पूरे गांव की हुई आंखे नम, जब उठे तीन भाईयों सहित चार बच्चों की अर्थियां

Samachar Jagat | Monday, 20 Aug 2018 10:53:03 AM
Four people, including three brothers, died due to drowning in Anicat in Jaisalmer

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जैसलमेर। राजस्थान के जैसलमेर जिले के सांगड थाना इलाके के कोडा गांव में उस समय कोहराम मच गया जब एक ही परिवार के तीन भाईयों सहित चार लोगों की एनीकट में डूबने से मौत हो गई। इस घटना के बाद गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। वहीं मरने वालों के घरों में कोहराम मचा हुआ है। एक ही परिवार के तीन भाईयों की मौत के बाद हर किसी की आंखे नम है।

छह साल की बच्ची को अमरूद का लालच देकर सूने कमरे में ले गए दो 15 साल के किशोर और फिर...

जानकारी के अनुसार सांगड़ थाना इलाके के कोडा गांव में रविवार को खेत के समीप बने एक एनीकट में डूबने से तीन सगे भाइयों सहित चार लोगों की मौत हो गई। मरने वाले चारों बच्चों की उम्र 12 से 17 साल की बताई जा रही है। बताया जा रहा है कि जब ये बच्चे एनीकट में नहा रहे थे तो एक गहरे पानी में चला गया। जिसको बचाने के चक्कर में तीनों बच्चों की एनीकट में डूबने से मौत हो गई।

बिहार से 20 महीने बाद चार साल के लडक़े के हत्यारे को पकड़ा

उधर मामले की जानकारी लगने के बाद ग्रामीण मौके पर पहुंचे और बच्चों की तलाश शुरू की और बड़ी मशक्कत के बाद शवों को एनीकट से बाहर निकाला। उधर लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना पर जाब्ते के साथ पुलिस भी पहुंची। बताया जा रहा है कि मृतक बच्चों के शवों का पोस्टमार्टम के लिए तैयार नहीं थे तो पुलिस ने चारों के शवों को परिजनों को सौंप दिया जिनका देर शाम अंतिम संस्कार कर दिया गया। जानकारी के अनुसार मामले को लेकर पुलिस हेड कांस्टेबल दीप सिंह ने बताया है कि कोडा गांव में तीन सगे भाइयों भूपतदान (17), रविन्द्र (15), रमेश (12) और चचेरे भाई प्रवीण (13) की एनीकट में एक दूसरे को बचाने के प्रयास में डूबने से मौत हो गई।

झारखंड में 11 लोगों ने दो नाबालिगों से किया दुष्कर्म

उन्होंने बताया कि परिजनों ने पुलिस के पहुंचने से पूर्व ही शवों को साढ़े पांच फुट गहरे एनीकट से निकाल कर दाह संस्कार शुरू कर दिया था। उन्होंने बताया कि ग्रामीणों की सूचना पर घटनास्थल पर पुलिस दल के पहुंचने पर परिजनों ने बताया कि उन्हें मृतकों का पोस्टमार्टम नहीं करवाना था और सूर्यास्त से पूर्व उनका दाह संस्कार करना था इसलिए दाह संस्कार शुरू कर दिया गया।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.