बीएसएफ भारत-बांग्ला सीमा पर खड़ी करेंगे लेजर की दीवारें !

Samachar Jagat | Monday, 11 Jun 2018 04:46:38 PM
BSF will set up laser walls on Indo-Bangla border!

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

अगरतला। सीमा सुरक्षा बल त्रिपुरा में घुसपैठ में अंकुश लगाने के लिए भारत-बांग्लादेश सीमा के पास छोटी नदियों के बाड़ रहित हिस्सों में लेजर की दीवारें खड़ी करने पर तेजी से विचार कर रहा है। लेजर की दीवारें खड़ी कर देने से  संवेदनशील इलाकों में सीमा को पूरी तरह चाक -चौबंद बनाने में मदद मिलेगी।

बीएसएफ के त्रिपुरा फ्रंटियर के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय सीमा की रक्षा के लिए सुरक्षा बल अब तक सेंसर उपकरणों, फ्लड लाइटों और रात के वक्त देखने में मदद करने वाले चश्मों का इस्तेमाल करते रहे हैं, लेकिन लेजर की दीवारें खड़ी कर देने से  संवेदनशील इलाकों में सीमा की सुरक्षा करने में पूरी मदद मिलेगी।  

उन्होंने बताया कि हम भारत-बांग्लादेश सीमा के पास प्रभावी सीमा प्रबंधन सुनिश्चित करने के लिए लेजर की दीवारें बनाना चाहते हैं लेकिन अब तक किसी चीज को अंतिम रूप नहीं दिया गया है। अधिकारी ने बताया कि असम के धुबरी के संवेदनशील इलाकों में ऐसी ही एक परियोजना पूरी होने वाली है।

बंगलों में समान चोरी होने पर पूर्व मुख्यमंत्रियों को मिलेगा नोटिस 

धुबरी में परियोजना एक बार सफल हो जाने के बाद बीएसएफ के आला अधिकारी इसकी उपयोगिता का आकलन करेंगे और त्रिपुरा में इस मॉडल को लागू करने को लेकर फैसला करेंगे। वरिष्ठ अधिकारियों से सुगम समन्वय के लिए वास्तविक समय में काम करने वाली संचार प्रणाली भी राज्य में शुरू की गई है।

भास्कराचार्य इंस्टीट्यूट फॉर स्पेस ऐप्लीकेशन एंड जियो - इंफर्मेशन (बीआईएसएजी) के समन्वय से यह प्रणाली शुरू की गई है।  अधिकारी ने बताया कि त्रिपुरा में 856 किलोमीटर लंबी भारत -बांग्लादेश सीमा में से केंद्र ने 840 किलोमीटर लंबे हिस्से में बाड़ लगाने की मंजूरी दी थी।

बिहार के लाल का आज 71वां जन्मदिन, जानिए क्यों लालू ने इस्तीफा देकर राबड़ी देवी को बनाया था CM

750 किलोमीटर लंबी सीमा रेखा सील कर दी गई जबकि कुछ हिस्सों-खासकर सिपाहीजाला जिले के सोनामुरा उप-संभाग में अब भी बाड़ नहीं लगाई गई है।
 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.