बजट में राजे ने किसानों, गरीबों, नौजवानों और महिलाओं का रखा ध्यान

Samachar Jagat | Tuesday, 13 Feb 2018 10:04:32 AM
Raje kept focus on farmers, poor, youth and women in budget
Rajasthan Tourism App - Welcomes to the lend of Sun, Send and adventures

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने सोमवार को राज्य विधानसभा में वर्ष 2018-19  का बजट पेश करते हुए सहकारी बैंकों के लघु एवं सीमांत किसानों के 30 सितम्बर 2017 तक बकाया ऋण में से 50 हजार रुपए तक के कर्जे की एक बारीय माफी की घोषणा की। इसमें समस्त शस्तियां एवं ब्याज की माफी की घोषणा की गई है। कर्ज माफी से राज्य सरकार पर करीब 8 हजार करोड़ रुपए का वित्तीय भार पड़ेगा। मुख्यमंत्री द्वारा किसानों के कर्जे माफ किए जाने से राज्य के विभिन्न भागों में अब तक किसानों द्वारा किए जा रहे आंदोलन तो शांत होगा ही साथ ही इससे किसानों को बड़ी राहत मिलेगी। यही नहीं किसानों की कर्ज माफी को लेकर अब तक विपक्ष जिस प्रकार से राजे सरकार को किसान विरोधी बता रहा था और उसे चुनावी मुद्दा बनाने की पूरी तैयारी के साथ जुटा हुआ था। बजट में कर्ज माफी की घोषणा के साथ ही यह मुद्दा उसके हाथ से निकल गया है।

 यही नहीं राजे ने बजट में किसानों की कर्ज संबंधी समस्याओं के स्थाई हल के लिए एक स्थाई संस्थान राजस्थान राज्य कृषक ऋण राहत आयोग के गठन की भी घोषणा की। यह आयोग स्थायी रुप से निरंतर कार्य करेगा। किसान इस आयोग के समक्ष अपना पक्ष रखकर मेरिट के आधार पर राहत प्राप्त कर सकेंंगे। बजट में किसानों के फसली ऋण हेतु केन्द्रीय सहकारी बैंकों के माध्यम से अल्पकालीन ब्याज मुक्त फसली ऋण वितरण हेतु 384 करोड़ ब्याज अनुदान एवं 160 करोड़ क्षतिपूर्ति ब्याज अनुदान के रूप में प्रावधान किया गया है। बजट में किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम मिले इसके लिए राजफैड को मूल्य समर्थन योजना के अंतर्गत सरसों और चने की उपज को समर्थन मूल्य पर खरीदने हेतु 500 करोड़ का ब्याज मुक्त ऋण उपलब्ध कराने की घोषणा की गई है। 

मुख्यमंत्री ने बताया कि किसानों को उनकी उपज का वाजिब दाम मिले इसके लिए इस वर्ष अभी तक 2 हजार 814 करोड़ रुपए से 5 लाख 51 हजार मैट्रिक टन मूंग, उड़द, मूंगफली एवं सोयाबीन की समर्थन मूल्य पर खरीद की जा चुकी है। समर्थन मूल्य पर किसानों से की गई खरीद के भंडारण हेतु राजस्थान राज्य भंडार व्यवस्था निगम द्वारा 350 करोड़ रुपए की लागत से 5 लाख मैट्रिक टन भंडारण क्षमता के गोदामों का निर्माण कराने की घोषणा की गई। बजट में वर्षा जल संरक्षण हेतु फार्म पोंड (कुंड) बनाने के लिए अनुदान 50 प्रतिशत और नलकूपों से सिंचाई जल के लिए जल हौज निर्माण हेतु 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 60 प्रतिशत करने और अधिकतम राशि 75 हजार से बढ़ाकर 90 हजार किए जाने की घोषणा की गई। 

बजट में किसानों को सिंचाई सुविधाएं, बीज और उर्वरक उपलब्ध कराने के साथ ही उन्हें बाजार में उचित दाम मिले इसकी अनेक घोषणाएं की है। किसानों के कल्याण की विभिन्न योजनाओं के अलावा मुख्यमंत्री राजे ने शिक्षित बेरोजगार नौजवानों को शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों पर नियुक्ति के लिए 77 हजार 100 रिक्त पदों पर आगामी वित्तीय में भर्ती किए जाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बजट में 17 उपखंड मुख्यालयों पर नए राजकीय महाविद्यालय खोलने और कोटा में नवीन कृषि महाविद्यालय खोलने और अलवर जिले के नौगांवा में कृषि अनुसंधान केन्द्र के परिसर में कृषि महाविद्यालय खोलने की घोषणा की। इसके अलावा चित्तौड़गढ़, रतनगढ, गुढ़ागौड़जी, औसियां, शिवगंज में राजकीय कन्या महाविद्यालय खोलने की घोषणा की।

 युवाओं को रोजगार के कौशल प्रशिक्षण दिए जाने जनजाति क्षेत्र के युवाओं के लिए कौशल प्रशिक्षण योजना शुरू करने की घोषणा की। सभी जिला मुख्यालयोंं पर स्थित राजकीय आईटीआई, आयुक्तालय जयपुर एवं निदेशालय जोधपुर में 22 करोड़ रुपए की की लागत से इंटरनेट आधारित स्मार्ट क्लास रूम स्थापित कर इन्हेंं डिजिटल आईटीआई के रूप में विकसित किया जाएगा। इस सुविधा से छात्रों को एनीवेयर, एनी टाइम, एनी डिवाइस  लर्निग का लाभ मिलेगा। मुख्यमंत्री ने आईटीआई को डिजिटल इंडिया से जोड़ते हुए परंपरागत परीक्षा प्रणाली के स्थान पर ऑन लाइन परीक्षा आयोजित करने की घोषणा की। पढ़े लिखे बेरोजगार युवकों को कौशल प्रशिक्षण के अधिक अवसर प्रदान करने हेतु प्रदेश में 8 नई आईटीआईज खोलने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बजट में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य क्षेत्र में बेहतर सेवाएं उपलब्ध कराने हेतु प्रदेश में 28 नए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (पीएचसी) खोलने और 16 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रोंं को सीएमसी में क्रमोन्नत किए जाने की घोषणा की। साथ ही 4 हजार 514 नर्स ग्रेड द्वितीय और 5 हजार 558 महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता भर्ती किए जाने की घोषणा की। 

शिक्षा के क्षेत्र में विभिन्न श्रेणी के एक हजार 832 विद्यालयों को क्रमोन्नत किए जाने की घोषणा की। इसके साथ ही देश में पहली स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना की मुख्यमंत्री ने घोषणा की।। झुझुनूं में राज्य क्रीड़ा संस्थान स्थापित किए और खेल भवन के लिए 3 करोड़ रुपए का प्रावधान किए जाने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने बजट में हर वर्ग के लिए कुछ न कुछ राहत दिए जाने की घोषणा की। हर क्षेत्र में राहत के साथ ही बजट में आम आदमी को राहत देने के लिए कोई भी नया कर नहीं लगाया है। मुख्यमंत्री ने अपने बजट भाषण  की शुरुआत शेर पढक़र की, ‘मंजिलें बड़ी जिद्दी होती है, हासिल कहां नसीब से होती है, वहां तूफान भी हार जाते हैं, जहां किश्तियां जिदे पर होती है।’ मुख्यमंत्री ने बजट भाषण के बीच में फिर शेर पढ़ा- ‘मैं किसी का बेहतर करूं बहुत फर्क पड़ता है।’ मुख्यमंत्री ने भाजपा के कद्दावर नेता एवं प्रेरणापुंज श्री भैरोंसिंह शेखावत की स्मृति में भैरोंसिंह शेखावत अंत्योदय स्वरोजगार योजना की घोषणा की। इस योजना में आगामी वर्ष में 50 हजार परिवारों को 50 हजार रुपए तक ऋण व 4 प्रतिशत ब्याज पर बिना रहन उपलब्ध कराए जाने की घोषणा की। 

यहां पर उल्लेखनीय है कि देश भर में चल रही अन्त्योदय योजना दिवंगत शेखावत द्वारा राज्य का मुख्यमंत्री रहते हुए शुरू की थी। इसके अलावा जनसंघ और भाजपा के साथ रहे सुंदरसिंह भंडारी की स्मृति में ईबीसी योजना शुरू किए जाने की भी मुख्यमंत्री ने घोषणा की। मुख्यमंत्री ने पर्यटन की दृष्टि से जयपुर की पुरानी रौनक लौटाने के साथ ही प्रदूषण से मुक्ति के लिए जयपुर में 40 इलेक्ट्रिक बसें संचालित किए जाने की घोषणा की। नए न्यायालयों के साथ ही पुलिण् आधुनिकीकरण के लिए बजट में पुलिस को हाईटेक बनाने के लिए 91 करोड़ रुपए व्यय किए जाने की घोषणा की। पत्रकार साहित्यकार कल्याण कोष से एक लाख की सहायता दिए जाने की भी घोषणा की। 

बजट में गरीबों के आवास की रजिस्ट्री पर छृट, ईडब्ल्यूएस के मकान पर दो के बजाय एक प्रतिशत की ड्यूटी लगाने, एलआईजी के मकान पर साढ़े तीन प्रतिशत के बजाए दो प्रतिशत ड्यूटी और 30 वर्ष की लीज पर पंजीयन शुल्क में 20 फीसदी की छूट की घोषण की। कुल मिलाकर मुख्यमंत्री राजे ने अपने 707 पृष्ठ के बजट भाषण में 269 बिंदुओं की चर्चा की और अपनी सरकार का पांचवां बजट पेश करते हुए दो घंटे 11 मिनट में इसे पूरा किया। उन्होंने अपना बजट भाषण एक शेर पढक़र शुरू किया और आखिर में भी एक शेर पढक़र इसे समाप्त किया। बजट में किसानोंं, नौजवानों, गरीबों, महिलाओगं, के हित के साथ ही गांवों और शहरी विकास संतुलन बनाए रखने का प्रयास किया है।
 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the lend of Sun, Send and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.