कार्यस्थल पर तापमान बढ़ने से घटने लगती है कर्मचारियों की उत्पादकता

Samachar Jagat | Friday, 31 Aug 2018 04:04:44 PM
Increasing temperature at workplace decreases productivity of employees

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। भारतीय विनिर्माण क्षेत्र से जुटाए गए आंकड़ों के एक अध्ययन से खुलासा हुआ है कि ऐसे कार्यस्थल जहां शारीरिक श्रम की आवश्यकता होती है वहां 27 डिग्री सेल्सियस से ऊपर प्रति डिग्री तापमान बढ़ने पर कर्मचारियों की उत्पादकता में चार फीसदी की गिरावट दर्ज की जाती है। इसमें कहा गया कि दस दिन के औसत तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी इस बात की संभावना बढ़ा देती है कि पांच फीसदी तक एक कर्मचारी अनुपस्थित रहेगा।

शराब पीने का कोई सुरक्षित स्तर नहीं, कैंसर और हृदय संबंधी बीमारियों से है शराब का ठोस संबंध

उत्पादकता और श्रम आपूर्ति पर तापमान का प्रभाव: भारतीय विनिर्माण से साक्ष्य पर यह अध्ययन यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट ने किया है। इसमें कार्य से अनुपस्थिति पर उच्च तापमान के प्रभाव पर भी चर्चा की गई। अध्ययन में कहा गया, ''श्रम केंद्रित और स्वचालित विनिर्माण प्रक्रियाओं में अनुपस्थिति बढ़ जाती है। ’’

कार्बन डाईऑक्साइड के कारण कम हो रही पौष्टिकता, भारतीयों में पोषक तत्वों की हो सकती है कमी

इसमें कहा गया कि कार्यस्थल पर वातानुकूलन यंत्र लगाना या जलवायु नियंत्रण के उपाय अपनाने से घटती उत्पादकता को रोकने में मदद मिलती है लेकिन इससे कार्य से अनुपस्थित होने पर असर नहीं पड़ता। इस अध्ययन के सह लेखक और एनर्जी पॉलिसी इंस्टीट्यूट के दक्षिण एशिया निदेशक अनंत सुदर्शन ने एक बयान में कहा, '' मानव मनोविज्ञान क्योंकि एक ही रहता है भले ही आप भारत में रहें या अमेरिका में या दुनिया में कहीं भी, गर्म तापमान और कम उत्पादकता के बीच संबंध हर जगह के लिये एक जैसा होगा कि हमें जलवायु परिवर्तन को लेकर कैसे सोचना चाहिए। ’’ - एजेंसी

Lakme फैशन वीक 2018 : जयपुर डिजाइनर गौरव कट्टा के लिए शोस्टॉपर बनीं अभिनेत्री कल्कि कोचलिन

अगर आप भी है अधिक इटेंलीजेंट तो हो जाएं अलर्ट, अधिक बुद्धिमान लोगों को नहीं मिलते रोमांटिक साथी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.