धोखाधड़ी से बचने के लिए रिजर्व बैंक ने बताए ये उपाय

Samachar Jagat | Thursday, 05 Jul 2018 04:47:56 PM
These measures are to be by the Reserve Bank to avoid fraud

मुम्बई। रिजर्व बैंक के नाम का दुरुप्रयोग कर कुछ साइबर क्राइम वाले आमजन को फोन, ई-मेल, मैसेज करके लोगों को ठगने के काम कर रहे हैं।

इसके लिए रिर्जव बैंक ने अपने जन जागरुकता अभियान के तहत जनता को एसएमएस भेजने, आउटडोर विज्ञापन और टेलीकास्टिंग जागरूकता फिल्मों के माध्यम से फर्जी ई-मेलों के प्रति जनजागृति फैलाई जा रही है।

मिली जानकारी के अनुसार, रिजर्व बैंक के नाम का उपयोग कर आम लोगों को ठगने की गतिविधियों के बीच केन्द्रीय बैंक ने आम लोगों को इस तरह के जालसाजों से सचेत रहने के लिए नया अभियान चलाया है।

केन्द्रीय बैंक नियमित अंतराल पर लोगों को अगाह करता रहता हैै कि इस तरह की गतिविधियों में शामिल लोग आरबीआई के नाम का उपयोग करके आम जनता के साथ धोखाधड़ी करते हैं।

 किसानों को मिला उपहार, दो लाख तक का कृषि ऋण माफ कर दिया

ये तत्व आरबीआई के नकली लेटर हेड का उपयोग करते हुए, आरबीआई के कर्मचारी होने के नाम पर ईमेल भेजते हैं। लोगों को विदेशों से जाली प्रस्तावों / लॉटरी जीतने / विदेशी मुद्रा में सस्ते धन के प्रेषण का प्रलोभन देते हैं और उनसे मुद्रा प्रोसेसिंग शुल्क, विदेशी मुद्रा रूपांतरण शुल्क, पूर्व-भुगतान इत्यादि के रूप में धन की वसूली करते हैं।  

रिजर्व बैंक ने अपने जन जागरूकता अभियान’के रूप में जनता को एसएमएस भेजने, आउटडोर विज्ञापन और टेलिकॉस्टिंग जागरूकता फिल्मों जैसे विभिन्न तरीकों के माध्यम से फर्जी ई-मेलों पर जागरूकता फैला रहा है।

पीएनबी 50 करोड़ से ऊपर के कर्ज प्रसंस्करण का काम 60 शाखाओं में केंद्रित करेगा

रिजर्व बैंक किसी भी व्यक्ति का खाता नहीं रखता है। उसके अधिकारियों के नाम पर धोखेबाजों से सावधान रहने के लिए कहा है। रिजर्व बैंक का कोई भी व्यक्ति लॉटरी जीतने/विदेश से धन-राशि प्राप्त करने के बारे में कोई फोन नहीं करता है और ना ही लॉटरी इत्यादि जीतने के सम्बंध में कोई ई-मेल भेजता है।

रिजर्व बैंक लॉटरी जीतने अथवा विदेश से निधि प्राप्त करने के जाली प्रस्तावों के लिए कोई एसएमएस अथवा पत्र अथवा ई-मेल नहीं भेजता है।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.