BREAKING NEWS
Hindi News

Religion News

अजमेर। राजस्थान के अजमेर में चल रहे मिनी उर्स ( मोहर्रम ) के मौके पर देश दुनिया से आए हजारों जायरीनों के लिए सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह में चांदी का ताजिया रखा गया जिसकी जायरीनों ने जियारत की। 
धर्म डेस्क। तेजादशमी का पर्व संपूर्ण भारत के अनेक प्रांतों में श्रद्धा, आस्था एवं विश्वास के प्रतीकस्वरूप मनाया जाता है। भाद्रपद शुक्ल दशमी को तेजदशमी पर्व मनाया जाता है। नवमी की पूरी रात रातीजगा करने के बाद दूसरे दिन दशमी को जिन-जिन स्थानों पर वीर तेजाजी के मंदिर हैं, मेला लगता है।
धर्म डेस्क। फूल घर में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करते हैं, जिस घर में रंग-बिरंगे फूल लगे होते हैं उस घर से नकारात्मकता दूर रहती है। इसी के साथ घर में इन रंग-बिरंगे फूलों को देखकर मन में भी प्रसन्नता रहती है। फूल खुशहाली का तो प्रतीक होते ही हैं इसके साथ ही एक फूल को फेंगशुई में बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है।
धर्म डेस्क। वास्तु शास्त्र में ऐसी कई छोटी - छोटी चीजों के बारे में बताया गया है जिनके बारे में जानकर व्यक्ति भविष्य में क्या होने वाला है इसके बारे में जान सकता है। जैसे रसोई घर में किन चीजों को कहां रखना चाहिए। राशि के अनुसार आपको किस रंग के कपड़े पहनने चाहिए।
मथुरा। गिरि गोवर्धन की तलहटी में अनंत चतुर्दशी के मौके पर 23 सितंबर को होने वाले त्रिदिवसीय अलौकिक छप्पन भोग महोत्सव की तैयारी जोरशोर से की जा रही है। वैसे तो गिर्राज की तलहटी में छप्पन भोग का आयोजन कोई नई परंपरा नही है। समय समय पर विभिन्न संस्थाओं द्वारा छप्पन भोग का आयोजन किया जाता है
धर्म डेस्क। फिटकरी औषधी स्वरूप है, इसका उपयोग दवाईयों में तो किया ही जाता है इसके साथ ही इसके कुछ अचूक टोटके भी हैं जो परेशानी में घिरे इंसान के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। आइए आपको बताते हैं इन टोटकों के बारे में....
धर्म डेस्क। व्यक्ति की आदत होती है कि वह कोई भी काम प्रारंभ तो कर देता है लेकिन उसे पूरा नहीं करता है। जबकि कुछ काम ऐसे होते हैं जिन्हें पूरा करना आवश्यक होता है। शास्त्रों में भी बताया गया है कि अगर कुछ कामों को पूरा न किया जाए तो व्यक्ति को अनेक प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है ।
धर्म डेस्क। हनुमान चालीसा में भगवान हनुमान के जीवन का सार छुपा है जिसे पढ़ने से जीवन में प्रेरणा मिलती है। हनुमान चालीसा को महान कवि तुलसीदास जी ने लिखा था। इसमें 40 छंद होते हैं जिसके कारण इसको चालीसा कहा जाता है। यदि कोई भी इसका पाठ करता है तो उसे चालीसा पाठ बोला जाता है।
पटना। भगवान विश्वकर्मा को निर्माण और सृजन का देवता माना जाता है, उन्हें दुनिया का सबसे पहला इंजीनियर भी कहा जाता है। 17 सितंबर को पूरे देश में भगवान विश्वकर्मा पूजा मनाई जाती है। राजधानी पटना समेत पूरे प्रांत में विश्वकर्मा जयंती धूम-धाम से मनायी जा रही है।
धर्म डेस्क। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी के दिन राधा रानी का जन्म हुआ था इसीलिए इस दिन को राधाष्टमी के नाम से जाना जाता है। राधाष्टमी के दिन व्रत करने से विशेष पुण्य फल की प्राप्ति होती है। राधा - कृष्ण जिनके इष्टदेव हैं, उन्हें राधाष्टमी का व्रत अवश्य करना चाहिए

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.