जानिए! क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे, क्या है इसका महत्व

Samachar Jagat | Friday, 19 Apr 2019 11:24:10 AM
Why is Good Friday celebrated, what is its importance

धर्म डेस्क। ईसा मसीह जिन्होंने लोगों को सच्चाई और अच्छाई की राह पर चलने का संदेश दिया, जो बिना डरे एकता और शांति का उपदेश देते रहे। ऐसी महान आत्मा और ईश्वर के दूत को समाज के कुछ ठेकेदारों ने सूली पर लटका दिया। आज ही के दिन यानि फ्राइडे के दिन ही इंसानियत का गला दबाकर उसे मार दिया गया। आइए आपको विस्तार से बताते हैं क्या हुआ फ्राइडे के दिन, क्यों मनाया जाता है गुड फ्राइडे ....................

Rawat Public School

हनुमान जयंती स्पेशल: जानिए! अमरत्व का वरदान प्राप्त हनुमान जी कब करेंगे अपने शरीर का त्याग


 
आज से लगभग दो हजार साल पहले ईसाई धर्म के प्रवर्तक ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया। बाइबिल के अनुसार इस दिन फ्राइडे था और तभी से इस दिन को ईसा मसीह की याद में गुड फ्राइडे के रूप में मनाया जाने लगा। यरुशलम के गैलिली प्रांत के नासरत में जन्में ईसा लोगों को मानवता, भाईचारा, एकता और शांति का उपदेश देते थे और लोगों में ईश्वर के प्रति आस्था बढ़ाने का कार्य करते थे। वे खुद को ईश्वर का पुत्र मानते थे और धार्मिक अंधविश्वास फैलाने वाले रब्बियों (धर्म गुरुओं) को मानव जाति का शत्रु बताते थे। ईसा की लोकप्रियता से रब्बियों में भय व्याप्त हो गया और उन्होंने येनकेन-प्रकारेण, ईसा पर धर्म और राज्य की अवमानना का आरोप लगाकर उन्हें सूली पर लटका कर मृत्यु-दंड देने का आदेश पारित करवा दिया।

हनुमान जयंती : बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए आज राशि अनुसार करें इन मंत्रों का जाप

जब ईसा को क्रूस पर लटकाया गया उससे पहले उन्हें अनेक तरह की अमानवीय यातनाएं दी गईं, उनके सिर पर कांटों का ताज रखा गया, क्रूस को अपने कंधे पर उठाकर ले जाने के लिए बाध्य किया गया। यहां तक की उन्हें कोड़े और चाबुक भी मारे गए और अंत में उन्हें दो अपराधियों के साथ सूली पर बेरहमी से कीलों से ठोक दिया गया।

जब ईसा अपने प्राण त्याग रहे थे तो उन्होंने ऊंची आवाज में परमेश्वर को पुकारा और कहा- हे पिता! मैं अपनी आत्मा को तेरे हाथों सौंपता हूं। ऐसा कहने के साथ ही, उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए। ईसाई धर्मावलंबियों के लिए गुड फ्राइडे का विशेष महत्व है। बहुत से लोग इस बलिदान के लिए ईसा मसीह की कृतज्ञता व्यक्त करते हुए 40 तक उपवास भी रखते हैं, जो ‘लेंट’ कहलाता है, तो कोई केवल शुक्रवार को ही व्रत रखकर प्रेयर या प्रार्थना करते हैं। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.