प्रवासी जीवों की रक्षा का संदेश देंगे रणदीप हुड्डा

Samachar Jagat | Tuesday, 18 Feb 2020 11:59:11 AM
Randeep Hooda will give message of protecting migratory creatures

गांधीनगर। प्रवासी जीवों विशेषकर जलीय जीवों के संरक्षण का संदेश आम लोगों तक पहुंचाने के इस संबंध में बने संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन (सीएमएस) ने फिल्म अभिनेता रणदीप हुड्डा को अपना एम्बेसडर नियुक्त किया है।

सीएमएस के सदस्य देशों की यहां हो रही 13वीं बैठक के दौरान सोमवार देर शाम आयोजित एक कार्यक्रम में श्री हुड्डा को जलीय जीवों के लिए, बीबीसी, डिस्कवरी और नेशनल जियोग्राफिक के लिए वन्य जीवों पर कई वृत्त चित्र बनाने वाले जाने-माने जीवशास्त्री एवं संरक्षणवादी इयान रेडमंड को जमीन पर रहने वाले जीवों के लिए और एक विशेष प्रजाती के हंसों को बचाने के लिए पैरामोटर से 7००० किलोमीटर की हवाई यात्रा करने वाली साशा डेंच को पक्षियों तथा अन्य नभचरों के लिए एम्बेसडर बनाया गया है। सीएमएस की कार्यकारी अध्यक्ष एमी फ्रेंकल ने तीनों को औपचारिक रूप से एम्बेसडर नियुक्त किया।

श्री हुडडा ने कहा कि वह दिल से एक संरक्षणवादी हैं और पहले से ही मुंबई के बसोवा समुद्र तट की सफाई के अभियान से जुड़े रहे हैं। 'हैशटैग हीरोज विदआउट मेकअप’ की पहल के तहत उन्होंने असल जिदगी के हीरो की तलाश शुरू की थी। तब उनकी मुलाकात अफरोज शाह नाम के एक व्यक्ति से हुई जो दो अन्य लोगों के साथ मिलकर बसोवा समुद्र तट को साफ करने की मुहिम छेड़े हुये थे। वहीं से समुद्र के प्रदूषण और समुद्री जीवों के संरक्षण में उनकी रुचि पैदा हुई। तब उन्हें पता चला कि हमारी आधुनिक जीवनशैली के कारण समुद्र मर रहा है। बटन, दूध के पैकेट, पेन, गुटखा के पैकेट, सिगरेट के बड तथा इसी प्रकार की कई अन्य चीजें उसमें जा रही हैं।

एक अनुमान का हवाला देते हुये उन्होंने कहा कि हर साल एक लाख समुद्री जीवों की मौत इन प्रदूषणों के कारण हो जाती है। साथ ही 1० लाख समुद्री पक्षी प्लास्टिक खाकर मर जाते हैं। उन्होंने कहा कि इस अवधारणा के कारण कि हम कुछ नहीं कर सकते, अधिकतर लोग कुछ करने की मानसिकता तैयार नहीं कर पाते, वे अपनी जीवनशैली और व्यवहार में बदलाव नहीं ला पाते। इसलिए यह जरूरी है कि हम सफलता की कहानियां लोगों के सामने लायें जिससे वे प्रेरणा ले सकें। बसोवा समुद्र तट से बीच में गायब हो चुके समुद्री कछुए तट की सफाई के बाद अब वापस तट पर लौटने लगे हैं।

श्री हुड्डा ने कहा कि सीएमएस का एम्बेसडर बनने से उन पर लोगों को जागरुक करने की यह बड़ी जिम्मेदारी आ गयी है। साथ ही यह सीखने और जमीनी स्तर पर काम करने का भी अवसर देता है। यह पूछे जाने पर कि एक फिल्म अभिनेता के लिए यह काम कितना कठिन है उन्होंने कहा कि जिस काम में व्यक्ति की रुचि हो उसके लिए समय मिल ही जाता है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.