हमारे मन्दिर,तीर्थस्थल, हम सबके लिए प्रेरणास्रोत हैं:योगी

Samachar Jagat | Friday, 03 Aug 2018 10:35:11 AM
Our temple, pilgrimage, is the inspiration for all of us: Yogi

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारे मन्दिर, तीर्थस्थल, हम सबके लिए प्रेरणास्रोत हैं। योगी ने कहा कि मानव मूल्य अत्यन्त महत्वपूर्ण है, इसलिए उनका पूरी तरह से पालन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मनुष्य के जीवन के लिए आस्था अत्यन्त महत्वपूर्ण है। भारत विविधता का देश है। यह विश्व का विशालतम लोकतंत्र है। सभी धर्माें के अनुयायी यहां पर शान्ति और सौहार्द के साथ रहते हैं। विभिन्न उपासना विधियों के लोग स्वयं को राष्ट्रीयता से जोडक़र सहअस्तित्व की भावना से देश को मजबूती प्रदान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत की विविधता में एकता का यह चरित्र विश्व के लोगों को आश्चर्यचकित करता है।

मुख्यमंत्री ने यह विचार गुरुवार को यहां बन्दी माता मन्दिर के शिलान्यास के अवसर पर व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि भारत के धर्मस्थल एकात्मकता और अखण्डता के प्रतीक हैं। ऐसे स्थलों से सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस प्राचीन मन्दिर का बहुत महत्व है। इसकी परम्पराएं हजारों साल पुरानी हैं। जनश्रुतियों के अनुसार सीता जी वनवास के दौरान एक दिन के लिए गोमती तट पर रुकी थीं। उन्होंने कहा कि वनगमन के दौरान मां जानकी के इस प्रवास स्थल पर मन्दिर का निर्माण श्रद्धालुओं के लिए भक्ति का प्रेरणा स्थल बनेगा।

उन्होंने इस मन्दिर के जीर्णाेद्धार के लिए महंत देवेन्द्र पुरी सेवा ट्रस्ट एवं बन्दी माता अखाड़ा समिति को बधाई देते हुए कहा कि कई दशकों पूर्व यह मन्दिर विलुप्त हो चुका था, परन्तु महंत देवेन्द्र पुरी जी द्वारा इसका पुनर्निर्माण स्वयं किया गया। उन्होंने कहा कि मन्दिर का निर्माण निश्चित तौर पर श्रद्धालुओं के लिए भक्ति एवं आकर्षण का केन्द्र बनेगा। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सन्तों व गुरुओं के जीवन का उद्देश्य धर्म, अध्यात्म तथा मानव कल्याण का मार्ग प्रशस्त करना है। सन्तों का जीवन और कृतित्व एकता, समानता, शान्ति और सछ्वावना तथा पारस्परिक प्रेम का संदेश देता है। संतों की इसी सनातन परम्परा को आगे बढ़ाते हुए महंत देवेन्द्र पुरी ने मन्दिर के नवनिर्माण का संकल्प लिया है। उत्तर प्रदेश सदैव अपनी विशिष्ट संस्कृति एवं धार्मिक विविधताओं तथा परम्पराओं के कारण देश-विदेश के श्रद्धालुओं के आकर्षण का केन्द्र रहा है। 

योगी ने कहा कि सरदार पटेल ने जनसहयोग से सोमनाथ मन्दिर का जीर्णाेद्धार करवाकर हमारे समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया था। उन्होंने कहा कि श्रावण के पावन माह में श्रद्धा और उत्साह के साथ सम्पन्न हो रहे इस कार्यक्रम में, त्रेता युग की अधिष्ठात्री देवी श्री बन्दी माता के मन्दिर के नवनिर्माण का कार्य शीघ्र ही जनसहयोग से पूर्ण होगा। इस अवसर पर महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया, विधायक नीरज बोरा, योग गुरु भरत ठाकुर सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

इससे पूर्व, कार्यक्रम स्थल पहुंचने पर मुख्यमंत्री का स्वागत शॉल भेंटकर किया गया। उन्हें स्मृति चिन्ह के रूप में बन्दी माता के प्रस्तावित मन्दिर का छाया चित्र भेंट की। उन्होंने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। उन्होंने बटन दबाकर मन्दिर का शिलान्यास किया। कार्यक्रम को महंत श्री देवेन्द्र पुरी ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर श्री योगी ने सुप्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पण्डित छन्नूलाल मिश्र का सम्मान शॉल उढ़ाकर और प्रतीक चिन्ह भेंटकर किया। एजेंसी 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.