इसरो ने रचा इतिहास, कार्टोसैट-2 सहित 31 उपग्रहों का प्रक्षेपण

Samachar Jagat | Friday, 12 Jan 2018 02:26:35 PM
ISRO created history, 31 satellites sent in space, India 100th satellite launch

बेंगलुरु। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने अंतरिक्ष में एक और ऊंची छलांग लगाते हुए शुक्रवार को यहां के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान पीएसएलवी-40 सी के जरिए पृथ्वी अवलोकन उपग्रह कार्टोसैट-2 सहित 31 उपग्रहों का सफल प्रक्षेपण किया, जिसके साथ ही इसरो निर्मित उपग्रहों के प्रक्षेपण का शतक पूरा हो गया।

पीएसएलवी-सी40 रॉकेट का सुबह नौ बजकर 29 मिनट पर अंतरिक्ष केंद्र से प्रक्षेपण किया गया, जो बादलों से भरे आसमान को चीरता हुआ अपने गंतव्य की ओर बढ गया। इस रॉकेट के जरिये 710 किलोग्राम वजनी कार्टोसैट-2 के साथ 28 विदेशी उपग्रहों का भी प्रक्षेपण किया गया जिनमें अमेरिका, कनाडा, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और फिनलैंड के उपग्रह शामिल हैं। 

इसरो अपने 100वें उपग्रह को अंतरिक्ष की कक्षा में प्रक्षेपित किया। लेकिन इंडिया की इस उपलब्धि से पहले ही पड़ोसी देश पाक की हालत कुछ ठीक नहीं लगती है। इंडिया की इस उपलब्धि पर पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि इंडिया जिन उपग्रहों का प्रक्षेपण कर रहा है, उससे वे दोहरी नीति अपना रहा है। इन उपग्रहों का यूज नागरिक और सैन्य उद्देश्य में किया जा सकता है।

इसलिए ये जरूरी है कि इनका यूज सैन्य क्षमताओं के लिए ना किया जाए, अगर ऐसा होता है कि इसका क्षेत्र पर गलत प्रभाव पड़ेगा। खबरों के मुताबिक इसरो ने अपनी वेबसाइट पर गुरुवार को लिखा, PSLV-C 440 के चौथे चरण के प्रणोदक को भरने का काम चल रहा है। चौथे चरण के PSLV-C-40 की ऊंचाई 44.4 मीटर और वजन 320 टन है।

PSLV के साथ 1332 किलो वजनी 31 उपग्रह एकीकृत किए गए हैं ताकि उन्हें प्रेक्षपण के बाद पृथ्वी की ऊपरी कक्षा में तैनात किया जा सके। भेजे जा रहे कुल 31 उपग्रहों में से 3 इंडियन हैं और 28 छह देशों से हैं : कनाडा, फिनलैंड, फ्रांस, दक्षिण कोरिया, ब्रिटेन और अमेरिका। सैटेलाइट केंद्र निदेशक एम. अन्नादुरई ने कहा कि माइक्रोउपग्रह अंतरिक्ष में इंडिया का 100वां उपग्रह होगा। 

मोदी ने दी इसरो को बधाई
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 100वें उपग्रह के सफल प्रक्षेपण के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की टीम को शुक्रवार को बधाई दी। प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं शुक्रवार को  पीएसएलवी के सफल प्रक्षेपण पर इसरो और उसके वैज्ञानिकों को दिल की गहराइयों से बधाई देता हूं। नए वर्ष में उसकी इस सफलता से अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में देश के तीव्र विकास का लाभ किसानों ,मछुआरों और अन्य नागरिकों को मिलेगा।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.