सेबी ने जुर्माना नहीं चुकाने वाली 1,677 इकाइयों की सूची जारी की

Samachar Jagat | Monday, 13 Aug 2018 05:13:50 PM
Sebi issues list of non-paying 1,677 units

नई दिल्ली। बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड ( सेबी ) ने जुर्माने का भुगतान नहीं करने वाले 1,677 इकाइयों की सूची जारी की है। इनमें वे कंपनियां, व्यक्ति शामिल हैं जो सेबी द्वारा लगाए गए जुर्माने को 31 मई तक चुकाने में नाकाम रहे हैं। सेबी की वेबसाइट पर आज जारी इस सूची में 31 दिसंबर 2017 तक के आदेशों के तहत लगाए गए जुर्माने का मई 2018 तक भुगतान नहीं करने वाले शामिल किए गए हैं। 

इनमें कम से कम 15,000 रुपए के जुर्माने वाले भी शामिल हैं। इसके अलावा कुछ पर लाख रुपए और कुछ पर करोड़ों रुपए का भी जुर्माना लगाया गया है। ये जुर्माने कंपनियों द्वारा बिना पंजीकरण के पोर्टफोलियो प्रबंधन सेवाएं देना, निवेशकों की शिकायतों का समाधान करने में नाकाम रहने और निवेशकों से अवैध रूप से धन जुटाने जैसे नियमों के उल्लंघन मामले में लगाया गया।

इनमें कुछ जुर्माने तो 1998 से लंबित हैं। कई मामले अदालतों में हैं तो कुछ दूसरे फोरम में लंबित हैं। इसके अतिरिक्त सेबी ने एक अन्य जानकारी में कहा कि उसने सामूहिक निवेश योजना के इतर अन्य उल्लंघन के 1,139 मामलों में कार्यवाही शुरू की है। नियामक इकाई से बकाए की वसूली के लिए बैंक और डीमेट खातों के साथ अन्य परिसंपत्तियों को जब्त करने की शक्ति का भी प्रयोग कर रहा है।

गौरतलब है कि कुछ समय पहले सेबी ने वित्तीय धोखाधड़ी को रोकने के लिए सूचीबद्ध कंपनियों के साथ काम करने वाले ऑडिटरों एवं अन्य जिम्मेदार व्यक्तियों के लिए नए प्रावधान प्रस्तावित किए। जिसके तहत डिफॉल्टरों को प्रतिभूति बाजार से प्रतिबंधित किए जाने तथा शुल्क का पुनर्भुगतान समेत कड़ी दंडात्मक कार्रवाइयों का सामना करना पड़ेगा। गलत ऑडिट या मूल्यांकन रिपोर्ट का दोषी पाए गए लोगों को प्रक्रिया के तहत हुए गैरकानूनी लाभ का भुगतान करना होगा। -एजेंसी 

बिजली क्षेत्र की संकटग्रस्त परिसंपत्तियों के लिए संपत्ति पुनर्गठन कंपनी बनाने के प्रस्ताव को समर्थन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.