प्रवासी मजदूरों के पलायन पर सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

Samachar Jagat | Monday, 30 Mar 2020 06:03:17 AM
596381006530615

कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश के शहरों से पलायन कर रहे प्रवासी मजदूरों की परेशानियों पर सुप्रीम कोर्ट सोमवार को सुनवाई करेगा. मुख्य न्यायाधीश एसए बोबड़े और जस्टिस एल नागेश्वर राव की पीठ वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए सुनवाई करेगी. सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल कर दिशा-निर्देश जारी करने की मांग की गई है. वकील अलख आलोक श्रीवास्तव ने याचिका में कहा है कि कोरोना की वजह से लॉकडाउन है. इसकी वजह से हजारों की तादाद में प्रवासी मजदूर अपने परिवार के साथ सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल रहे हैं. इनमें बुजुर्ग, बच्चे, महिलाएं और दिव्यांग भी शामिल हैं. उनके पास न तो रहने की सुविधा है और न ही खाने पीने व परिवहन की. इसलिए सुप्रीम कोर्ट देश भर में प्रशासन को आदेश दे कि इन लोंगों को हर जगह शेल्टर होम में रखकर सुविधाएं दी जाएं. 

देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 1024 हो गए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक इस बीमारी से अब तक 27 लोगों की मौत हो चुकी है. राहत वाली बात यह है कि 96 मरीज इस बीमारी से ठीक भी हो चुके हैं. रविवार शाम तक 106 नए मामले सामने आए थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कोरोना वायरस लॉकडाउन की वजह से देश की जनता को रही परेशानियों के लिए क्षमा मांगते हुए कहा कि यह फैसला जरूरी था. उन्होंने कहा कि यह लॉकडाउन आपके खुद के बचने के लिए है. आपको खुद को और अपने परिवार को बचाना है. आपको लक्ष्मण रेखा का पालन करना ही है. कोई कानून, कोई नियम नहीं तोड़ना चाहता लेकिन कुछ लोग अभी भी ऐसा कर रहे हैं. वे हालात की गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं.

कोविड-19 महामारी ने भारत में एक नए तरह का संकट पैदा कर दिया है, यह संकट राजधानी सहित देश के दूसरे इलाकों से प्रवासी कामगारों के सामूहिक पलायन से पैदा हुआ है. कोरोना वायरस के प्रसार रोकने के लिए किए गए राष्ट्रव्यापी बंद के कारण बेरोजगार और बेघर हुए लोग अब अपने गृह नगर और गांव जाने के लिए निकल पड़े हैं. दूसरी तरफ संक्रमित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. कम्यूनिटी इफेंक्शन को रोकने के लिए प्रदेशों की सीमाएं सील करने का आदेश दिया गया है. (राजनीतिक-सामाजिक मुद्दों पर सटीक विश्लेशण के लिए पढ़ें और फॉलो करें).



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.