12 अगस्त: एक क्लिक में पढ़ें 10 बड़ी खबरें

Samachar Jagat | Sunday, 12 Aug 2018 05:00:48 PM
today's top ten news

श्रीनगर में सेना और आतंकवादियों की मुठभेड़, पुलिस का जवान शहीद

Army and terrorists encounter in Srinagar, police jawan martyr

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर की शीतकालीन राजधानी श्रीनगर में रविवार सुबह सेना और आतंकवादियों की मुठभेड़ में राज्य पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी) का एक जवान शहीद हो गया। पुलिस महानिदेशक एस पी वेद ने बताया कि आतंकवादियों के छिपे होने की खुफिया सूचना के आधार पर पुलिस के विशेष अभियान समूह, सेना और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने मिलकर शनिवार रात श्रीनगर के बटमालू में संयुक्त तलाशी अभियान शुरू किया था।  

सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों के अंदेशे वाले एक घर की घेराबंदी शुरू की तो वहां छिपे आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से गोलीबारी शुरू कर दी। इसके बाद सुरक्षा बलों ने जवाबी गोलीबारी शरू कर दी और मुठभेड़ शुरू हो गयी।  इस गोलीबारी मेें पुलिस के एसओजी का एक जवान शहीद हो गया और सीआरपीएफ के तीन जवान घायल हो गए। इस कार्रवाई के बाद यहां सभी इलाकों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। 

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आतंकवादी अंधेरे का फायदा उठाकर वहां से भाग निकले। क्षेत्र में सुरक्षा बलों का आतंकवादियों को पकड़ने के लिए तलाशी अभियान जारी है। बता दे कि इससे पहले  बारामूला जिले में रफियाबाद के वन क्षेत्र में सेना व छिपे हुए आतंकवादियों के बीच बुधवार को मुठभेड़ शुरू हो गई थी। इस मुठभेड़ में चार आतंकवादी मारे गए हैं। आतंकवादियों के बारे में जानकारी मिलने के बाद सेना ने इलाके को घेर लिया और तलाशी अभियान शुरू किया। छिपे हुए आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू की जिसके बाद दोनों से मुठभेड़ शुरू हो गई।   

गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए FRI ने तैयार किए 32 मॉडल

Samachar Jagat | Sunday, 12 Aug 2018 11:31:59 AM

FRI prepared 32 models to make Ganga uninterrupted and clean

देहरादून। देहरादून स्थित प्रतिष्ठित वन अनुसंधान संस्थान ने गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए 'फारेस्ट्री इंटरवेंशन फॉर गंगा' परियोजना की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) में इसके तट पर स्थित पांचों राज्यों में उनके प्राकृतिक परिदृश्य के आधार पर 32 विभिन्न मॉडल तैयार किए हैं।

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी 'नमामि गंगे' योजना के अन्तर्गत वानिकी हस्तक्षेप हेतु बनाई गई इस डीपीआर में संस्थान ने 2525 किलोमीटर लंबी गंगा पर बढ़ रहे जैविक दबाव को कम करने के लिए उसके उदगम स्थल उत्तराखंड से पश्चिम बंगाल तक हर जगह के स्थानीय प्राकृतिक परिदृश्य के हिसाब से अलग- अलग मॉडल तैयार किये हैं जिनमें मृदा संरक्षण, जल संरक्षण, खर- पतवार नियंत्रण, वृक्षारोपण और पारिस्थितिकीय पुनर्जीवन जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं को भी शामिल किया गया है। 

उत्तराखंड के गोमुख से निकलने वाली गंगा उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड से गुजरते हुए पश्चिम बंगाल में प्रवेश करती है और बंगाल की खाड़ी में जाकर विलीन हो जाती है। वानिकी हस्तक्षेप की 2293 करोड़ की इस परियोजना की डीपीआर से जुडे वैज्ञानिकों का दावा है कि इस तरह के मॉडल लागू किए जाने से इन राज्यों की कृषि उत्पादकता भी बढ़ेगी। 

इस डीपीआर में गंगा के किनारे बसे राज्यों में रिवरफ्रंट बनाये जाने पर भी जोर दिया गया है। डीपीआर में कानपुर तथा अन्य औद्योगिक शहरों में लगे उद्योगों को भी अपने यहां खास प्रजाति के पेड़ लगाने को कहा गया है ताकि उनके जरिये गंगा में होने वाले प्रदूषण पर अंकुश लग सके। इस डीपीआर में नदी तट वन्यजीव प्रबंधन पर भी जोर दिया गया है जिसके तहत लगातार कम होते जा रहे डॉल्फिन जैसे जीवों के संरक्षण पर भी ध्यान दिया जा सके। 

इस डीपीआर को लागू करने के लिए मुख्य कार्यदायी संस्था उन राज्यों के वन विभागों को बनाया गया है जिन से होकर गंगा बहती है। इस परियोजना की निगरानी भी इन्हीं राज्यों के वन विभाग करेंगे। हालांकि, संस्थान का कहना है कि किसी भी राज्य द्बारा इस संबंध में मदद मांगे जाने पर संस्थान हर तरह से तैयार है। 

इस 2293 करोड़ रुपए की परियोजना में पांच राज्यों में से, सबसे ज्यादा 885.91 करोड रुपए उत्तराखंड में खर्च होंगे जिसमें 54855.43 हेक्टेअर क्षेत्र आच्छादित होगा। दूसरा सबसे बडा क्षेत्र पश्चिम बंगाल का है जहां 35432 हेक्टेअर क्षेत्र के लिए 547.55 करोड रू खर्च किए जायेंगे।  वर्ष 2016 की शुरूआत में आरंभ हो चुकी यह परियोजना पांच राज्यों में 110 वन प्रभागों में लागू की जायेगी। वैसे सभी पांच राज्यों में मुख्य काम शुरू होने बाकी हैं।

इस डीपीआर को बनाने के लिए संस्थान ने नदी तट पर स्थित पांच राज्यों में विस्तृत बातचीत प्रक्रिया को अपनाने के अलावा मल्टी डिसिप्लिनेरी एक्सपर्टाइज (विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों) की सहायता भी ली। इसके लिए रिमोट सेंसिंग और जीआईएस तकनीक का भी प्रयोग किया गया ताकि हर जगह की जरूरत के हिसाब से सटीक वृक्षारोपण मॉडल बनाए जाएं। 

इस संबंध में संस्थान की निदेशक डा सविता ने कहा कि डीपीआर के लागू होने से वृक्षारोपण की प्रक्रिया को एक नया आयाम मिलेगा जिससे स्थानीय समुदाय के हित भी सुरक्षित होंगे। उनका मानना है कि इस परियोजना से मिलने वाली सफलता अन्य नदियों के पुनर्जीवन के लिए भी मॉडल का काम करेगी। 

अफगानिस्तान के गजनी में हिंसा जारी, अब तक 26 की मौत

Violence in Afghanistan's Ghajini continues, so far 26 deaths

काबुल। अफगानिस्तान के गजनी शहर में भारी हथियारों से लैस तालिबान आतंकवादियों की ओर से आवासीय और व्यापारिक परिसरों पर किए गए हमलों के बाद शनिवार को भी शहर के आस-पास के क्षेत्रों में हिंसा जारी रही है। इस हिंसा में अब तक कम से कम 25 पुलिसकर्मियों के अलावा एक अफगानी पत्रकार की मौत हो गई है। 

तालिबान आतंकवादियों ने शुक्रवार गजनी शहर में आवासीय और व्यापारिक परिसरों पर जमकर गोलाबारी की और कई ठिकानों पर कब्जा कर लिया। आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक राजधानी काबुल और दक्षिणी अफगानिस्तान को जोड़ने वाले इस क्षेत्र में तालिबान का यह हमला हाल ही के हमलों में काफी जोरदार है। 

सूत्रों ने बताया कि सरकारी सेनाओं और तालिबान आतंकवादियों के बीच गुरूवार रात से ही झड़पें चल रही थी और इसके बाद सेना ने काबुल को जोड़ने वाले राजमार्ग को बंद कर दिया। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि लोगों के लिए घरों से बाहर निकलना काफी खतरनाक हो गया है और अभी तक इसमें हताहतों की संख्या के बारे में सही जानकारी नहीं मिली है। 

लेकिन इस हिंसा ने पुरे अफगानिस्तान को हिला के रख दिया है। लोगों के बीच डर होने लगा है। लोगों का घरो से भी निकली मुश्किल को गया है। हर किसी को इसी बात का लेकर डर है। अंधाधुंध गोलीबारी कर गजनी शहर की कई दुकानों को आग के हवाले कर दिया। बता दें कि अफगानिस्तान का गजनी शहर राजधानी काबुल से केवल 120 किमी दूर दक्षिण में स्थित है। शहर में भारी पुलिस को तैनात कर दिया गया है। इस बीच तालिबान के प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने बताया कि शहर के अनेक हिस्सों पर उनका कब्जा है और इस हमले में काफी लोग हताहत हुए हैं। 

ट्रंप ने किताब को लेकर ओमारोसा को बताया 'घटिया इंसान’

US President Donald Trump White House

​​​​​​​ब्रिजवाटर। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस की पूर्व कर्मी और रिएलिटी टीवी शो की साथी कलाकार ओमारोसा मैनिगॉल्ट न्यूमैन को “घटिया” इंसान बताया है। मैनिगॉल्ट न्यूमैन मे अपनी आगामी पुस्तक “अपहिज्ड” में दावा किया है कि ट्रंप ने अपने रिएलिटी शो “द अप्रेंटिस” के सेट पर नस्लीय टिप्पणियां की थीं। साथ ही उन्होंने कहा कि बाद में उनका निष्कर्ष यह था कि ट्रंप एक नस्लवादी और कट्टर व्यक्ति हैं।

शनिवार को ट्रंप के न्यू जर्सी स्थित गोल्फ क्लब में एक कार्यक्रम के दौरान जब संवाददाताओं ने उनसे पूछा कि क्या मैनिगॉल्ट न्यूमैन ने उनके साथ विश्वासघात किया है तो उन्होंने प्रतिक्रिया दी, “घटिया। वह एक घटिया इंसान हैं।” मैनिगॉल्ट न्यूमैन ट्रंप के “द अप्रेंटिस” रिएलिटी शो में एक प्रतिभागी थीं और बाद में उनकी एक वरिष्ठ सलाहकार बनीं।

उनकी इस किताब का विमोचन मंगलवार को होगा। व्हाइट हाउस पहले ही इसे “झूठ और गलत आरोपों से भरा हुआ बताकर” इसकी आलोचना कर चुका है। समाचार एजेंसी एपी के पास इस किताब की एक प्रति है जिसके मुताबिक मैनिगॉल्ट ने लिखा है कि ट्रंप के शो के सेट पर “एन” शब्द (अश्वेतों के खिलाफ की जाने वाली टिप्पणी) का बार-बार इस्तेमाल करने से जुड़े टेप मौजूद हैं।  साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि ट्रंप की “मानसिक हालत में गिरावट के लक्षण दिखते हैं जिनसे इंकार नहीं किया जा सकता। आपको बता दे कि दुसरी और ट्रंप के प्रशासन ने पाकिस्तानी सैनिकों को प्रशिक्षित करने के अपने दशक पुराने कार्यक्रम को निलंबित कर दिया था। रिपोर्ट के अनुसार ट्रंप प्रशासन ने पाकिस्तान के लिए अगले साल के अकादमिक सत्र के लिए कोई कोष उपलब्ध नहीं कराया है।

इंटरनेट की दुनिया में जल्द ही इन भारतीय भाषाओं में होगा डोमेन नाम

Indian languages will soon have internet domain names

​​​​​​​कोलकाता। इंटरनेट डोमेन नाम अबतक आपको अंग्रेजी में ही उपलब्ध थे लेकिन जल्द ही आप अपनी क्षेत्रीय भाषा में भी इंटरनेट डोमेन का नाम बना सकेंगे। गैर लाभकारी निगम इंटरनेट कॉरपोरेशन फॉर असाइन्ड नेम्स एंड नंबर्स (आईसीएएनएन) दुनिया भर में इंटरनेट के डोमेन नाम प्रणाली (डीएनएस) का कामकाज देखता है।  

निगम देश की आठवीं अनुसूची में शामिल 22 भाषाओं सहित भारत में बोली जाने वाली कई भाषाओं में डोमेन नाम तैयार करने के काम में जुटा है। आईसीएएनएन के भारत प्रमुख समीरन गुप्ता ने 'प्रेट्र’ को बताया, ''भारत की नौ लिपियों बंगाली, देवनागरी, गुजराती, गुरमुखी, कन्नड़, मलयालम, उड़िया, तमिल और तेलगू पर काम जारी है। उम्मीद है कि कई स्थानीय भाषाओं का काम भी इन लिपियों के जरिए हो जाएगा।’’

आईसीएएनएन वैश्विक स्तर पर इस्तेमाल होने वाली लिपियों के वास्ते उच्चस्तरीय डोमेनों के लिए सुरक्षित और स्थिर दिशा में काम कर रही है ताकि अंग्रेजी का ज्ञान नहीं रखने वाले लोग भी अपनी भाषाओं में डोमेन नाम के साथ ऑनलाइन जाकर वेबसाइट देख सकें।

एक उदाहरण के तौर पर अब तक लोग इस उद्देश्य के लिए अंग्रेजी में डोमेन नाम टाइप करते थे लेकिन इसके बजाय अब एक व्यक्ति हिन्दी में सामग्री प्राप्त करने के लिए हिन्दी में डोमेन डाल सकता है। उन्होंने कहा कि दुनिया की करीब 52 प्रतिशत आबादी इस समय इंटरनेट का इस्तेमाल करती है और आईसीएएनएन डिजिटल दूरियों की खाई को पाटने की दिशा में काम कर रहा है। 

अडानी ग्रीन एनर्जी का घाटा पहली तिमाही में बढ़कर हुआ 74 करोड़ रुपए

Adani Green Energy Loss Increased in the first quarter 74 crores

​​​​​​​नई दिल्ली। अडानी ग्रीन एनर्जी का घाटा चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में बढ़कर 74.26 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। कंपनी को पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 17 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। कंपनी ने शेयर बाजार को बताया कि आलोच्य तिमाही के दौरान उसकी कुल आय पिछले वित्त वर्ष के 194.13 करोड़ रुपए की तुलना में बढ़कर 482.42 करोड़ रुपए पर पहुंच गयी।  

इस दौरान कंपनी का खर्च भी 213.22 करोड़ रुपए से बढ़कर 581.86 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। जून में शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने के बाद यह कंपनी का पहला तिमाही परिणाम है। बता दें कि गौतम अडानी की स्वामित्व वाली कंपनी अडानी पावर लिमिटेड ने जून तिमाही में भारी घाटा दर्ज किया है। 

कंपनी के चेयरमैन गौतम अडानी ने कहा, ''हमारा मानना है कि भारत जैसे देशों में नवीकरणीय ऊर्ज़ा को अपनाना तथा कम लागत में नवीकरणीय ऊर्ज़ा संयंत्र विकसित करना महत्वपूर्ण है। हम 2022 तक 228 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्ज़ा उत्पादन करने के सरकार के लक्ष्य के अनुकूल काम कर रहे हैं। हरित ऊर्ज़ा उत्पादन तथा अंतिम छोर तक इसकी पहुंच बढ़ा रहे हैं। 

कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जयंत परिमल ने अलग बयान मे कहा, ''भारत का विद्युत क्षेत्र नवीकरणीय ऊर्ज़ा के साथ तेजी से विकसित हो रहा है और हम इस क्षेत्र में भारी अवसर देख रहे हैं।’’ अडानी पावर ने वित्त वर्ष 2019 की पहली तिमाही में 824 करोड़ रुपए का घाटा दर्ज किया है। कंपनी ने बीते वर्ष की जून तिमाही में कुल 452 करोड़ रुपए का घाटा दर्ज किया था। 

Ind vs Eng 2nd Test: हार्दिक पंड्या ने गेंदबाजों के प्रदर्शन को लेकर दिया ये बयान

After lunch, bowlers did not get help: Pandya

​​​​​​​लंदन। भारतीय टीम के खिलाड़ी हार्दिक पंड्या को लगता है कि दूसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन लंच के बाद गेंदबाजों को मदद की कमी के कारण इंग्लैंड पूरी तरह से भारत पर हावी रहा। इंग्लैंड ने भारत के 107 रन के जवाब में पहली पारी में छह विकेट पर 357 रन बना लिए हैं और उसकी कुल बढ़त 250 रन की हो गयी है। 

तीसरे दिन लंच के समय इंग्लैंड की स्थिति भी बहुत अच्छी नहीं थी। टीम ने 89 पर चार विकेट गवां दिये थे। लंच के बाद 131 रन पर उनका पांचवां विकेट गिरा था। इसके बाद क्रिस वोक्स (नाबाद 120) और जॉनी बेयरस्टॉ (93) के बीच छठे विकेट के लिए 189 रन की साझेदारी से इंग्लैंड ने बड़ी बढ़त हासिल कर ली और भारतीय टीम को मैच में वापसी के लिए किसी चमत्कार की उम्मीद करनी होगी। 

पंड्या ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा, ''लंच के बाद हमें कोई मदद नहीं मिली। यह समस्या थी। एक गेंदबाजी इकाई के रूप में, हमने कोशिश की लेकिन गेंद ने अचानक स्विंग करना बंद कर दिया और वे (वोक्स और बेयरस्टॉ) मैच को हमारी पकड़ से दूर ले गये।’’

उन्होंने कहा, ''ऐसा होता है - मैंने पहले भी टेस्ट में देखा है। आपको चार या पांच विकेट जल्दी मिल जाते हैं और फिर एक साझेदारी हो जाती है। हमारी बल्लेबाजी लाइन-अप के साथ भी ऐसा कई बार हुआ है। यह खेल का एक हिस्सा है।’’

गेंदबाजों के मुफीद हालात में भारतीय टीम पहली पारी में महज 107 रन बना सकी जिस पर पंड्या ने कहा कि वैसे हालात में इंग्लैंड की टीम को भी संघर्ष करना होता। उन्होंने कहा, ''उन परिस्थितियों में खेलना मुश्किल था क्योकि हल्की बारिश हो रही थी और विकेट में नमी था। किसी भी टीम ने लगभग वही स्कोर बनाया होता।’’

उन्होंने कहा, ''जब हम गेंदबाजी कर रहे थे तो धूप निकली थी। यह आदर्श स्थिति की तरह था, जैसा हम मैच के पहले दिन उम्मीद करते हैं। ’’ भारतीय टीम मैच में कुलदीप यादव के रूप में अतिरिक्त स्पिन गेंदबाज के साथ उतरी जबकि जब परिस्थिति तेज गेंदबाजों के मुताबिक थी और ऐसा लगा की तीसरा तेज गेंदबाज टीम की मदद करता। पंड्या ने कुलदीप को खिलाने के फैसले का बचाव किया। 

उन्होंने कहा, '' जाहिर है इसके पीछे टीम प्रबंधन की कोई सोच रही होगी। अगर यह पांच दिनों का मैच होता तो स्पिनरों की भूमिका अहम होती। बारिश के कारण सबकुछ बदल गया।’’

'स्टूडेंट ऑफ द ईयर -2' से नहीं बल्कि इस फिल्म से बॉलीवुड में डेब्यू करेगी चंकी पांडे की बेटी

Not of student of the year -2 Chunky Pandey's daughter will debut in Bollywood from this movie

​​​​​​​एंटरटेनमेेंट डेस्क। बॉलीवुड में इन दिनों स्टारकिड्स के डेब्यू को लेकर चर्चाएं जोरों पर हैं। हाल ही में दिवंगत अभिनेत्री और बोनी कपूर की बेटी जाह्हवी कपूर ने फिल्म धड़क से बॉलीवुड में एंट्री की हैं। इस फिल्म के बाद बॉलीवुड के कई ऐसे स्टारकिड्स है जो फिल्मी पर्दे पर डेब्यू को लेकर सुर्खियां बटौर रहे हैं। जी हां इस लिस्ट में चंकी पांडे की बेटी अनन्या पांडे और सैफ अली खान की बेटी सारा अली खान शामिल हैं।

बॉलीवुड में चर्चा थी कि अनन्या जाने माने फिल्मकार और निर्देशक करण जौहर के प्रोडक्शन हाउस धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयर -2 से बॉलीवुड में डेब्यू करेगी। लेकिन ताजा खबरों की मानें यह फिल्म उनकी डेब्यू फिल्म नहीं होगी। जी हां कहा जा रहा है कि अनन्या रणवीर सिंह स्टारर फिल्म गली ब्वॉज से बॉलीवुड में डेब्यू कर सकती हैं। 

फिल्म स्टूडेंट ऑफ द ईयर -2  की रिलीज डेट आगे बढ़ गई हैं। यह फिल्म पहले इसी साल 23 नवंबर को रिलीज होने वाली थी। लेकिन अब इस फिल्म की रिलीज को किन्हीं कारणों के चलते आगे बढ़ा दिया हैं। अब यह फिल्म अगले साल मई के महीने में रिलीज की जाएगी। वहीं रणवीर सिंह की फिल्म 'गली ब्वायज'अगले साल वेलेंटाइन डे के मौके पर रिलीज होने वाली है।

बताते चलें कि फिल्म गली ब्वायज का निर्देशन जोया अख्तर कर रही हैं। फिल्म में रणवीर सिंह मुख्य रोल निभाते नजर आएंगे। रणवीर सिंह के अपोजिट इस फिल्म में आलिया भट्ट भी नजर आएंगी।

सलमान खान ने स्वीकारा इस मंत्री का चैलेंज, जिम में पसीना बहाते आए नजर

Salman Khan fitness challenge video viral on Socila media

​​​​​​​एंटरटेनमेंट डेस्क। बॉलीवुड के दबंग खान कहे जाने वाले अभिनेता सलमान खान बॉक्स ऑफिस के तो सुल्तान है ही साथ ही रियल लाइफ में भी सुल्तान से कम नहीं हैं। जी हां बॉलीवुड में इन दिनों फीटनेस चैलेंज का क्रेज सेलिब्रिटी में सिर चढ़कर बोल रहा हैं।

बताते चलें कि इस फीटनेस चैलेंज की शुरुआत खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने की थी। हैशटैग हम फीट तो देश फीट नाम से की थी। जिसे शुरु किए काफी समय हो गया। बताते चलें कि सलमान खान भी अब इस चैलेंज का हिस्सा बन गए हैं।

सलमान खान को ये चैलेंज केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू के द्दारा दिया गया हैं। सलमान खान ने ये फिटनेस चैलेंज स्वीकारा है और इसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर साझा भी किया हैं। जिसमें वे ये कहते हुए नजर आ रहे है हम फीट तो भारत फीट।

साझा किए गए इस वीडियो में सलमान खान पसीना बहाते नजर आ रहे हैं। उन्हें साइकलिंग और रनिंग करते हुए देखा जा सकता हैं। यही नहीं जिम में भी वे खासी कसरत करते नजर आ रहे हैं।

इस चैलेंज को कई बॉलीवुड और राजनीति हस्तियों ने स्वीकार किया और सोशल मीडिया पर तस्वीरें और वीडियो  भी साझा किए। भले ही सलमान खान इसे करने में लेट हो गए मगर उनके इस फीटनेस चैलेंज को सोशल मीडिया पर काफी सराहा गया हैं।

वर्कफ्रंट की बात करें तो सलमान इन दिनों बॉलीवुड की मोस्ट अवेटेड फिल्म भारत की शूटिंग में व्यस्त हैं। इस फिल्म के बाद उनकी झोली में दबंग-3, संजय लीला भंसाली की फिल्म शामिल हैं।

ग्राहक बनकर आए तीन अपराधियों ने दुकानदार के साथ किया ये, पढक़र उड़ जाएंगे आपके होश

Shopkeeper's murder by shoot dead in Azamgarh

​​​​​​​आजमगढ़। उत्तर प्रदेश में बढ़ती हत्या की वारदातों में कमी नहीं आ रही है। यहां पुलिस के डर से बेखौफ हुए अपराधी दिन-दहाड़े हत्या जैसी वारदातों को अंजाम दे कर आसानी से फरार हो जाते हैं और पुलिस सिर्फ हाथ मलते रह जाती है। ताजा मामला सामने आया है उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले में। यहां शनिवार को दिन-दहाड़े एक दुकानदार की गोली मारकर हत्या कर दी।

मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के अनुसार जिले के अहरौला इलाके के मतलूबपुर नहर मार्ग पर शनिवार को आरोपी पहले तो एक मिठाई की दुकान पर ग्राहक बनकर आए और उसके बाद दुकानदार की गोली मारकर हत्या कर दी। उधर दिन-दहाड़े दुकानदार की हत्या की हत्या के बाद इलाके में सनसनी फैल गई। उधर सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवाया है।

पुलिस ने अज्ञात अपराधियों के खिलाफ मामला कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। मीडिया रिपोर्ट्स से मिली जानकारी के अनुसार वारदात के बारे में पुलिस ने बताया है कि अहरौला कस्बा निवासी जितेंद्र उर्फ नाटे (35) की मतलूबपुर नहर मार्ग स्थित मिठाई की दुकान है। शनिवार को वहां पर तीन युवक आए और चाय मांगी।

उन युवकों को चाय देने के बाद जितेंद्र अपने कामों में व्यस्त हो गए। इसी दौरान आरोपियों ने उन पर गोली मार दी और वहां से फरार हो गए। उधर आसपास के लोग जितेन्द्र गंभीर अवस्था में अस्पताल ले गए जहां डॉक्टरों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया। उधर दिन-दहाड़े हुए इस वारदात के बाद लोगों में आक्रोश है। आक्रोशित लोगों ने शव को रास्ते में रख कर प्रर्शन भी किया। उधर सूचना पर पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे और लोगों से समझाइश कर मामला शांत करवाया। पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास में जुटी हुई है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.