भाजपा के कद्दावर नेता के साथ उन्नाव के दरिंदों के संबंध होने का दावा

Samachar Jagat | Monday, 09 Dec 2019 07:09:26 AM
1052368927241279

उन्नाव पर बवाल थमता नहीं दिख रहा है. पीड़िता को जिंदा जलाने वाला का संबंध भाजपा के कद्दावर नेता हृदयनारायण दीक्षित से है, ऐसा भी कहा जा रहा है. भाजपा नेता का राज्य की राजनीति में उनका दबदबा है. विधानसभा के वे स्पीकर हैं. उनसे संबंध को भाजपा छुपाने में लगी रही लेकिन धीरे-धीरे यह बात खुल रही है. हालांकि प्रियंका गांधी ने इशारों-इशारों में इस बात का जिक्र किया था. लेकिन अब यह बात जग जाहिर हो गई है. उन्नाव पीड़िता की सफदरजंग अस्पताल में मौत ने पूरे देश को झकझोर दिया है. बलात्कार के आरोपियों ने उसे जिंदा जला दिया था. जिसमें वो नब्बे फीसद जल गई थी.

इस केस की सुध लेने के लिए जब योगी सरकार के दो मंत्री उन्नाव के गांव में पहुंचे तो उन्हें नाराज स्थानीय लोगों के प्रदर्शन का सामना करना पड़ा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दो मंत्रियों कमल रानी वरुन और स्वामी प्रसाद मौर्य को उन्नाव भेजा. उनके साथ उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज भी थे. लेकिन तीनों की फजीहत हो गई. हालांकि साक्षी महाराज ने उन्नाव की गौरव गाथा बयान करते हुए इस घटना की निंदा की लेकिन इस बयान से ठीक पहले जेल में बंद बलात्कार के आरोपी कुलदीप सेंगर को ट्वीट कर बधाई दी थी. जिस पर उनकी सोशल मीडिया में फजीहत हुई. बाद में वह ट्वीट साक्षी महाराज ने हटाया.

इससे पहले योगी ने बयान जारी कर कहा था कि वे महिला की मौत से बहुत दुखी हैं और इस केस की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी. उन्होंने सुनिश्चित किया कि दोषियों को सख्त से सख्त सजा मिलेगी. मंत्रियों की गाड़ी जब गांव में घुसी तो स्थानीय लोगों ने चिल्लाते हुए कहा कि अब क्यों आए हो,. इसके बाद गुस्साए ग्रामीणों को पुलिसकर्मियों ने कार से दूर रखा. पीड़ित परिवार के घर का दौरा करने के बाद मौर्य ने कहा कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा. पीड़ित का परिवार जो भी जांच चाहता है, हम उसे करेंगे. पीड़ित ने जिनका भी नाम लिया है उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. यह राजनीति का विषय नहीं है.

योगी आदित्यनाथ सरकार को इस मुद्दे पर विपक्ष लगातार घेर रहा है. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने भी पीड़ित परिवार के घर का दौरा किया और कहा कि मुख्यमंत्री कहते हैं कि यहां अपराधियों के लिए कोई जगह नहीं है लेकिन मुझे लगता है कि यहां महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं है. प्रियंका गांधी ने यह भी कहा कि उन्होंने सुना है कि हमलावरों के संबंध भाजपा से हैं. पीड़िता के पूरे परिवार का बीते साल से उत्पीड़न किया जा रहा है. भाजपा के साथ संबंध होने की वजह से ही उन्हें बचाया जा रहा था. इस राज्य में अपराधियों में कोई भय नहीं है. 

यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सुबह लखनऊ में राज्य विधानसभा के बाहर धरना दिया और योगी से इस्तीफे की मांग की. उन्होंने कहा कि योगी ने विधानसभा में कहा था कि अपराधियों को ठोक दिया जाएगा लेकिन वह एक बेटी की भी जान नहीं बचा सके. यूपी की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भी इस मुद्दे पर कहा कि उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले के बिना एक भी दिन नहीं जाता है. बलात्कार की बढ़ती घटनाओं पर दिल्ली से लेकर पटना व लखनऊ और गोरखपुर तक में लोग सड़कों पर उतरे. लोगों को पुलिस ने हालांकि कई शहरों में पीटा भी लेकिन प्रदर्शन कर रहे लोगों का गुस्सा उबाल पर है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.