अगर आप 16 जून के बाद कराते हैं कार या बाइक का बीमा तो करना पड़ेगा इतना ज्यादा भुगतान

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Jun 2019 10:28:24 AM
Third party insurance for cars, two-wheelers will be expensive from June 16

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। कार और दोपहिया वाहनों का तीसरा पक्ष बीमा (थर्ड पार्टी बीमा) 16 जून से महंगा हो जाएगा। दरअसल , बीमा नियामक इरडा ने वाहनों की कुछ श्रेणियों के लिए अनिवार्य तीसरे पक्ष के बीमा प्रीमियम में 21 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी की है। सामान्य तौर पर तीसरा पक्ष बीमा प्रीमियम की दरों को एक अप्रैल से संशोधित किया जाता है। हालांकि , 2019-20 के लिए नई दरें 16 जून से लागू होगी। भारतीय बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (इरडा) ने आदेश में कहा कि 1,000 सीसी से कम क्षमता वाली छोटी कारों का तीसरा पक्ष बीमा प्रीमियम में 12 प्रतिशत की वृद्धि की गई है।

इस वजह से मारूति ने चौथे महीने में भी की वाहनों के उत्पादन में कटौती

Samachar Jagat

अब प्रीमियम 1,850 रुपए (वर्तमान में) से बढ़कर 2,072 रुपए हो जाएगा। इसी प्रकार , 1,000-1,500 सीसी के वाहनों का बीमा प्रीमियम 12.5 प्रतिशत बढ़कर 3,221 रुपए हो गया है। हालांकि , 1,500 सीसी से ऊपर की कारों के लिए तीसरा पक्ष बीमा प्रीमियम नहीं बढ़ाया गया है। इसे 7,890 रुपए पर बरकरार रखा है। दोपहिया वाहनों के मामले में 75 सीसी से कम के दोपहिया वाहनों के लिए तीसरा पक्ष प्रीमियम 12.88 प्रतिशत बढ़कर 482 रुपए हो गया। इसी प्रकार 75 से 150 सीसी के दोपहिया वाहन के लिए प्रीमियम 752 रुपए किया गया है। 150-350 सीसी क्षमता वाले दोपहिया वाहनों के लिए थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम में सबसे ज्यादा वृद्धि की गई है।

इस तिमाही 13 दिनों के लिए उत्पादन बंद रखेगी महिंद्रा एंड महिंद्रा, वाहनों की उपलब्धता पर नहीं पड़ेगा कोई असर

Samachar Jagat

इस श्रेणी के दोपहिया वाहनों का प्रीमियम 985 रुपए से 21.11 प्रतिशत बढ़कर 1,193 रुपए हो जाएगा। सुपर बाइक (355 सीसी से ऊपर के दोपहिया वाहन) के प्रीमियम में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इरडा ने माल ढोने वाले निजी और सार्वजनिक वाहनों के लिए भी तीसरे पक्ष बीमा प्रीमियम में वृद्धि की है। ई - रिक्शा के मामले में दरों में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है। हालांकि स्कूल बसों के मामले में तीसरे पक्ष के बीमा प्रीमियम में वृद्धि की गई है। दीर्घकालिक एकल प्रीमियम दरों में कोई बदलाव नहीं किया गया है। कारों के मामले में दीर्घकालिक प्रीमियम की अवधि तीन साल और दोपहिया वाहनों के लिए यह अवधि पांच साल है। -एजेंसी

भारत में हाइब्रिड वाहनों पर लगने वाले कर के बारे में विचार करने की जरूरत: टोयोटा



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.