अर्थव्यवस्था के लिए साहसिक कदम उठाने से कतरा रही है सरकार : चिदम्बरम

Samachar Jagat | Thursday, 11 Jul 2019 02:36:54 PM
Chidambaram: Government is gripped by taking bold steps for economy: Chidambaram

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदम्बरम ने आम बजट में ढांचागत सुधारों की कमी पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि अभी देश की अर्थव्यवस्था बेहद कमजोर है और भारतीय जनता पार्टी की सरकार भारी जनादेश के बावजूद अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए ‘साहसिक निर्णय’ नहीं ले रही है। 

Rawat Public School

चिदम्बरम ने राज्यसभा में बजट पर बुधवार से जारी चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि पिछले 20-25 सालों में केवल 11 बार ही बजट में ढांचागत सुधार किये गये हैं और उनमें से अधिकतर सुधार पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में हुए हैं। उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था में हर बदलाव को सुधार की संज्ञा नहीं दी जा सकती। लाइसेंस राज और विदेशी मुद्रा अधिनियम से संबंधित फेरा कानून को समाप्त किया जाना आर्थिक सुधारों की श्रेणी में आते हैं लेकिन इस बजट में ऐसा कोई ढांचागत सुधार नहीं किया गया है। 

कांग्रेस सदस्य ने कहा कि उन्हें हैरानी होती है कि भारतीय जनता पार्टी को 303 सीटों का भारी जनादेश मिला है लेकिन वह अर्थव्यवस्था को मजबूतन बनाने के लिए साहसिक कदम उठाने से क्यों कतरा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 140 और 206 सीटों के साथ सरकार चलायी यदि उसे भारी जनादेश मिला होता तो वह साहसिक निर्णय लेने से पीछे नहीं हटती। 

देश की अर्थव्यवस्था को वर्ष 2025 तक 50 खरब डालर बनाने की घोषणा पर चुटकी लेते हुए उन्होंने कहा कि मोदी सरकार इसे ‘तिल का ताड़ ’ की तरह पेश कर रही है जबकि सच्चाई यह है कि हमारी अर्थव्यवस्था 12 प्रतिशत की वृद्धि दर के साथ स्वत ही हर 6 साल में दोगुनी हो रही है। यह सामान्य गणित है इसमें कोई बड़ी बात नहीं है। पिछले बीस साल से अर्थव्यवस्था इसी तरह बढ रही है। इसे ‘चन्द्रयान के चंद्रमा ’ पर पहुंचने की उपलब्धि की तरह पेश किया जा रहा है। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.