Karnal : हरियाणा के करनाल में किसान महापंचायत के बाद किसानों ने मिनी सचिवालय का किया घेराव, प्रशासन ने प्रदर्शनकारियों पर चलवाई वाटर कैनन, एक बार फिर वार्ता फेल

Samachar Jagat | Tuesday, 07 Sep 2021 07:59:34 PM
Karnal  :  After the Kisan Mahapanchayat in Karnal, Haryana, the farmers surrounded the mini secretariat, the administration fired water cannons on the protesters, once again the talks spread

इंटरनेट डेस्क। हरियाणा के करनाल जिले में आज मंगलवार को किसान महापंचायत में लाखों की संख्या में केंद्र सरकार के विरोध में किसान पहुंचे। आज मंगलवार को हजारों किसानों ने प्रशासन के समझाने के बाद भी जिला मुख्यालय की ओर कूच कर दिया है। इससे पहले किसान संगठनों के नेताओं ने जिला प्रशासन के अधिकारियों से बातचीत की थी, लेकिन वह बेनतीजा रही। किसान संगठनों ने मांग की थी कि 28 अगस्त को जिले में हुए प्रदर्शन के दौरान लाठीचार्ज कराने वाले अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिये। हालांकि प्रशासन ने अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं कि तो किसानों ने मिनी सचिवालय का घेराव किया और जमकर नारेबाजी की। इसके बाद प्रशासन ने किसानों को तितर-बितर करने के लिए वाटर कैनन से पानी की बौछार की। 

 

#WATCH Protesting farmers gherao Mini Secretariat in Karnal, after concluding Kisan Mahapanchayat at Anaj Mandi . #Haryana pic.twitter.com/qxMxm3v6LB — ANI (@ANI) September 7, 2021

एएनआई न्यूज एजेंसी के अनुसार, किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए स्थानीय प्रशासन ने बड़ी संख्या में पुलिस और रैपिड एक्शन फोर्स के जवानों की तैनाती कर रखी थी। प्रदर्शन के बाद 11 किसान नेताओं के प्रतिनिधिमंडल  को अधिकारियों ने बातचीत के लिए बुलाया था। वहीं किसान नेता योगेन्द्र यादव ने कहा कि अभी घेराव शुरू हुआ है, हमारा संकल्प था कि मिनी सचिवालय का घेराव करेंगे। हमने तमाम मुश्किलों के बाद घेराव कर लिया और अब हमारी पहली प्राथमिकता है कि हम घेराव को सफल करें और उसके बाद हम निर्णय लेंगे कि कितनी देर बैठना है। 

 

#WATCH | Protesting farmers hop over barricades amid police deployment on their way to Mini Secretariat in Karnal, Haryana pic.twitter.com/Go8kk1UVmx — ANI (@ANI) September 7, 2021

सीनियर किसान नेता जोगिंदर सिंह उग्रहन ने कहा कि प्रशासन के साथ हमारी बातचीत फेल रही है क्योंकि वे हमारी मांगों को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं हैं। 

 



 
loading...



Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.