Brahmos : टेस्टिंग के दौरान फेल हुई दुनिया की सबसे तेज मिसाइल, टेकऑफ के तुरंत बाद हुआ ये हाल

Samachar Jagat | Tuesday, 13 Jul 2021 10:50:51 AM
World's fastest missile failed during testing, soon after takeoff

कल दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस टेस्ट फायरिंग फेल हो गई। कहा जाता है कि ब्रह्मोस टेकऑफ़ के तुरंत बाद उतरा था। ब्रह्मोस के अद्यतन संस्करण का परीक्षण ओडिशा तट से किया जा रहा था, जो 450 किमी तक के लक्ष्य को भेदने में सक्षम है। सूत्रों के मुताबिक परीक्षण में समस्या मिसाइल के प्रणोदन प्रणाली में खराबी के कारण आई है। हालांकि सही कारण जांच के बाद ही सामने आएगा। सूत्रों के मुताबिक आज सुबह लॉन्च के तुरंत बाद मिसाइल दुर्घटनाग्रस्त हो गई।

हालांकि, रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन और ब्रह्मोस एयरोस्पेस कॉर्पोरेशन के वैज्ञानिकों की एक संयुक्त टीम इसकी विफलता के कारणों की जांच कर रही है। ब्रह्मोस एक बहुत ही विश्वसनीय मिसाइल रही है। बहुत कम मौके ऐसे होते हैं जब इसका परीक्षण विफल हो गया हो।


पहले ब्रह्मोस की रेंज 300 किमी से कम थी:-
ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का इस्तेमाल पहले 300 किमी से कम के लक्ष्य को हिट करने के लिए किया जाता था। इसे हाल ही में अपडेट किया गया था और अब यह 450 किमी दूर दुश्मन के ठिकानों पर हमला करने में सक्षम है। गति के मामले में ब्रह्मोस की गिनती दुनिया की गिने-चुने मिसाइलों में होती है। इसकी अधिकांश गति 4,300 किमी प्रति घंटे से अधिक है। मिसाइल बहुत पोर्टेबल है यानी इसे लॉन्च करना आसान है।

मिसाइल रूस के सहयोग से बनाई गई है:-
भारत इससे पहले ब्रह्मोस के कई संस्करण पेश कर चुका है। ब्रह्मोस एयरोस्पेस ने इन्हें भारतीय एजेंसी DRDO और रूस की NPO Mashinostroeynia की मदद से विकसित किया है। ब्रह्मोस मिसाइल का नाम दो नदियों, भारत में ब्रह्मपुत्र और रूस में मोस्कवा के नाम पर रखा गया है। ब्रह्मोस को ब्रह्म और दोनों का मोस नाम दिया गया है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.