मध्य प्रदेश के भाजपा विधायक ने सीएए के खिलाफ बुलंद की आवाज

Samachar Jagat | Friday, 21 Feb 2020 09:32:58 PM
2854891736986119

नागरिकता संशोधन विधेयक और एनआरसी भाजपा या कहा जाए कि केंद्र सरकार के लिए परेशानी का सबब बन गया है. हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर गृह मंत्री अमित शाह तक कह चुके हैं कि इस कानून को वापस लेने का सवाल ही नहीं है लेकिन देश में इसके खिलाफ प्रतिरोध की आवाज तेज होती जा रही है. अब तो भाजपा के अंदर से भी इसके खिलाफ आवाज उठने लगी है. मध्यप्रदेश के मैहर से भाजपा विधायक नारायण त्रिपाठी ने नागरिकता संशोधन कानून का विरोध किया है. उन्होंने कहा कि धर्म के नाम पर देश का बंटवारा नहीं किया जाना चाहिए. भाजपा नेता ने कहा कि या तो आप संविधान के साथ हैं या विरोध में हैं और संविधान के हिसाब से नहीं चलना है तो संविधान को फाड़ कर फेंक देना चाहिए. मैं गांव से आता हूं और गांव में आज आधार कार्ड नहीं बन रहे तो बाकी कागज कहां से लाएंगे.

नारायण त्रिपाठी ने कहा कि देश में गृह क्लेश के हालत हैं. आज गांव में लोग एक दूसरे की तरफ देख भी नहीं रहे. उन्होंने कहा कि वसुधैव कुटुम्बकम की बात होती है लेकिन धर्म के नाम पर लोगों को बांटा जा रहा है और ऐसा करना गलत है. जब भाजपा विधायक से कहा गया कि आप पार्टी लाइन से अलग हटकर बयान दे रहे हैं तो उन्होंने कहा कि यह मेरे दिल की आवाज है. 

केंद्र सरकार के विवादित नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं. देश की राजधानी दिल्ली में शाहीन बाग सहित सैकड़ों जगह पर लोग इसके विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं. शाहीन बाग के अलावा देश के कई अन्य शहरों लखनऊ, पटना, हैदराबाद, मुंबई में भी लोग प्रदर्शन कर रहे हैं. दिल्ली की बात करें तो यहां करीब दो दर्जन जगहों पर प्रदर्शन हो रहे हैं. गोरखपुर से भाजपा विधायक डॉ. राधा मोहन दास अग्रवाल ने कहा है कि अगर उनके निर्वाचन क्षेत्र के किसी भी मुसलमान को सीएए के क्रियान्वयन के दौरान देश से निकाला गया तो वे उत्तर प्रदेश विधानसभा की अपनी सदस्यता से इस्तीफा दे देंगे. अग्रवाल गोरखपुर से 2002 से विधायक हैं.

भाजपा के सीएए पर अफवाहों को दूर करने के कार्यक्रम के तहत अपने निर्वाचन क्षेत्र के मुसलमानों के इलाके में वे गए. उन्होंने बताया कि संपर्क कार्यक्रम के तहत मैंने मुस्लिमों को भरोसा दिया कि सीएए के तहत अगर मेरे निर्वाचन क्षेत्र गोरखपुर के किसी मुस्लिम नागरिक को बाहर किया जाता है तो मैं अपना इस्तीफा दे दूंगा. उन्होंने कहा कि जहां कहीं भी मैं जा रहा हूं मैं लोगों से पूछ रहा हूं कि उनके डर का क्या आधार है कि सीएए भारतीय मुसलमानों की नागरिकता छीन लेगा. उन्होंने कहा, 'मैं उस अधिनियम के बारे में मुस्लिम लोगों के संदेह को दूर करने की पूरी कोशिश कर रहा हूं, जो बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान में सताए गए गैर मुस्लिमों को नागरिकता देने के लिए है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.