इन मंदिरों में होती है महाभारत के खलनायकों की पूजा

Samachar Jagat | Tuesday, 22 Nov 2016 10:38:54 AM
इन मंदिरों में होती है महाभारत के खलनायकों की पूजा

महाभारत में अपनी अहम भूमिका निभाने वाले कृष्ण को भगवान मानकर तो लोग उनकी पूजा करते ही हैं इसके साथ ही महाभारत के कुछ और पात्र ऐसे हैं जिनकी पूजा की जाती है। यहां तक की इनके मंदिर की स्थापना भी की गई है। हम आपको यहां ऐसे ही मंदिरों के बारे में बता रहे हैं जहां राम, कृष्ण की नहीं बल्कि गांधारी, कर्ण, दुर्योधन, शकुनी की पूजा होती है। चलिए आपको बताते हैं इन मंदिरों के बारे में...

कौन था ययाति और क्यों दिया उसने अपने ही पुत्रों को श्राप

कर्ण का मंदिर :-

कर्ण के इस मंदिर में लोग अपनी मनोकामना पूर्ति के लिए आते हैं, इस मंदिर की मान्यता है कि यहां आने वाले की हर मुराद पूरी हो जाती है। कर्ण का यह मंदिर उत्तराखंड के देवरा में स्थित है। जब लोगों की मनोकामना पूरी हो जाती है तो लोग यहां सिक्के फेंकते हैं।

गांधारी का मंदिर :-

गांधारी कौरवों की माता थी, मैसूर में गांधारी का मंदिर स्थित है। 2008 में इस मंदिर की स्थापना की गई थी। एक रिपोर्ट अनुसार, इस मंदिर का निर्माण करने में करीब 2.5 करोड़ रुपए खर्च किए गए थे।

दुर्योधन का मंदिर :-

दुर्योधन की पूजा के लिए केरल के कोल्लम में मलानादा नाम का मंदिर बहुत ही प्रसिद्ध है। यह शकुनी मंदिर के पास ही स्थित है। इस मंदिर में ताड़ी चढ़ाई जाती है। इसके अलावा लाल कपड़े और सुपारी भी लोग चढ़ाते हैं।

जानिए कैसे? यज्ञ के प्रसाद से हुआ राम और उनके तीनों भाईयों का जन्म

शकुनी का मंदिर :-

केरल के कोल्लम जिले में शकुनी का मंदिर है जो की दुर्योधन के मंदिर के पास ही स्थित है। इस मंदिर में एक पत्थर है जिसके बारे में कहा जाता है कि इसे शकुनी ने खुद इस्तेमाल किया था।

भीष्म का मंदिर :-

भीष्म का मंदिर इलाहाबाद में है। जहां उन्हें तीरों के ऊपर सोते हुए दिखाया गया है। यह भारत में भीष्म का इकलौता मंदिर है।

इन ख़बरों पर भी डालें एक नजर :-

कितना जानते है आप स्मार्टफोन में डाली जानें वाली सिम के बारे में?

सावधान! सेंकड हैंड स्मार्टफोन लेनें जा रहे है तो रुकिए...  

बडें काम के है गूगल के ये ऐप्स

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.