India में बाल मृत्युदर में आई कमी: United Nations

Samachar Jagat | Wednesday, 09 Sep 2020 06:30:02 PM
Child mortality reduction in India: United Nations

संयुक्त राष्ट्र। भारत की बाल मृत्युदर में 199० से 2०19 के बीच काफी कमी आई है, लेकिन पिछले साल पांच वर्ष से कम आयु के जिन बच्चों की मौत हुई, उनमें से करीब एक तिहाई बच्चे भारत और नाइजीरिया के थे। संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गयी है।

रिपोर्ट में सचेत किया गया है कि कोविड-19 वैश्विक महामारी वैश्विक स्तर पर बाल मृत्यु में आई कमी की दिशा में दशकों में हुई प्रगति पर पानी फ़ेर सकती है। 'बाल मृत्युदर के स्तर एवं रुझान’ रिपोर्ट 2०2० में कहा गया है कि पांच साल से कम आयु के बच्चों की मौत की संख्या 199० में एक करोड़ 25 लाख से कम होकर 2०19 में 52 लाख रह गई।

इसमें कहा गया है कि पिछले करीब 3० साल में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार से बाल मृत्युदर में कमी आई है, लेकिन कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण वैश्विक सेवाओं में बाधा पैदा हुई है, जिनसे बच्चों की मौत की संख्या में गिरावट की दिशा में बड़ी मुश्किल से दशकों में हुई प्रगति पर पानी फिर सकता है।

मृत्युदर को लेकर यूनिसेफ, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ), संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक और सामाजिक मामलों के विभाग के जनसंख्या प्रभाग और विश्व बैंक समूह द्बारा जारी नए अनुमान के अनुसार भारत में पांच साल से कम आयु के बच्चों की मृत्युदर (प्रति 1,००० जीवित बच्चों की मौत) 199० में 126 से कम होकर 2०19 में 34 रह गई।

देश में 199० से 2०19 के बीच पांच साल से कम आयु के बच्चों की मौत में 4.5 प्रतिशत की वार्षिक कमी दर्ज की गई है। भारत में पांच साल से कम आयु के बच्चों की मौत की संख्या 2०19 में 8,24,००० रही, जबकि 199० में यह 34 लाख थी।

रिपोर्ट के अनुसार भारत में शिशु मृत्युदर (प्रति 1,००० जीवित शिशुओं की मौत) 199० में 89 की तुलना में पिछले साल 28 रह गई। देश में पिछले साल 6,79,००० शिशुओं की मौत हुई थी, जबकि 199० में यह संख्या 24 लाख थी।

भारत में 199० में लड़कों की बाल मृत्युदर 122 और लड़कियों की बाल मृत्युदर 131 थी। पिछले साल लड़कों की बाल मृत्युदर 34 और लड़कियों की मृत्युदर 35 रही। रिपोर्ट में कहा गया है, ''2०19 में पांच साल से कम आयु के जिन बच्चों की मौत हुई, उनमें से आधे बच्चों की मौत (49 प्रतिशत) पांच देशों- नाइजीरिया, भारत, पाकिस्तान, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य और इथियोपिया में हुई। केवल नाइजीरिया और भारत में करीब एक तिहाई बच्चों की मौत हुई।’’ (एजेंसी) 



 
loading...


Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.