श्रावणी मेला में बासुकीनाथ धाम में अर्धा सिस्टम से होगा जलार्पण

Samachar Jagat | Wednesday, 12 Jun 2019 11:56:35 AM
Basukinath Dham will be flooded with half system In Shravani Mela

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

दुमका। विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला के दौरान यात्रियों की सुविधा के लिए बाबा बासुकीनाथ धाम मंदिर में अर्घा सिस्टम के तहत जलार्पण की व्यवस्था की जाएगी। बिहार के भागलपुर जिले में अवस्थित सुल्तानंगज से पवित्र गंगा जल लेकर झारखंड के बैद्यनाथ धाम और बासुकीनाथ धाम तक 100 किलोमीटर की दूरी पैदल तय करने वाला विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेला में भारी तादाद में आने वाले श्रद्धालुओं को सुविधा मुहैया कराने की दिशा में दुमका जिला प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है। इस वर्ष श्रावणी मेला 17 जुलाई से शुरू होकर 15 अगस्त तक चलेगा।

एक कटोरी पानी का ये टोटका आपको रातों रात कर सकता है मालामाल

दुमका के उपायुक्त मुकेश कुमार ने बताया कि इस वर्ष भी श्रावणी मेला के दौरान यात्रियों की सुविधा के लिए बाबा बासुकीनाथ धाम मंदिर में अर्घा सिस्टम के तहत जलार्पण की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन द्बारा श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा। पिछले वर्ष की तरह इस वर्ष भी सावन के महीने में सोमवार एवं मंगलवार के दिन सरकारी पूजा के बाद अर्घा सिस्टम की व्यवस्था कायम रहेगी। श्रद्धालुओं की तादाद को ध्यान में रखकर इस व्यवस्था में समय-समय पर परिवर्तन किए जाएंगे। 

बड़े काम के होते हैं नींबू के ये टोटके, घर से नकारात्मक शक्तियों को रखते हैं दूर

उपायुक्त कुमार ने संबंधित अधिकारी को बासुकीनाथ धाम में अर्घा सिस्टम के संदर्भ में सभी व्यवस्था ससमय सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। उपायुक्त कुमार ने बताया कि पूरे मेला परिसर में लगभग तीन सौ सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे जिससे चप्पे-चप्पे पर जिला प्रशासन की नजर रहेगी। उन्होंने कहा कि मंदिर परिसर की सूक्ष्म निगरानी के लिए मंदिर के आस-पास 45-50 की संख्या में अत्याधुनिक सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। मेला के दौरान दौरान विधि व्यवस्था का संधारण जिला प्रशासन के समक्ष एक बड़ी चुनौती होती है। सीसीटीवी कैमरा विधि व्यवस्था के संधारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। -एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.