देशभर में धार्मिक उत्साह के साथ मनाया गया कुर्बानी का त्योहार ईद उल जुहा

Samachar Jagat | Wednesday, 22 Aug 2018 08:08:36 PM
Celebrated with religious zeal throughout country Eid ul Zuha

नई दिल्ली। देशभर में बुधवार को ईद उल जुहा (बकरीद) का त्योहार धार्मिक उत्साह के साथ मनाया गया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने उम्मीद जताई कि त्याग और कुर्बानी का ये त्योहार समाज में प्रेम एवं करूणा की भावना को मजबूत करेगा। 

मुस्लिम समुदाय के लोग आज ईदगाहों में उमड़े, नमाज अदा की और एक दूसरे को शुभकामनाएं दी। पीएम नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को ईद उल जुहा की शुभकामनाएं दी और उम्मीद जताई कि कुर्बानी का यह त्योहार समाज में करुणा की भावना प्रगाढ़ करेगा।

...जब वृद्धाश्रम में मिली मासूम अपनी दादी से, तो रह गई हक्की बक्की

मोदी ने ट्वीट किया, ''ईद उल जुहा की शुभकामनाएं। यह त्योहार हमारे समाज में करुणा एवं भाईचारे की भावना को प्रगाढ़ करे। उपराष्ट्रपति एम वैंकेया नायडू ने भी देशवासियों को ईद उल जुहा की शुभकामनाएं देते हुए उम्मीद जाहिर की कि त्याग और कुर्बानी का यह त्योहार समाज में प्रेम और करुणा की भावना को मजबूत बनाएगा।

नायडू ने ट्वीट किया, ''ईद उल अजहा के पाक अवसर पर देशवासियों को शुभकामनाएं देता हूं। यह त्याग और ईश्वर पर अटूट आस्था एवं विश्वास का पर्व है। है कि समाज ईद उल अजहा के इस अंतर्निहित संदेश को पहचाने और जिए।पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी लोगों को शुभकामनाएं देते हुए उम्मीद जताई कि कुर्बानी का ये त्योहार चीजों को साझा करने और भाईचारे की भावना को मजबूत करेगा। 

ममता ने ट्वीट किया, ''ईद उल जुहा के मौके पर आइए हम अपने आप को चीजों को साझा करने और भाईचारे की भावना के प्रति समर्पित करें। समूचे राज्य में यह त्योहार धार्मिक उल्लास के साथ मनाया गया। इस बीच, जम्मू कश्मीर कुछ ईदगाहों के बाहर पथराव की छिटपुट घटनाएं भी दर्ज की गई।

हालांकि, पुलिस ने पथराव करने वालों को काबू करने के लिए अत्यधिक संयम का परिचय दिया। कश्मीर घाटी के हजरतबल दरगाह में ईद के मौके पर सबसे अधिक संख्या में लोग जमा हुए। एक पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि धार्मिक उल्लास के साथ समूची घाटी में बकरीद मनाई गई।

पीएम मोदी गुरुवार को जाएंगे गुजरात, कई विकास परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन

उन्होंने बताया कि श्रीनगर, अनंतनाग के जंगलट मंडी और सोपोर जिले में नमाज के बाद बदमाशों द्बारा पथराव किए जाने की छिटपुट घटनाएं भी दर्ज की गई। वहीं, उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में लगातार चौथे साल शिया और सुन्नी मुसलमानों ने आज शाहनजफ इमामबाड़े में सामूहिक रूप से ईद उल जुहा की नमाज पढ़ी। नमाज के बाद ईद मिलन हुआ।

इसका आयोजन गैर मुस्लिम स्वयंसेवकों की टीम ने किया था। पूर्व पुलिस महानिदेशक जावीद अहमद और अन्य गणमान्य लोग कार्यक्रम में शामिल हुए। गौरतलब है कि जब अल्लाह ने पैगंबर के बेटे इस्माइल को बख्श दिया था तब पैगंबर ने एक मेमने की कुर्बानी दी थी, इसी वजह से ईद उल जुहा मनाया जाता है।

उधर, वर्षा और बाढ़ के प्रकोप से धीरे-धीरे उबर रहे केरल में बकरीद बिल्कुल सामान्य ढंग से मनाई गई। राज्य भर में मस्जिदों में सैकड़ों श्रद्धालु कुर्बानी का त्योहार मनाने पहुंचे। उन लोगों के लिए विशेष नमाज अदा की गई जिन्होंने अपनी जान गंवायी है और उनके लिए भी, जो बाढ़ की मार झेल रहे हैं।

राज्य में 8 अगस्त से अब तक वर्षा और बाढ़ जनित घटनाओं में 231 लोगों की मौत हुई है। निचले इलाकों में अब भी पानी जमा होने और बचाव एवं राहत कार्य जारी रहने के कारण कई स्थानों पर आज विशेष ईदगाहों में श्रद्धालुओं की संख्या कम रही।

कई मस्जिदों में स्वयंसेवक श्रद्धालुओं से बाढ़ पीड़ितों के लिए दान एकत्र करते देखे गये। धार्मिक विद्बानों और मौलवियों ने लोगों से बाढ़ पीड़ितों के जीवन को फिर से पटरी पर लाने के लिए उदारतापूर्वक दान देने की अपील की।

इस अवसर पर अजमेर शरीफ दरगाह के दीवान ने आज कहा कि इस्लाम को आतंकवाद से जोड़ना मुसलमानों का अपमान है और जो लोग ऐसा करते हैं वे इसकी शिक्षाओं से वाकिफ नहीं हैं। अजमेर दरगाह के दीवान जैनुल आबदीन अली खान ने एक बयान में कहा कि पैगंबर ने शांति और सौहार्द का संदेश दिया था और यह धर्म लोगों के बीच सौहार्द को बढ़ावा देता है। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.