Bhagwat के डीएनए बयान पर दिग्विजय: 'लव जिहाद के खिलाफ कानून का क्या फायदा?'

Samachar Jagat | Thursday, 08 Jul 2021 11:58:52 AM
Digvijay on Bhagwat's DNA statement: 'What is the use of law against love jihad?'

भोपाल: कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने हाल ही में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के डीएनए वाले बयान की आलोचना की है. दरअसल दिग्विजय सिंह ने बयान देकर मोहन भागवत पर निशाना साधा है. उन्होंने पूछा है, ''हिंदुओं और मुसलमानों का डीएनए एक ही होगा तो मोहन भागवत और ओवैसी का डीएनए एक ही होगा.'' दरअसल उन्होंने कहा, 'अगर हिंदुओं और मुसलमानों का डीएनए एक ही है तो क्या है. धर्मांतरण के खिलाफ कानून का इस्तेमाल?.'

आपको बता दें कि पिछले दिनों आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था, ''भारत में रहने वाले सभी लोगों का डीएनए एक ही है, चाहे वे किसी भी धर्म के हों. वह राष्ट्रीय मुस्लिम मंच द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे. गाजियाबाद में 'हिंदुस्तान पहले, हिंदुस्तान पहले' विषय पर। ऐसे में दिग्विजय सिंह ने मध्य प्रदेश के सीहोर में मोहन भागवत के इस बयान पर कहा. अगर हिंदुओं और मुसलमानों का डीएनए एक ही है, तो धर्मांतरण के खिलाफ कानून का क्या मतलब है? 'लव जिहाद' के खिलाफ कानून का क्या फायदा? तो इसका मतलब है कि मोहन भागवत और ओवैसी का डीएनए एक ही है।


दरअसल, 4 जुलाई को मुस्लिम नेशनल फोरम द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में मोहन भागवत ने कहा था, ''हिंदू-मुस्लिम एकता भ्रामक है क्योंकि वे एक हैं, अलग नहीं हैं. पूजा करने के तरीके के आधार पर लोगों में अंतर नहीं किया जा सकता.' ' उन्होंने राजनीति को एकता को खत्म करने का हथियार भी बताया और कहा, 'भारत में रहने वाले सभी लोगों का डीएनए एक है, चाहे वह किसी भी धर्म का हो, और मुसलमानों को 'डर' के इस चक्र में नहीं फंसना चाहिए कि इस्लाम दांव पर है। भारत। उन्होंने यह भी कहा कि जो लोग कहते हैं कि मुसलमान इस देश में नहीं रह सकते, वे हिंदू नहीं हैं।'



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.