वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ रहे हैं पीएम मोदी, जानिए क्या है इस जगह का इतिहास और धार्मिक महत्व

Samachar Jagat | Thursday, 02 May 2019 01:48:49 PM
PM Modi is contesting Lok Sabha elections from Varanasi  Know History and Religious Importance

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क। दुनिया में बहुत सारी जगह ऐसी हैं जो अपनी प्राचीनता के लिए पहचानी जाती हैं उन्हीें में से एक है वाराणसी। सदियों से यहां की रचना और बनावट वैसी की वैसी है और ये जगह हजारों सालों के इतिहास को अपने अंदर समेटे हुए है। ये शहर देखने में जितना सुंदर है उतना ही पुराना भी है, आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि भारत का यह शहर 5000 साल पुराना है और पौराणिक कथाओं के अनुसार, काशी नगर की स्थापना भगवान शिव ने की थी। यहां की सभ्यता और संस्कृति सदियों से यहां की पहचान रही है। 

लोकसभा चुनाव के महासंग्राम में भोजपुरी सिनेमा की त्रिमूर्ति भाजपा की ओर से उतरी मैदान में

गंगा नदी पर बसे इस शहर का जिक्र महाभारत तथा रामायण तक में किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां से चुनाव लड़ रहे हैं इस वजह से ये शहर एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है और सभी की निगाहें वाराणसी पर टिकी हुई हैं। इसे हिन्दू धर्म में सर्वाधिक पवित्र नगरों में से एक माना जाता है और इसे 'बनारस' और 'काशी' के नाम से भी जाना जाता है। इन नामों के अलावा वाराणसी को मंदिरों का शहर, भारत की धार्मिक राजधानी, भगवान शिव की नगरी, दीपों का शहर, ज्ञान नगरी आदि नामों से भी संबोधित किया जाता है।

भारतीय सेना ने ट्वीट कर दिया हिममानव येती के होने का सबूत, इन तस्वीरों को देखकर आपको भी हो जाएगा यकीन

शिक्षा का प्रमुख केंद्र वाराणसी में चार बड़े विश्वविद्यालय बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ हाइयर टिबेटियन स्टडीज़ और संपूर्णानन्द संस्कृत विश्वविद्यालय स्थित हैं। यहां प्रतिवर्ष 10 लाख से अधिक तीर्थ यात्री आते हैं और यहां का प्रमुख आकर्षण काशी विश्वनाथ मंदिर है, इस मंदिर में भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंग में से एक प्रमुख शिवलिंग स्थापित है। 

इक्यावन शक्तिपीठ में से एक विशालाक्षी मंदिर यहां स्थित है, माना जाता है कि यहां माता सती की कान की मणिकर्णिका गिरी थी और यह स्थान मणिकर्णिका घाट के निकट स्थित है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, व्यक्ति को काशी में मृत्यु सौभाग्य से ही मिलती है और जिस व्यक्ति की मृत्यु काशी में होती है उसकी आत्मा पुनर्जन्म के चक्र से मुक्त हो कर मोक्ष को प्राप्त करती है।

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.