कश्मीर में मानव मानवाधिकारों के उल्लंघर की संरा की रिपोर्ट पर पाकिस्तान ने कही ये बात!

Samachar Jagat | Thursday, 14 Jun 2018 07:59:10 PM
Pakistan said in the SARA report Ithe mention of POK should not be misinterpreted

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने गुरुवार को कहा कि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन के बारे में संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में आए उल्लेख का गलत अर्थ नहीं निकाला जाना चाहिए। इसकी तुलना कश्मीर से नहीं की जानी चाहिए। संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीर तथा पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर, दोनों में मानवाधिकारों के कथित उल्लंघन पर गुरुवार को अपनी पहली रिपोर्ट जारी की। साथ ही इसमें अंतरराष्ट्रीय जांच का आह्वान किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बच्चों को दिया ये मंत्र, जानकार आपकों भी होगी खुशी

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने एक बयान में कहा कि, यह प्रस्ताव 2016 से पाकिस्तान द्वारा इस बारे में किए गए आह्वान के अनुरूप है जबकि भारत ने घोर एवं सुनियोजित उल्लंघनों की जांच की जायज मांगों की लगातार अनदेखी की है। विदेश विभाग ने कहा कि गिलगित-बाल्टिस्तान सहित कश्मीर के पाक प्रशासित हिस्से के बारे में आए सन्दर्भ का उपयोग कश्मीर के लोगों के अधिकारों के उल्लंघन से तुलना कर गलत भावना पनपाने के लिए नहीं होना चाहिए।

कॉलेज में शांति से काम कर रहा था कर्मचारी फिर हुआ कुछ ऐसा, अब कभी नहीं आ पाएंगा वहां

बयान में कहा गया कि मानवाधिकार उच्चायुक्त की रिपोर्ट में जम्मू कश्मीर विवाद का अंतिम राजनीतिक समाधान निकालने का सही आह्वान किया गया है। यह समाधान सार्थक वार्ता के जरिये निकाला जाना चाहिए जिसमें कश्मीर के लोग शामिल हों। पाकिस्तान ने कहा कि जम्मू कश्मीर विवाद का स्थायी समाधान दक्षिण एवं इससे भी परे के क्षेत्र की शांति, सुरक्षा एवं स्थिरता के लिए एक अनिवार्य अपरिहार्यता है।

आम लेने गई 13 साल की किशोरी पर बिगड़ी युवक की नियत और फिर उसने कर दिया ये घिनौना काम

बयान में आरोप लगाया गया है कि भारत द्वारा इस अपरिहार्यता से लगातार इंकार करने, पाकिस्तान के साथ वार्ता में प्रक्रिया में शामिल होने को लेकर उसकी अनिच्छा, कश्मीरी लोगों की स्वतंत्रता की आकांक्षा को कुचलने के कारण क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय शांति एवं सुरक्षा खतरे में पड़ गई है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.