जर्मनी से 0-2 से हारी भारतीय हाकी टीम

Samachar Jagat | Tuesday, 05 Dec 2017 04:00:41 AM
Indian hockey team losing 0-2 to Germany

भुवनेश्वर। भारतीय टीम को बेहद लचर और निराशाजनक प्रदर्शन के कारण जर्मनी के हाथों यहां पूल बी में 0-2 से हार का सामना करना पड़ा जो उसकी हाकी विश्व लीग (एचडब्ल्यूएल) फाइनल में लगातार दूसरी हार है। 

दर्शकों को फिर से निराशा का सामना करना पड़ा क्योंकि जर्मनी ने दूसरे क्वार्टर में दो गोल दागकर बढ़त बनायी और उसे आखिर तक बरकरार रखा। जर्मनी के लिये कप्तान माटिन हानेर ने 17वें मिनट में और मैट्स ग्रामबुस्क ने 20वें मिनट में गोल किये। 

भारत की यह आठ देशों के इस टूर्नामेंट में लगातार दूसरी हार है। पहले मैच में आस्ट्रेलिया को 1-1 से बराबरी पर रोकने के बाद भारतीय टीम अगले मैच में इंग्लैंड से 2-3 से हार गयी थी। इस तरह से वह पूल बी में केवल एक अंक लेकर सबसे निचले स्थान पर रहा। जर्मनी ने दो मैच जीते और एक ड्रा कराया और वह पूल बी में सात अंक के साथ शीर्ष पर रहा।  

इससे पहले दिन के एक अन्य मैच में विश्व चैंपियन आस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड से 2-2 से ड्रा खेला। आस्ट्रेलिया की तरफ से डायलन वूथरस्पून (33वें मिनट) और ब्लैक गोवर्स (42वें मिनट) ने गोल किये। इंग्लैंड के लिये लियाम अनसेल (चौथे) और फिल रोपर (54वें मिनट) ने गोल दागे। 

अपने पूल में सबसे निचले स्थान पर रहने के कारण भारत को अब क्वार्टर फाइनल में पूल ए से शीर्ष पर रहने वाली टीम से भिडऩा होगा जबकि जर्मनी पूल ए से चौथे स्थान पर रहने वाली टीम से खेलेगा। पूल ए की तालिका का कल अजेटीना और स्पेन तथा बेल्जियम और नीदरलैंड के बीच मैच के बाद निर्धारण होगा। 

जर्मनी ने शुरू से ही दबदबे वाली हाकी खेली लेकिन भारत ने भी पहले क्वार्टर में कुछ अच्छे जवाबी हमले किये। खेल के 15वें मिनट ने रूपिंदर पाल सिंह ने चिंगलेनसना को गेंद सौंपी थी जिनके पास गोल करने का मौका था लेकिन वह चूक गये। 

जर्मनी ने दूसरे क्वार्टर में तीन मिनट के अंदर दो गोल करके भारत को दबाव में ला दिया जिससे वह आखिर तक नहीं उबर पाया। जर्मनी को दूसरे क्वार्टर के शुरू में पेनल्टी कार्नर मिला और हानेर ने ग्राउंड फ्लिक से उसे गोल में बदला। दर्शक तब सन्न रह गये जब जर्मन टीम ने इसके तीन मिनट बाद ग्रामबुस्क के गोल से अपनी बढ़त दोगुनी कर दी। 

भारत ने इसके बाद कुछ अच्छा खेल दिखाया और मौके बनाये लेकिन जर्मनी के गोलकीपर टोबियास वाल्टर ने बेहतरीन खेल दिखाया और भारतीयों के तमाम प्रयास को नाकाम करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। भारतीयों की पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलने की कमजोरी भी खुलकर सामने आयी। टीम को मिले चारों पेनल्टी कार्नर बेकार गये। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2017 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.