Diet Chart : चावल खाने से कतराने वाले एक बार ब्राउन राइस ट्राई कर सकते हैं, मोटापा भी कम होगा और तनाव व अन्य बीमारियों से भी मिलेगा छुटकारा

Samachar Jagat | Thursday, 21 Jan 2021 07:20:33 PM
Diet Chart: Brown rice can be tried once by eating rice clippers, obesity will be reduced and stress and other diseases will also get rid of

इंटरनेट डेस्क। फिटनेस को खास तवज्जों देने वाले लोग चावल खाने से कतराते हैं। क्योंकि चावल खाने से न सिर्फ शरीर का फैट बढ़ता है बल्कि इससे बार-बार भूख भी लगती है लेकिन अगर आप ब्राउन राइस खा रहे हैं, तो वजन बढ़ने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। ज्यादातर लोगों को ब्राउन और वाइट राइस में अंतर नहीं पता होता।

तो आइए जानते हैं आखिर ब्राउन राइस खाने के क्या क्या फायदे हैं...

सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि ब्राउन राइस और सफेद चावल में क्या अंतर है। दरअसल, ब्राउन राइस का भूसा नहीं उतारा जाता, जिससे इसके पोषक तत्व साबुत अनाज जितने ही रहते हैं। सफेद चावल का भूसा उतार कर उसे प्रोसेसिंग करके सफेद पॉलिश युक्त कर दिया जाता है। इस प्रोसेसिंग के दौरान चावल में मौजूद कई पोषक तत्व कम हो जाते हैं। हालांकि, ब्राउन राइस को इसके स्वाद, पकने में ज्यादा समय लेने और ज्यादा समय तक न रख पाने की वजह से भारत में अकसर लोग इसे लेना पसंद नहीं करते, लेकिन अब बेहतर तकनीक की मदद से ब्राउन राइस को ज्यादा समय तक रखा जा सकता है।

ब्राउन राइस के फायदे
सफेद चावल की तुलना में ब्राउन राइस के कई फायदे हैं। ब्राउन राइस में विटामिन, कुछ खनिज, लिगनान और फाइटो कैमिकल व एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर पोषक तत्व होते हैं। इनमें विटामिन ई, सिलेनियम, मैंगनीज होता है। इसे नियमित रूप से अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए। ब्राउन राइस, साबुत अनाज के सबसे बेहतरीन रूपों में से एक है। इसमें शरीर के ऑक्सीडेटिव तनाव और बीमारियों को रोकने के लिए एंटी ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं।

अन्य फायदे
1. मोटापा कम करने में मदद करता है।
2. डायबिटीज के खतरे को कम करता है।
3. हड्डियों में मैग्नीशियम की कमी को पूरा करता है।
4. पेट संबंधी विकारों से बचाव में मददगार साबित होता है।
5. जीआई कम होने के कारण पेट भरा हुआ महसूस होता है।
6. ज्यादा फाइबर से पेट जल्दी भर जाता है।
7. एंटी ऑक्सीडेंट से तनाव और बीमारियां रोकने में मदद मिलती है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.