सिर्फ शर्त लगाने की वजह से बना आरएएस 

Samachar Jagat | Saturday, 26 Nov 2016 01:13:02 PM
सिर्फ शर्त लगाने की वजह से बना आरएएस 

एडीएम में प्रथम आये जोधपुर के दुर्गेश बिस्सा आरएएस बने अपनी मेहनत और लग्न से इसके साथ ही एक और चीज़ थी जिसने इनको  आरएएस बनने को जुनूनी कर दिया था, वो था अपने दोस्त से लगाया हुआ एक शर्त। सर उस शर्त के कारन इन्होंने इतनी ऊंचाई पायी। हैरान करने वाली तो बात ज़रूर है। दुरगेसग दरअसल पोकरण के रहने वाले है पिताजी इनके शिक्षक है ,पहले सेकेंडरी हायर पोकरण में पास किया फिर जेनएयू से पीजी और बीएड किया। 

10 साल में इस पंडित ने अपने खून से लिख डाले 'गीता' और 'कुरान' के 555 पन्ने

फिर लेक्चररशिप के साथ इन्होने सिविल सर्विसेज की तैयारी करनी शुरू कर दी। एक दिन अचानक दोस्तों के साथ बैठे थे दुर्गेश ,तभी एक दोस्त ने कहा 'तेरा तो आरएएस में सिलेक्शन होना मुश्किल है, फालतू की माथाफोड़ी कर रहा है । 

तभी उससे उस दिन 100 रूपए की शर्त लगाई और जम के मेहनत शुरू की।वह दिन भी आया जब 1995 में आरएएस के इंटरव्यू परिणाम घोषित हुए। और दुर्गेश सेलेक्ट हो गए। 

अजीब सी चीज़ निकली इस इंसान के अंदर से, जानना चाहेंगे आप ?
उसी दिन हम दोस्त वापस गांधी चौक में मिले और दोनों दोस्त ने खुशी से गले लगाते हुए 100 रुपए का नोट हाथ हाथ में थमाया। पांच साल के लेक्चररशिप के बाद आरएएस बनना एक सुखद एहसास था।

read more :

अब इन ऐप्स की मदद से मैनेज करें अपना बजट 

अगर नहीं होना चाहते अपने प्यार से दूर, तो इन बातों का रखें खास ध्यान...

धरती पर बैठकर भोजन करने के फायदे

 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.