केजरीवाल के वादे के बावजूद गरीबों में डर और दहशत का माहौल

Samachar Jagat | Sunday, 29 Mar 2020 01:06:06 PM
1931855422241584

केंद्र सरकार ने लॉकडाउन तो कर दिया लेकिन यह जी का जंजाल बन गया है. सरकार ने इसकी घोषणा करते हुए उन मजदूरों और गरीबों की चिंता नहीं की थी, जो रोज कमाते थे और रोज खाते थे. सरकार ने बिना किसी योजना के लॉकडाउन लागू तो कर दिया लेकिन गरीबों और मजदूरों को यह विश्वास दिलाने में नाकाम रही कि वे जहां हैं वहां रहें, उन्हें खाना मिलेगा, घबराएं नहीं. इसलिए दिल्ली में अपने-अपने घर लौटने की अफरातफरी है. हालांकि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल लोगों को यह भरोसा दिला रहे हैं कि सबकों खाना व सबको आशियान देगी सरकार. लेकिन लोग डर और दहशत में जी रहे हैं. लॉकडाउन के बाद गरीबों को हुई समस्या के बाद कई राज्य सरकारें हरकत में आ गई है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कई घोषणाएं की थी. शनिवार को भी उन्होंने प्रेस से बात कर दिल्ली सरकार की तरफ से किए गए कार्यों की जानकारी दी. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रभावित गरीब लोगों के लिए दिल्ली के 568 स्कूलों और 238 रैन बसेरों में खाना खिलाने का काम शुरु कर दिया गया है. जिसके तहत चार लाख लोगों को खाना खिलाया जा रहा है. केजरीवाल ने कहा कि कुछ दिक्कत आई होंगी लेकिन आने वाले दिनों में यह दिक्कतें भी दूर हो जाएंगी. दिल्ली के मुख्यमंत्री ने राधा स्वामी इस्कॉन अक्षय पात्रा का भी धन्यवाद कहा जो खाना खिलाने में मदद कर रहे हैं. 

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कुछ लोगों को मनाने में हम सक्षम रहे कि वे दिल्ली छोड़कर ना जाएं लेकिन बहुत सारे लोग कह रहे हैं कि हम अपने गांव जाना चाहते हैं क्योंकि उन लोगों को लग रहा है कि यह लॉकडाउन काफी दिनों तक चलेगा. उन लोगों में अपनी भविष्य को लेकर चिंताए हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर हम लोग डाउन का पालन नहीं करेंगे तो जैसे दूसरे देशों में यह बीमारी बहुत सारे जाने ले रही है भगवान न करें हमारे देश में ऐसी नौबत आ जाएगी.

केजरीवाल ने कहा कि लोग अगर इस तरह से घर लौटने के लिए मारामारी करेंगे तो संकट और बढ़ेगा. केजरीवाल ने कहा कि बहुत तेजी से कोरोना वायरस का खतरा पैदा होता है. मैं आपको आश्वासन देता हूं कि किसी तरह की दिक्कत आपको नहीं आने देंग आपके खाने का और रहने का इंतजाम हमने किया हुआ है. लगभग एक हजार दुकानों में राशन पहुंच गया है और प्रति व्यक्ति साढ़े सात किलो राशन 71 लाख लोगों को मुफ्त दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि ट्रक लेकर हमारे फ्लाइंग स्क्वाड घूम रहे हैं. जहां भी कोई जरूरतमंद दिखाई देता है उसको खाने का पैकेट दिया जा रहा है. लेकिन इन तमाम कोशिशों के बावजूद लोग बड़ी तादाद में घर लौटने के लिए मारामारी कर रहे हैं. दिल्ली के आनंद विहार बस अड्डे पर जिस तरह हजारों की भीड़ उमड़ी वह भयावह थी. सरकार का संकट बढ़ा है और लोगों का भी. सरकार इस संकट से कैसे उबरती है, यह बड़ा सवाल है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.