जब मोदी को सामने देख घबरा गयेे थे इमरान

Samachar Jagat | Sunday, 29 Jul 2018 03:27:40 PM
Imran Khan when Modi was nervous in front

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। पाकिस्तान के वजीर ए आजम बनने जा रहे पूर्व क्रिकेट कप्तान इमरान खान का एक बार जब श्री नरेंद्र मोदी से आमना सामना हुआ था तो वह बुरी तरह घबरा गये थे। यह वाकया 2006 में यहां एक सम्मेलन के दौरान हुआ था। श्री मोदी उस समय गुजरात के मुख्यमंत्री थे। इस वाकिये का खुलासा इमरान पर लिखी गयी पुस्तक 'इमरान वर्सेज इमरान-द अनटोल्ड स्टोरी' में किया गया है।

माइक हसी ने कहा कुलदीप की जगह इस खिलाड़ी को मिले मौका...

पाकिस्तान में हाल में हुये राष्ट्रीय एसेंबली के चुनाव में इमरान खान की पार्टी 'पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ' सबसे बड़े दल के रूप में उभरी है और वह सत्ता में आने जा रही है। इमरान और श्री मोदी को इस सम्मेलन में वक्ता के तौर पर आमंत्रित किया गया था। इमरान को यह जानकारी नहीं थी कि श्री मोदी भी उनके पैनल में शामिल हैं। वह अपनी सीट पर बैठे ही थे कि उन्होंने देखा कि सामने से श्री मोदी उनकी ओर चले आ रहे हैं। श्री मोदी एक झटके में उनके ठीक सामने आ गये जिन्हें देखकर इमरान सन्न रह गये।

उन्होंने नजरें बचाने की कोशिश की लेकिन श्री मोदी ने उनसे गर्मजोशी के साथ हाथ मिलाया। न चाहते हुए भी इमरान को मजबूरन खड़े होना पड़ा। श्री मोदी ने इमरान के साथ बातचीत में उनके क्रिकेट कौशल की जमकर सराहना की। उन्होंने इमरान के नेतृत्व में पाकिस्तानी क्रिकेट टीम और भारतीय टीम के कई मुकाबलों को याद किया। इमरान भी इस बात से हैरान थे कि श्री मोदी के पास क्रिकेट और उनके खेल को लेकर कितनी जानकारी है।

उन्होंने इमरान की गेंदबाजी, बल्लेबाजी और कप्तानी तीनों की जमकर सराहना की। किताब में बताया गया है कि इमरान के लिये अचानक हुई यह मुलाकात मुश्किल भरी थी और वह उस समय मूक होकर रह गये थे। जैसे तैसे उन्होंने अपनी सराहना के लिए श्री मोदी का धन्यवाद किया। इमरान की हालत उस समय और पतली हो गयी जब उन्होंने देखा कि कई फोटोग्राफर इस मुलाकात को कैमरे में कैद करने के लिये लपके चले आ रहे हैं।

एस्ट्रो टर्फ: हॉकी को 'हिट एंड रन' का खेल बनाने वाली यूरोपीय चाल

किताब के अनुसार श्री मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री रहते 2002 में वहां हुए दंगों के कारण पाकिस्तान में उनकी छवि काफी खराब बनी हुई थी और इमरान को उस समय यह ख्याल दहशत में डाल गया कि यदि इस मुलाकात की फोटो पाकिस्तान के अखबारों में मुख पृष्ठ पर छप गयी तो उनकी राजनीतिक छवि को गहरा झटका लगेगा, लेकिन वह उस समय कुछ करने की स्थिति में नहीं थे। किताब में कहा गया है कि इमरान को उस वक्त बड़ी राहत मिली जब उन्होंने पाया कि पाकिस्तानी प्रेस में इस मुलाकात को लेकर कुछ भी नहीं छपा है और इसकी तस्वीरें सीमा पार नहीं पहुंच पायी हैं।- एजेंसी

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.