बृहस्पति के वक्री होने से इन 5 राशि के जातकों के जीवन में आएंगी अपार खुशियां

Samachar Jagat | Friday, 12 Apr 2019 07:00:01 AM
happiness of these five zodiac people will come in life from jupiter transit in sagittarius

धर्म डेस्क। देव गुरु बृहस्पति 10 अप्रैल से धनु राशि में वक्री हुए हैं और 22 अप्रैल तक इसी राशि में विध्यमान रहेंगे। बृहस्पति का अपनी ही राशि में वक्री होना कुछ राशियों के जीवन में खुशियों का संचार करेगा, हम आपको यहां उन पांच राशियों के बारे में बता रहे हैं। जिन्हें इस गोचर से लाभ होगा, आइए जानते हैं इनके बारे में .........

मेष राशि :-

मेष राशि के जातकों के लिए बृहस्पति का वक्री होना अच्छे परिणाम लेकर आ रहा है। इस राशि के जातकों की आध्यात्म में रूचि बढ़ेगी और अगर ये लंबे समय से किसी बीमारी से परेशान हैं तो उसमें सुधार होगा। वहीं इस समय में कोई शुभ सूचना भी मिल सकती है। 

अपनी ही राशि में वक्री हुए देवगुरु बृहस्पति, इन राशि की अविवाहित महिलाओं के विवाह में करेंगे बाधा उत्पन्न

Samachar Jagat

मिथुन राशि :-

बृहस्पति का वक्री होना मिथुन राशि के जातकों के व्यवसाय और घरेलू जीवन के लिए फायदेमंद होगा। अगर इस अवधि में आप अपने व्यवसाय या कार्य में नए विचारों को लागू करते हैं तो इससे व्यापार में भारी वृद्धि होगी। वहीं घर का वातावरण अच्छा रहेगा और परिवार के सदस्यों का पूरा साथ मिलेगा।

सिंह राशि :-

बृहस्पति का वक्री होना सिंह राशि के जातकों के जीवन में खुशियां लेकर आएगा, इस राशि के जातकों के लिए अच्छे पद की प्राप्ति के योग बन रहे हैं। आर्थिक रूप से यह पारगमन आपके आय के अतिरिक्त स्रोतों को खोलेगा, जिससे आपके बैंक बैलेंस में वृद्धि होगी।

गुरूवार को पूजा करते समय करें इस खास मंत्र का जाप, घर में नहीं होगी धन-संपदा की कमी

Samachar Jagat

धनु राशि :-

धनु राशि के जातकों के लिए यह समय काफी अनुकूल है, जिससे इस राशि के जातकों को हर कार्य में सफलता मिलेगी। इस राशि के जो जातक अपना व्यवसाय करते हैं उनका व्यवसाय एक नई ऊंचाई पर पहुंच जाएगा। 

कुंभ राशि :-

बृहस्पति का वक्री होना कुंभ राशि के जातकों के लिए पर्याप्त अवसरों की प्राप्ति के योग लेकर आएगा। जिससे इस राशि के जातकों को हर क्षेत्र में सफलता मिलेगी, वहीं आय के स्रोतों में वृद्धि होने से मन में प्रसन्नता रहेगी।

(आपकी कुंडली के ग्रहों के आधार पर राशिफल और आपके जीवन में घटित हो रही घटनाओं में भिन्नता हो सकती है। पूर्ण जानकारी के लिए कृपया किसी पंड़ित या ज्योतिषी से संपर्क करें।)

सत्यवती ने इन तीन शर्तों को पूरा करने के बाद किया था ऋषि पाराशर के प्रेम को स्वीकार, जानिए क्या था इसका महाभारत से संबंध

जानिए! चारों युगों में पाप और पुण्य की मात्रा के अलावा और किन-किन चीजों में हुआ परिवर्तन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.