ये छोटी सी दुकान लोगों को देती है बड़ा संदेश

Samachar Jagat | Wednesday, 05 Sep 2018 11:35:54 AM
This small shop gives big message to people

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

खरगोन। अपनी समस्य से निजात पाने और समाज को संदेश देने के उद्देश्य से मध्यप्रदेश के खरगोन के एक युवक ने अपने व्यवसाय की परवाह किए बगैर मद्यपान को हतोत्साहित करने के लिए एक रोचक बीड़ा उठाया है। जिले की कसरावद तहसील से पांच किलोमीटर दूर बसे ग्राम भील गांव में हेयर सैलून की दुकान संचालित करने वाले 25 वर्षीय पवन सेन ने मद्यपान को हतोत्साहित करने के लिए छोटा, लेकिन महत्वपूर्ण कदम उठाया है। उन्होंने अपनी दुकान पर गत ढाई वर्ष से एक तख्ती टांग रखी है जिस पर लिखा है कि शराब पिए हुए व्यक्तियों की दाढ़ी और कटिंग नहीं बनाई जाएगी।

मात्र कक्षा 10 तक पढ़े पवन सेन ने बताया कि वह 10 वर्षों से इस व्यवसाय से जुड़े हैं और भील गांव में सूत मिल होने के चलते 3 वर्ष पूर्व रोजगार की तलाश में खरगोन से यहां आ गए थे। भीलगांव आकर उन्होंने यह पाया कि अधिकांश ग्रामीणों में शराब सेवन की प्रवृत्ति है, और वह नशे की स्थिति में उनकी दुकान पर दाढ़ी या कटिंग कराने आ जाते थे।

पवन ने बताया कि मुंह से आने वाली दुर्गंध और शराब सेवन के चलते अक्सर होने वाले विवादों से वे परेशान हो गए और उन्होंने शीघ्र ही एक फैसला कर इस तरह की तख्ती टांग दी। पवन ने पूछे जाने पर बताया कि शुरुआती दौर में उनके व्यवसाय पर प्रतिकूल असर पड़ा और एकबारगी उन्हें लगा कि कहीं उन्होंने गलत कदम तो नहीं उठा लिया, लेकिन वह अडिग रहे और उन्होंने तख्ती नहीं हटाई।

इसका असर पड़ा और धीरे-धीरे शराब पीने वाले या तो उनकी दुकान पर इसका सेवन किए बगैर आने लगे अथवा उन्होंने आना ही बंद कर दिया। पवन ने बताया कि कुछ दिनों के पश्चात इसका फायदा भी परिलक्षित हुआ ,जब मद्यपान से दूर रहने वालों में इस तरह के संदेश से जुड़े दुकान संचालित करने की जानकारी मिली तो उन्होंने उसकी दुकान पर आना आरंभ कर दिया और वे अब उसके स्थाई ग्राहक बन चुके हैं।

पवन ने बताया कि सरकार की अपनी मजबूरियां हो सकती हैं कि वह बिहार और गुजरात की तरह मध्य प्रदेश में शराबबंदी फिलहाल लागू नहीं कर पाई है। पवन ने कहा कि वह कोई समाज सुधारक या सामाजिक कार्यकर्ता नहीं है कितु उसकी छोटी सी दुकान में संचालित अपने व्यवसाय में ऐसा कदम उठाकर समाज के प्रति योगदान देना उनकी सीमा में था।

कसरावद में टाइल्स का व्यवसाय करने वाले रवि दसेरा ने बताया कि वह 5 किलोमीटर दूर भीलगांव में पवन के पास दाढ़ी कटिंग बनवाने आते हैं। उन्होंने बताया कि उसकी दुकान में कम से कम यह गारंटी रहती है कि शराब का सेवन किए हुए व्यक्ति नहीं मिलेंगे। पवन का इस तरह का बायकॉट करना भी एक तरह का शराब सेवन का विरोध है, और समाज सुधार का अनूठा तरीका है।

भील गांव से 3 किलोमीटर दूर अरिहंत नगर में रहने वाले सतपाल बज्जड एक फैक्ट्री में सुपरवाइजर के रूप में कार्यरत हैं। उन्होंने बताया कि वह भी पवन के पास दाढ़ी और कटिंग बनवाने आते हैं और पवन का कदम अनुकरणीय है। अरिहंत नगर के एक ठेकेदार राजू पाटीदार भी पवन के ग्राहक हैं और वह भी नशा बहुल क्षेत्र में उसके इस साहसिक कदम से खुश हैं।

भील गांव के पूर्व उप सरपंच कन्हैया पाटीदार ने कहा कि पवन का यह छोटा कदम बड़ा संदेश दे रहा है। उन्होंने बताया कि वे भी उस तख्ती के कारण ही पवन की दुकान पर आ रहे हैं। उसने अपने हुनर के चलते एक स्थान पर बैठे हुए सैकड़ों लोगों को इस सामाजिक बुराई से दूर रहने का संदेश दे दिया। -एजेंसी

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.