आज पंजाब और कोलकाता के बीच होगा करो या मरो का मुकाबला

Samachar Jagat | Saturday, 12 May 2018 12:26:01 PM
Punjab - Kolkata match today

इंदौर। पिछले मैच में मुंबई इंडियन्स के हाथों हार से आहत कोलकाता नाइटराइडर्स आईपीएल मैच में शनिवार को किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ करो या मरो मैच में फिर से एकजुट प्रदर्शन करने की कोशिश करेगा।

अगर पिछले मैच में कोई टीम 102 रन के बड़े अंतर से पराजित हुई हो तो उसके खिलाफ वापसी करना आसान नहीं होता है, लेकिन केकेआर अब किसी भी तरह की ढिलाई बरतने की स्थिति में नहीं है और उसका मुकाबला ऐसी टीम से है जिसकी बल्लेबाजी काफी मजबूत है।

केकेआर के अभी 11 मैचों में दस अंक हैं और अगर दिनेश कार्तिक और उनकी टीम प्लेऑफ में पहुंचने की उम्मीद बरकरार रखना चाहती है तो उसे आज का मैच हर हाल में जीतना होगा।

किंग्स इलेवन पंजाब की टीम के लिए राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ 15 रन की हार मुश्किलें लेकर भी आई। इसके बाद फे्रंचाइजी की सहमालकिन प्रीति जिंटा और क्रिकेट निदेशक वीरेंद्र सहवाग के बीच मतभेदों की खबर सामने आई जिसका फे्रंचाइजी ने आधिकारिक बयान जारी करके खंडन किया है।

किंग्स इलेवन के अभी 10 मैचों में 12 अंक हैं तथा एक जीत से वे प्लेऑफ के करीब पहुंच जाएंगे, लेकिन हार से उसके लिए आगे की राह कठिन हो जाएगी।

किंग्स इलेवन की तरफ से केएल राहुल (दस मैचों में 471 रन) के लिए यह सत्र शानदार रहा है जबकि क्रिस गेल (सात मैचों में 311 रन ) ने भी कुछ मैचों में अच्छी फार्म दिखाई है, लेकिन उसके अन्य बल्लेबाज पर्याप्त सहयोग नहीं दे पाए हैं जो उसके लिए चिंता का विषय है।

करूण नायर (दस मैचों में 243 रन) ने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई, लेकिन मयंक अग्रवाल (नौ मैचों में 118 रन) ने सबसे अधिक निराश किया है। अग्रवाल ने घरेलू सत्र में ढेर सारे रन बटोरने के बाद आईपीएल में कदम रखा था।

अनुभवी युवराज सिंह सात मैचों में 64 रन ही बना पाए, जिससे टीम प्रबंधन ने उन्हें अंतिम एकादश से बाहर कर दिया। उनका स्थान लेने वाले मनोज तिवारी भी अभी तक नहीं चल पाए हैं।

केकेआर को दूसरी तरफ अपने टीम चयन को लेकर अपने कुछ अजीबो गरीब फैसलों के कारण हार झेलनी पड़ी। रिंकू सिंह को चार मैचों में मौका दिया गया लेकिन उत्तर प्रदेश का यह बल्लेबाज इसका फायदा नहीं उठा पाया।

नितीश राणा (240 रन ) की शार्ट पिच गेंदों के सामने कमजोरी खुलकर सामने आई है। गेंदबाजों में स्पिनर पीयूष चावला और कुलदीप यादव के काफी महंगा साबित होने के कारण केकेआर को नुकसान उठाना पड़ा। केकेआर को उम्मीद रहेगी शुभमान गिल और शिवम मावी इस मैच तक फिट हो जाएंगे।

केकेआर की अन्य समस्या सीनियर खिलाडिय़ों क्रिस लिन और रोबिन उथप्पा का निरंतर एक जैसा प्रदर्शन नहीं कर पाना भी है। सुनील नारायण (13 विकेट और 202 रन ) ने अपना प्रभाव छोड़ा है, लेकिन आंद्रे रसेल शुरूआती मैचों के बाद अपने सर्वश्रेष्ठ के करीब नहीं हैं।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.