकिंग एवं टाइम्स हायर एजुकेशन रैंकिंग में आज तक शीर्ष 100 में स्थान हासिल नहीं कर सका है। यहां यह उल्लेखनीय है कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने शोध के लिए पांच थीम तय किए थे। इन्हीं के दायरे में रहते हुए संस्थानों ने कृत्रिम बुद्धिमता, (एआई) स्पेस प्रबंधन तकनीक, कृषि एवं खाद्य सुरक्षा, किफायती स्वास्थ्य सेवा, रोबोटिक्स, नैनो टेक्नोलॉजी आदि विषयों पर शोध के लिए अपने आवेदन जमा किए है। आशा की जाती है कि इससे भारतीय संस्थानों के शोध क्षेत्र में एक नई संस्कृति विकसित होगी।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.