बुलंदशहर हिंसा राजनीतिक षडयंत्र: योगी

Samachar Jagat | Wednesday, 19 Dec 2018 06:16:42 PM
Yogi Adityanath said bulandshahr violence political conspiracy

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

लखनऊ। कानून व्यवस्था के मुद्दे पर विधानसभा की कार्यवाही में बाधा पहुंचाने वाले विपक्ष को निशाने पर लेते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा है कि बुलंदशहर की हिंसा उन लोगों का राजनीतिक षडयंत्र था, जिनके पैरों के नीचे से जमीन खिसक गई है। विपक्ष के हंगामे के कारण विधानसभा की कार्रवाई दिन भर के लिए स्थगित होने के बाद योगी ने यहां संवाददाताओं से कहा है कि बुलंदशहर की घटना एक साजिश थी। साजिश का पर्दाफाश हो चुका है।


राफेल सौदे पर पाकिस्तान की जुबान बोल रहे हैं राहुल : भाजपा

ये साजिश राजनीतिक षड्यंत्र था। उन्होंने कहा है कि, जो कायर हैं, जो आमने सामने किसी चुनौती का सामना करने की स्थिति में नहीं हैं वे पैरों के नीचे जमीन खिसकते देख एक दूसरे के गले मिल रहे हैं । योगी ने कहा है कि, प्रदेश सरकार इस प्रकार की किसी साजिश को सफल नहीं होने देगी, सख्ती से निपटेगी । कानून का राज हर हाल में होगा ।

साल 2018 में महाराष्ट्र में छाया रहा मराठा आरक्षण और जातीय हिंसा का मुद्दा

उन्होंने कहा कि बुलंदशहर घटना में प्रशासन ने पूरी सख्ती से कार्रवाई की है। कानून के दायरे में रहकर प्रदेश सरकार ने बड़ी साजिश बेनकाब की। जो लोग गोकशी कर दंगा कराना चाहते थे और अराजकता फैलाना चाहते थे, उनके मंसूबे ध्वस्त हो गए। उल्लेखनीय है कि कानून- व्यवस्था और किसानों की बदहाली जैसे मुद्दों को लेकर सपा और कांग्रेस सदस्यों ने आज सदन में हंगामा किया जिससे प्रश्नकाल नहीं हो सका।

राष्ट्रपति ने राज्य के मुक्ति दिवस पर गोवावासियों को बधाई दी

शून्यकाल के दौरान भी भारी हंगामा और नारेबाजी जारी रही। शोरगुल के बीच विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने दस्तावेज पटल पर रखवाए और इसी बीच सरकार ने दूसरा अनुपूरक बजट भी पेश किया। हंगामा थमता नहीं देख दीक्षित ने सदन की बैठक दिन भर के लिए स्थगित कर दी। गौरतलब है कि बुलंदशहर में तीन दिसंबर को भडक़ी हिंसा में एक पुलिस इंस्पेक्टर सहित दो लोगों की मौत हो गई थी।
 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.