हार्दिक की सभा में हंगामा, विरोध, मारपीट, पांच हिरासत में

Samachar Jagat | Sunday, 21 Apr 2019 07:55:27 AM
Hardik meeting rages

अहमदाबाद। कांग्रेस में शामिल हो चुके पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) के पूर्व संयोजक हार्दिक पटेल को तमाचा मारे जाने की घटना के एक दिन बाद शनिवार शाम यहां पाटीदारों का गढ कहे जाने वाले निकोल क्षेत्र में एक चुनावी सभा में उनका जबरदस्त हुआ जिसके चलते उनके भाषण को जैसे तैसे समाप्त कर दिया गया। यह सभा अहमदाबाद पूर्व की लोकसभा प्रत्याशी तथा पास में हार्दिक की करीबी सहयोगी रह चुकी गीता पटेल के समर्थन में आयोजित की गई थी।

Rawat Public School

सभा में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सिद्धार्थ पटेल, विधानसभा में पार्टी के उपनेता शैलेश परमार और स्वयं गीता पटेल बोल चुकी थीं पर जैसे ही हार्दिक बोलने के लिए उठे तो उनके विरोध में नारेबाजी शुरू हो गयी। उनका संबोधन जैसे तैसे पूरा कर उन्हें पुलिस सुरक्षा के बीच वहां से बाहर निकाला गया। हार्दिक हाय-हाय और समाज का गद्दार हार्दिक जैसे नारे लगाने वाले इन लोगों में से कई ने हार्दिक के बाद पास के संयोजक बनाए गए अल्पेश कथिरिया के फोटो वाले कट आउट भी ले रखे थे।

उनका कहना था कि हार्दिक ने पाटीदार आरक्षण आंदोलन का फायदा उठा कर राजनीति चमकानी शुरू कर दी है। वह हेलीकॉप्टर में घूम रहे हैं जबकि अल्पेश जेल में हैं और आंदोलन के चलते मारे गए 14 पाटीदार युवकों के परिजन दुखी हैं। हार्दिक और कांग्रेस के समर्थक विरोध करने वालो से भिड़ गये और दोनो ने एक दूसरे पर कुर्सियां उछाली तथा आपस में मारपीट और हाथापायी भी की।

पुलिस ने बाद में कुछ लोगों को हिरासत में भी ले लिया। सभा को हार्दिक के संबोधन को आनन फानन में पूरा करा कर दिया गया। हार्दिक ने इसे भाजपा का षडयंत्र बताया और कहा कि मोदी साहब (प्रधानमंत्री) के लोगों ने उनका विरोध किया है। भाजपा के लोग उन्हें डराना चाहते हैं पर उन्हें पता नहीं की वह लडने वाले व्यक्ति हैं। प्रत्याशी गीता पटेल ने भी इस घटना के लिए भाजपा पर आरोप लगाया।

उधर हार्दिक का साथ छोड भाजपा में गये वरूण पटेल ने कहा कि लोगों में हार्दिक के प्रति आक्रोश है। एक अन्य भाजपा नेता ए के पटेल ने बताया कि कांग्रेस यह सब स्वयं करा कर चुनाव से पहले लोगों की सहानुभूति लेने का प्रयास भी कर सकती है। पार्टी नेता धनसुख भंडेरी ने कहा पिछले विधानसभा चुनाव में जातिवाद फैलाने वाले हार्दिक और कांग्रेस इस बार अपनी हार सामने देख कर यह सब नाटक कर रहे हैं ताकि किसी तरह लोगों की सहानुभूति मिल सके। पर जनता होशियार है।

ज्ञातव्य है कि कल सुरेन्द्रनगर के वढवाण के बलदाणा गांव में एक चुनावी सभा को संबोधित कर रहे हार्दिक को तरूण गज्जर नाम के एक युवक ने भाषण देते समय मंच पर चढè कर तमाचा जड़ दिया था। हार्दिक और कांग्रेस ने इसके लिए भी भाजपा को जिम्मेदार ठहराया था। उससे एक दिन पहले मध्य गुजरात में एक चुनावी सभा के लिए उनका हेलीकॉप्टर उतारने की अनुमति देने से जमीन मालिक ने इंकार कर दिया था।

ज्ञातव्य है कि गत 12 मार्च को कांग्रेस में शामिल हुए हार्दिक ने स्वयं चुनाव लड़ने की इच्छा जतायी थी पर एक आपराधिक मामले में सजायाफ्ता होने के कारण वह ऐसा नहीं कर पाए। अब वह पार्टी के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल हैं। पिछले दिनों अहमदाबाद के गोता में पास की एक सौजन्य सभा के दौरान भी हार्दिक का कथित अल्पेश समर्थकों ने इसी अंदाज में विरोध किया था।

इस बीच पुलिस उपायुक्त अक्षयराज मकवाणा ने बताया कि पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है जो खुद को अल्पेश का समर्थक बता रहे हैं। उनका कहना है कि जेल में बंद अपने नेता की बात उठाने तथा उनके अपने खिलाफ दर्ज आंदालन संबंघी मामलों को उठाने के लिए वे सभा स्थल पर आये थे।

हार्दिक पर कोई हमला नहीं हुआ। इस मामले में विस्तृत पड़ताल किया जा रहा है। उधर, अल्पेश कथिरिया के पिता घनश्याम कथिरिया ने कहा कि उन्हें पता नहीं है कि इस घटना में कौन संलिप्त है पर हार्दिक और गीता पटेल को अल्पेश की जेल से जल्द से जल्द रिहाई के लिए कदम उठाना चाहिए।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.