भारत को बांग्लादेश के रास्ते घेरना चाहता है चीन

Samachar Jagat | Thursday, 18 Apr 2019 05:00:24 PM
China wants to encircle india through Bangladesh

समुद्र के रास्ते भारत की घेराबंदी बढ़ाने के लिए श्रीलंका के हमबनटोटा बंदरगाह और पाक के ग्वादर के बाद चीन अब बांग्लादेश के पायरा बंदरगाह को कब्जाने की फिराक में है। अपने ओबोर कार्यक्रम (वन बेल्ट वन रोड) के तहत अब चीन की नजर पायरा बंदरगाह को हथियाने की है। चीन ने ओबोर कार्यक्रम की बेल्ट एंड रोड पहल (बीआरआई परियोजना) के तहत दिसंबर 2016 में बांग्लादेश के पायरा बंदरगाह में रुचि दिखाई थी। चीन की दो कंपनियों चाइना हारबार इंजीनियरिंग कंपनी और चाइना स्टेट कंस्ट्रक्शन इंजीनियरिंग ने बंदरगाह के प्रमुख ढांचों और तटवर्ती इलाकों के विकास के लिए 60 करोड़ डालर की परियोजना पर किए थे। अब वह इसे हथियाने की फिराक है। 

चीन ने पाक में ग्वादर बंदरगाह के जरिए अरब सागर में अपनी शक्ति बढ़ाई है। कर्ज के जाल की कूटनीति अपनाकर चीन ने पाक में ग्वादर बंदरगाह पर भी नियंत्रण हासिल कर लिया है। ग्वादर पर चीनी परिक्षेत्रों की स्थापना है और चीनी एजेंसी से लीगल यहां काम करती है। श्रीलंका के हमबनटोटा बंदरगाह पर कब्जा जमाकर चीन हिंद महासागर में मजबूत हो चुका है। चीन ने श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति महिंद्रा राजपक्षे सरकार के करोड़ों रुपए दिए कर्ज वापसी न होने की स्थिति में दिसंबर 2017 मे 99 वर्ष के लिए बंदरगाह हासिल कर लिया। बांग्लादेश के लिए रणनीतिक पायरा शिपिंग बंदरगाह बेहद महत्वपूर्ण है। क्योंकि यह बंगाल की खाड़ी पर है। 

चीन वहां अपनी क्षमता बढ़ाकर अपने समंदर पर राज करने के मंसूबे को पूरा करना चाहता है। ढाका के अधिकारियों को चिंता है कि दो चीनी कंपनियां इस विकास परियोजना को अपने अंतर्गत लेने के लिए उत्सुक है। अधिकारियों को डर है कि वह दिन दूर नहीं अब चीन पायरा बंदरगाह पर अपना नियंत्रण स्थापित करना शुरू कर देगा। चीन ने मालद्वीप, श्रीलंका, मलेशिया, पाकिस्तान के चुनावों में दखलंदाजी की है। म्यांमार के लेटपाडुभांग कॉपर माइन में बड़े स्तर पर चीनी कर्मचारियों की नियुक्ति से हिंसक संघर्ष हुए। बीजिंग में 27 अप्रैल को बीआरआई के सदस्य देशों की बैठक होगी। इस दौरान कार्यक्रम के विस्तार पर चर्चा होगी। बांग्लादेश के अधिकारियों को अंदेशा है कि चीन इस बैठक में पायरा बंदरगाह पर अपना स्वामित्व कायम करने का पैंतरा अपना सकता है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.