अब तक 2.56 लाख भक्तों ने किए बफार्नी बाबा के दर्शन

Samachar Jagat | Sunday, 29 Jul 2018 04:39:47 PM
2.56 lakh devotees visited Bafarni Baba

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के बालटाल और नुनवान पहलगाम आधार शिविर से श्रद्धालुओं का नया जत्था रविवार को अमरनाथ गुफा के पवित्र हिम शिवलिंग के दर्शन के लिए रवाना हुआ। साठ दिनों की इस यात्रा में अब तक 2.56 लाख यात्री बाबा बफार्नी के दर्शन कर चुके हैं। इस यात्रा का समापन उस दिन होगा जिस दिन भगवान शिव की छड़ी मुबारक को पवित्र गुफा के भीतर लाया जाएगा। इस बीच जम्मू के भगवती नगर से जत्था बालटाल और नुनवान आधार शिविरों के लिए रवाना हुआ। इस मार्ग में सुरक्षा के अभूतपूर्व इंतजाम किए गए हैं। 

विभिन्न रात्रि शिविरों में विश्राम करने वाले श्रद्धालुओं ने आज सुबह पवित्र गुफा के दर्शन किए। यात्रा के 31वें दिन शनिवार को 3360 यात्रियों ने पवित्र हिम शिवलिंग के दर्शन किए। ये यात्री सबसे कम दूरी वाले बालटाल तथा पारंपरिक पहलगाम मार्गाें के जरिए पवित्र गुफा में पहुंचे थे। सूत्रों ने बताया कि तीर्थयात्रियों का नया जत्था तड़के नूनवान पहलगाम आधार शिविर से पवित्र गुफा के दर्शन के लिए रवाना हुआ।

अगर चाहते हैं कि आपकी मनोकामना हो पूरी तो पूजा करते समय इन बातों का रखें ध्यान

2.46 lakh pilgrims performed snow shiveling

यह जत्था पारंपरिक मार्ग पर पहले ठहराव स्थल चंरदनवाड़ी में जाकर रूकेगा जबकि वहां पहले रूके यात्री आगे का सफर तय करेंगे। श्रद्धालु 14 किलोमीटर पैदल चलकर दोपहर तक हिम शिवलिंग का दर्शन कर सकेंगे। पवित्र हिम शिवलिंग के सुबह दर्शन के बाद श्रद्धालु वापस बालटाल आधार शिविर के लिए रवाना हुए। दर्शन के बाद पवित्र गुफा के पास रात्रि विश्राम के लिए रूके यात्री भी बालटाल आधार शिविर की ओर निकलेंगे जहां से वे अपने गंतव्य के लिए रवाना हो सकें। यानी दर्शन कर चुके यात्रियों की वापसी यात्रा का क्रम भी जारी रहेगा। -एजेंसी 

अगर आप भी चाहते हैं कि आपका नया प्लॉट वास्तुदोष से मुक्त हो तो इन चीजों का रखें ध्यान

अगर चाहते हैं कि माता लक्ष्मी आप पर रहें मेहरबान तो इस तरह से अपनी झाडू का रखें ध्यान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.